Share this


  • बोत्सवाना के ओकावांगो डेल्टा में हाथी मरे हुए मिले, ब्लूटूथ तस्वीरों से हुआ खुलासा
  • स्थानीय लोगों के अनुसार, जून के मध्य तक 70 प्रति हाथी जलाशय के किनारे मरे हुए मिले

दैनिक भास्कर

जुलाई 02, 2020, 01:57 अपराह्न IST

अफ्रीकी देश बोत्सवाना में पिछले दो महीने में 350 से अधिक हाथियों की मौत मौत हो गई है। मामला ओकावांगो डेल्टा का है जो देश के उत्तरी हिस्से में है। अफ्रीका में सबसे ज्यादा हाथी यहीं पाए जाते हैं। हाल ही में हाथियों की कई इलेक्ट्रॉनिक्स तस्वीरें सामने आई हैं जो चौकाने वाली हैं। 2 महीने से अधिक समय बीतने के बाद भी मौत का कारणों का पता नहीं चल रहा है।

हाथियों की मौत का पहला मामला मई में सामने आया था। इसके बाद लगातार मृत्यु हुई और जून के अंत तक आंकड़ा 350 को पार कर गया है। मृत्यु के इतने मामले सामने आने के बाद भी बोत्सवाना सरकार ने अब तक कोई जांच नहीं की है। इससे पहले जिंयो में शिकारियों द्वारा जानवरों को सायनाइड देने का मामला सामने आया था।

ऐसा मामला पहले नहीं देखा गया था
नेशनल पार्क रेस्क्यू के कंजर्वेशन डायरेक्टर डॉ। नियाल मैसेजन के मुताबिक, हाथियों की मौत बड़े स्तर पर हुई है। इससे पहले ऐसा मामला नहीं देखा गया है। सूखे की स्थिति को अलग कर दें तो मुझे नहीं लगता कि येकी मौत इससे पहले किसी दूसरी चीज से हुई होगी। वैज्ञानिकों ने सरकार से हाथियों की जांच करने का अनुरोध किया है ताकि ये साफ हो सकें कि इनसे इंसानों के लिए कोई खतरा नहीं है और न ही इंसानों से कोई संक्रमण इन तक पहुंचा।

कुछ की मौत झटके से तो कुछ ने धीरे-धीरे दम तोड़ा
स्थानीय लोगों के मुताबिक, हाथियों को एक चक्र में घुमते हुए भी देखा गया था। उन्हें देखकर लग रहा था या फिर बैक्टीरिया-वायरस के कारण इनकी मानसिक स्थिति बिगड़ी है या फिर जहर शरीर में पहुंच गई है। डॉ। नियाल मैसेजन के मुताबिक, शवास को देखकर लगता है कि कुछ ने एक झटके में दम तोड़ा है क्योंकि हाथियों का मुंह जमीन की तरफ है। वहीं कुछ की मौत धीरे-धीरे हुई जब वे फिर से जा रहे थे। ऐसा किस तरह के जहर से हुआ है कहना मुश्किल है।

सरकार ने 280 पशुओं की पुष्टि की
बोत्सवाना वाइल्डलाइफ डिपार्टमेंट के एक्टिंग डायरेक्टर डॉ। सिरिल ताओलो ने गार्जियन को बताया, हम हाथियों की मौत से वाकिफ हैं, 350 में से 280 जानवरों की मौत का कारण है। हम अन्य जानवरों का पता लगा रहे हैं। कोविद -19 के कारण हाथियों की जांच धीमी गति से हो रही है क्योंकि सैम्पल को विश्लेषकोंिस के लिए दूसरे देश में जोड़ा गया है।)

दलदलीय और हराभरा क्षेत्र में ओकावांगो डेल्टा है
ओकावांगो डेल्टा दलदलीय और हराभरा क्षेत्र है। अफ्रीका में सबसे ज्यादा हाथी यहीं पाए जाते हैं। यह जगह सफेद और काले गैंडों के लिए भी होनी चाहिए। यहां लगभग 15 हजार हाथी हैं। बोत्सवाना की वाइल्डलाइफ रहने के सैलानियों के लिए विशेष आकर्षण है। देश की जीडीपी का 12 प्रति रेवेन्यू यहीं से आता है।

कोविद -19 का टोन भी
स्थानीय लोगों के मुताबिक, शवों के आसपास गिद्दीन नहीं मंदरा रहे हैं इसलिए मौत की वजह जंगल से बाहर की कोई बात हो सकती है, को विभाजित -19 की आशंका से भी इंकार नहीं की जा सकती है। अफ्रीका में शिकार के बढ़ने के मामलों के कारण हाथियों की संख्या घट रही है। शिकार के मामले में बोत्सवाना की हालत सबसे ज्यादा खराब है।

देश हाथियों को बचाने में नाकाम रहा
नेशनल पार्क रेस्क्यू के कंजर्वेशन डायरेक्टर डॉ। नियाल मैक्सीसन ने इस घटना को ‘संरक्षण त्रासदी’ बताते हुए कहा, बोत्सवाना अपने देश की सबसे कीमती चीज को तत्कालने में फेल रहा।

राष्ट्रपति ने 5 साल से लगा शिकार पर बैन की पेशकश की
देश में हाथी सबसे ज्यादा खतरे में हैं क्योंकि किसान इन फसलों के लिए खतरा मानते हैं और शिकारी शिकार करने से बाज नहीं आते हैं। राष्ट्रपति मोकेगविसी संससी ने पिछले साल ही शिकार पर 5 साल से लगा बैन बचा लिया था। पूर्व राष्ट्रपति ईयान खाना ने अफ्रीका में जानवरों के शिकार पर बैन लगाया था।





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *