Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • अमेरिका के डोनाल्ड ट्रम्प भारत चीन | अमेरिकी डोनाल्ड ट्रम्प प्रशासन ने कहा कि अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न अंग है। चीन गलत दावा करता है।

वॉशिंगटन2 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पिछले साल 14 नवंबर को अरुणाचल प्रदेश दौरे पर गए थे। यहां उन्होंने 1962 के भारत-चीन युद्ध में शहीद हुए भारतीय जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की थी। चीन ने इस यात्रा का विरोध किया था।

  • अमेरिका के विदेश विभाग के मुताबिक, अरुणाचल प्रदेश भारत का एकमात्र हिस्सा है, चीन का इस पर दावा गलत है
  • यूएस स्टेट डिपार्टमेंट ने कहा- इस क्षेत्र में किसी बाहरी ताकत की तेजी का हम विरोध करते हैं

अमेरिका ने साफ कर दिया है कि अरुणाचल प्रदेश भारत का हिस्सा है और इस पर चीन जो दावा करता है, वे गलत हैं। अमेरिकी विदेश विभाग के मुताबिक, अरुणाचल प्रदेश में किसी बाहरी ताकत की दखलंदाजी बाधा मानी जाएगी, और अमेरिका इसके सख्त कदम उठाएगा। अमेरिकी राज्य डिपार्टमेंट ने ये भी कहा कि एलएसी पर रोक चाहे आम नागरिकों की हो या सैनिकों की, अमेरिका इसका विरोध करेगा।

जब की अहमियत
भारत और चीन के बीच लद्दाख में तनाव चल रहा है। यहाँ कई भागों में दोनों देशों के सैनिक आमने-सामने हैं। ऐसे ही अमेरिकी विदेश विभाग का भारत के समर्थन में बयान जारी करना, चीन पर दबाव बना सकता है। अमेरिकी विदेश विभाग की फॉरेन प्रेस सेंटर यूनिट ने इस बारे में गुरुवार को बयान जारी किया। कहा- भारत और चीन की सीमा पर मौजूद कुछ हिस्सों पर हम अपना नजरिया फिर साफ कर रहे हैं। अरुणाचल प्रदेश को हम 60 साल से भारत का अटूट हिस्सा मानते हैं। यहां होने वाली किसी भी एकतरफा कार्रवाई या टाइपिंग का अमेरिका विरोध करता है। फिर चाहे यह आम लोगों द्वारा की जाए या सेना द्वारा।

भारत के मोर्चे पर निर्भरता
विदेश विभाग ने कहा- भारत इस समय सुरक्षा संबंधी चुनौतियों का सामना कर रहा है। इसी समय भारत और अमेरिका के बीच रक्षा सहयोग तेजी से बढ़ा है, और ये दोनों देशों के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। हम भारत को एडवांस्ड सिस्टम और हथियार दे रहे हैं। इससे साफ हो जाता है कि अमेरिका भारत की सुरक्षा और संप्रभुता को लेकर कितनी दृढ़ता से उसके साथ खड़ा है। दोनों देश कानूनी स्तर पर सहयोग कर रहे हैं। हिंद महासागर और दूसरी जगहों पर साथ अभ्यास कर रहे हैं।

चीन को जवाब दिया जाएगा
विदेश विभाग ने साफ कर दिया कि वर्ष के अंत में भारत और अमेरिका के बीच मंत्री स्तर की बातचीत होगी। टोक्यो में अगले महीने क्वाड समूह की बैठक भी तय समय पर ही होगी। इसमें भारत, अमेरिका, जापान के अलावा ऑस्ट्रेलिया भी शामिल होगा। ये चारों ही देशों को चीन अलग-अलग मोर्चों पर चुनौती देने की कोशिश कर रहा है। इस बैठक में इन सभी देशों के विदेश मंत्री भाग लेंगे। स्टेट डिपार्टमेंट ने यह भी साफ कर दिया कि चीन के आक्रामक रवैये का मुकाबला करने में कोई कमी नहीं रखी जाएगी।





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *