Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • डोनाल्ड ट्रम्प कोरोनावायरस संक्रमित बनाम जो बिडेन अमेरिकी राष्ट्रपति अभियान | यहाँ न्यूयॉर्क टाइम्स से नवीनतम अमेरिकी चुनाव 2020 समाचार है

वॉशिंगटनएक घंटा पहले

  • कॉपी लिस्ट

फोटो शुक्रवार शाम की है। तब तक राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ओवल ऑफिस से मायलैंड के मिलिट्री अस्पताल जाने के लिए निकले थे।

  • डोनाल्ड ट्रम्प और पत्नी मेलानिया शुक्रवार को कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे
  • ट्रम्प मायलैंड के मिलिट्री अस्पताल में एडमिट हैं, अगले कुछ दिन यहीं रहेंगे

चुनाव में अब सिर्फ एक महीना बाकी रह गया है। पहले इस बात पर बहस हो सकती थी कि कोरोनावायरस मतदाताओं के लिए कितना बड़ा मुद्दा है। लेकिन, अब नहीं। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और फर्स्ट लेडी मेलानिया टाइप हो चुके हैं। वे आगे कैंपेन कर रहे हैं या नहीं, कहना मुश्किल है। लेकिन, यह तय है कि अब कोरोनावायरस सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा बन गया है।

पिछले कुछ दिनों में ट्रम्प का बर्ताव देखें तो लगता है कि वे लोगों का ध्यान इस मुद्दे से हटाना चाहते थे। लेकिन, अब ऐसी चाहत भी नहीं हो सकती है। राष्ट्रवाद, हिंसा, व्हाइट सुप्रीम, सुप्रीम कोर्ट में जज की नियुक्ति ट्रम्प के पर्सनल टैक्स पर खुलासे। ये मुद्दे पीछे छूट गए हैं।

महामारी इसलिए सबसे बड़ा मुद्दा
‘न्यू अमेरिका ‘थिंक टैंक की हेड एनी मेरी स्लैटर कहती हैं- सार्वजनिक स्वास्थ्य सबसे जरूरी है। और अगर आप इस मुद्दे पर पास नहीं हैं तो लोगों के लिए बाकी चीजों का कोई महत्व नहीं है। सरकार की सबसे बड़ी जिम्मेदारी लोगों की हिफाजत करना है। दक्षिण कोरिया की मिसाल हमारे सामने है। वहां सरकार ने वायरस पर कंट्रोल किया। चुनाव हुए तो फिर सत्ता में आई। लोगों ने स्वास्थ्य के मसले पर उसके अच्छे काम को सराहा। महामारी के दौर में अमेरिकी चुनाव दुनिया का सबसे बड़ा चुनाव है। लेकिन, यहां ट्रम्प सरकार इस मुद्दे पर मुश्किल में नजर आती है।

समस्या ये है कि महामारी से कई मुद्दे जुड़ते चले गए। स्वास्थ्य के साथ इकोनॉमी और फ्रीडम भी जुड़ गए। सरकार की नाकामी नजर आने लगी। खुद राष्ट्रपति ने इसे गंभीरता से लिया। ये भी सामने आ गए। उन्होंने दुनिया में सबसे बुलंद आवाज़ में अपनी आवाज़ को नकार दिया। अब वोटर्स क्या फैसला करते हैं, इसका इंतजार रहेगा।

कुछ सवाल उठने लगे हैं …

अगर राष्ट्रपति का निधन हो जाए तो …
25 वें संविधान संशोधन के मुताबिक, अगर राष्ट्रपति का निधन हो जाता है, इस्तीफा दे देते हैं या वे काम करने के काबिल नहीं रह जाते हैं तो ये हालात में वाइस प्रेसिडेंट राष्ट्रपति की जिम्मेदारी निभाते हैं। अमेरिकी इतिहास में अब तक 8 बार ऐसा हो चुका है। अंतिम बार 1963 में हुआ था। जॉन एफ कैनेडी की हत्या के बाद लिंडन जॉनसन राष्ट्रपति बने थे।
अगर उप राष्ट्रपति की भी मौत हो जाए या वे काम करने के काबिल न हों तो, तय करें किनेट करता है कि क्या करना है। इसी सीनेट के स्पीकर को सत्ता सौंपे जाने की व्यवस्था है।

अगर प्रेसिडेंट गंभीर रूप से बीमार हो जाएं तो …
इन परिस्थितियों में प्रेसिडेंट सीनेट को यह बताएंगे कि वे गंभीर रूप से बीमार हैं और राष्ट्रपति के तौर पर अपनी शक्तियां उप राष्ट्रपति को सौंपना चाहते हैं। सीनेट इस पर मुहर लगाएगी। ट्रम्प भी ऐसा कर सकते हैं। हालांकि, व्हाइट के प्रवक्ता ने शुक्रवार को ही साफ कर दिया कि ट्रांसफर ऑफ पावर की जरूरत नहीं है क्योंकि ट्रम्प ही इनचार्ज हैं।

क्या राष्ट्रपति तो जबरदस्ती बचाए जा सकते हैं …।
25 वें संविधान संशोधन के मुताबिक, ऐसा हो सकता है। अगर वे गंभीर रूप से बीमार हो जाएं और फिर भी इस्तीफा न दे दें। 1919 में कुछ ऐसे ही हालात थे। वुडरो विल्सन पैरालाइज्ड हो गए थे। आँखों की रोशनी भी न के बराबर हो गई थी। संविधान के मुताबिक, इस स्थिति में वाइस प्रेसिडेंट काउंटर के साथ सरकार चली जाएगी। कांग्रेस सरकार चलाने के लिए कमेटी भी बना सकती है। यह प्रशासन तब तक जारी रहेगा जब तक प्रेसिडेंट सीनेट को यह न बता दे कि वह स्वस्थ हो गया है और अपना काम कर सकता है।

अगर अधिकार को लेकर कुछ तय हो सके तो …
सवाल उठता है कि अगर दोनों बड़े नेता (राष्ट्रपति और उप राष्ट्रपति) सरकार चलाने के काबिल न हों (किसी भी कारण से) तो क्या होगा। हार्वर्ड लॉ स्कूल के प्रोफेसर जैक गोल्डस्मिथ कहते हैं- इन परिस्थितियों में सीनेट स्पीकर या सरकार के सबसे बड़े मंत्री (ट्रम्पिसा में विदेश मंत्री माइक पोम्पियो) सत्ता संभाल सकते हैं।

अगर, ट्रम्प अब सरकार को पा चुके हैं तो ।।
रिपब्लिकन पार्टी की राष्ट्रीय कमेटी शब्द पूरा होने तक नया नाम तक कर सकता है। इसमें 168 इनबर हैं। हर राज्य के तीन मेंबर हो सकते हैं। लेकिन, चूंकि चुनाव प्रक्रिया जारी है। लिहाजा, ऐसा करना आसान नहीं होगा। क्योंकि, बैटल पर नाम प्रिंट हो चुके हैं।





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *