Share this


न्यूयॉर्क19 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव की आखिरी वोटिंग 3 नवंबर को होनी है। अब तक सियासी समूह 54 हजार करोड़ रुपये खर्च कर चुके हैं। यह 2016 में खर्च हुई राशि 50 हजार करोड़ से अधिक है। ऐसे में अनुमान है कि इस चुनाव में खर्च 88 हजार करोड़ रुपये तक पहुंच सकता है।

चुनावी खर्च की निगरानी करने वाली संस्था सेंट्रल फॉर रेस्पॉन्सिव पॉलिटिक्स (सीपीआर) की सीईओ शीला क्रुमोलज ने बताया कि 2018 के मिड टर्म्स चुनाव में रिकॉर्ड तोड़ फंडिंग देखी गई थी और 2020 में ऐसी फंडिंग की थी तो हमने कल्पना नहीं की थी। चुनावों में इतनी ज्यादा फंडिंग ने हमारी उम्मीदों को तोड़ने दिया है।

यह अमेरिकी इतिहास का सबसे स्पष्ट चुनाव हो गया है और अंतिम मतदान में लगभग 1 महीने का वक्त बचा है। क्या यह भविष्य के चुनावों का नया नॉर्मल है। कोरोनावायरस की वजह से वोटर्स और दानर्स से नहीं मिल पा रहे हैं। सीआरपी ने नोटिस किया है कि डिजिटल विज्ञापन के जरिए लोग वोटर्स तक पहुंच रहे हैं और वोटर को खर्च करने के लिए उत्साहित कर रहे हैं।

वहीं वेसलियन मीडिया प्रोजेक्ट की स्टडी बताती है कि डिजिटल माध्यम से खर्च करने के मामले में बाइडेन की टीम ट्रम्प से आगे।]बाइडेन ने सितंबर में टीवी विज्ञापनों के माध्यम से 686 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। वहीं ट्रम्प ने 299 करोड़ रुपये खर्च किए हैं।

टीम बाइडेन ने फेसबुक और गूगल विज्ञापनों पर 234 करोड़ रुपये खर्च किए, जबकि ट्रम्प ने 167 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। इसकी वजह यह है कि ट्रम्प अप्रैल से चुनावी कैंपेन में सक्रिय हैं और अग से ​​कैंपेन शुरू किया गया है। ओवरऑल खर्च में डेमोक्रेटिक नेताओं का हिस्सा 54% और ट्रम्प की रिपब्लिकन का 39% है।

ट्रम्प इलेक्शन कैंपेन और दूसरी डिबेट में भी ले भाग लेंगे

ट्रम्प के डॉ। सीन कोनले ने कहा कि ट्रम्प शनिवार से विभिन्न कार्यक्रमों में भाग ले सकते हैं। हालांकि अमेरिकी गाइडलाइंस के मुताबिक संदिग्ध शख्स की निगेटिव रिपोर्ट आने के बाद उसे 10 दिन की सजा में रहना पड़ता है। अभी तक ट्रम्प की निगेटिव रिपोर्ट के बारे में कोई सूचना नहीं आई है।

२०१६ की तुलना में की% वृद्धि हुई है छोटे दानकर्ताओं की संख्या

  • महिलाएं 2020 के इस चुनाव में 12.4 हजार करोड़ रुपये दान कर चुकी हैं। 2016 में महिलाओं ने 9.5 हजार करोड़ रुपये का चंदा दिया था।
  • 200 डॉलर (लगभग 14, 600 रु।) से कम राशि दान करने वाले लोग दानकर्ताओं की संख्या 2016 की तुलना में 8% 22% पहुंच से अधिक है।
  • छोटे डोनर ने बाइडेन को 472 करोड़ रुपए की राशि दी है, वहीं ट्रम्प को इस समूह से महज 122 करोड़ रुपए का चंदा मिला है।
  • बड़ी कंपनियों के 15 सीएसओ ने ट्रम्प को 19 करोड़ रुपए का चंदा दिया है और बाइडेन को 30 कंपनियों के सीईओ ने महज 4 करोड़ रुपए दिए हैं।





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *