Share this


” मस्जिदें हमारी छावनी हैं, गुंबदें हमारी रक्षा कवच, मीनारें हमारी तलवार और इस्लाम के अनुयायी हमारे सैनिक हैं। ” बात आज की एक मस्जिद की करेंगे, मीनारों और दीवारों की भी करेंगे, इस्लामीकरण की ओर से तेजी से बढ़ते एक मुल्क के मुक्कदर की करेंगे और साथ ही इसको लेकर खींचे जाने वाले तलवारों की भी करेंगे। इस्लामिक देश बनने की ओर से तेजी से कदम बढ़ाते तुर्की में एक बड़ा वाक्या देखने को मिला। तुर्की के काले सागर तट से एक बड़े प्राकृतिक गैस का भंडार मिला है। इसके बाद प्राकृतिक गैस के आयात पर तुर्की की निर्भरता को कम करने में मदद करेगा। तुर्की के राष्ट्रपति के मुताबिक, काला सागर में ’फ़तेह जिसे ड्रिलिंग फ्रैंक कहा जाता है, यह खोजा गया है यह गैलन 320 अरब क्यूबिक मीटर है। वहीं तुर्की में ही देखता है चर्च को तोड़ कर मस्जिद में बदलने का सिलसिला सा चल रहा है। इस्लामीकरण की हवा देश में तेजी से चल रही है और देश के राष्ट्रपति एर्दोआन इस कट्टरता की मुहिम के शासक हैं। इस्तांबुल के एक लोकप्रिय चोरा चर्च जिसे कारी संग्रहालय भी कहते हैं को मस्जिद में बदल दिया गया है। इसके पहले तुर्की में जिस चर्च को तोड़ कर मस्जिद में बदला गया था वह उसे था हागिया सोफिया चर्च के नाम से जाना जाता था। इस चर्च को मस्जिद बनाने देने को लेकर दुनिया भर में तुर्की को विरोध झेलना पड़ा। अब आपको गैस के भंडार और चर्च को मस्जिद में बदलने व तुर्की में इस्लामीकरण की हवा तेजी से चलने के पीछे की कहानी से अवगत रखते हैं।

यह भी पढ़ें: अरुण जेटली: अटल-आडवाणी के साथ से मोदी, नीतीश के ख़ास तक

एक टीवी सीरियल डिरिलिस एर्टुगरुल, 2014 में आया और अपने मुल्क तुर्की में खोपुलर रहा। बहुत की लगभग पाँच सीज़न चली गई। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने इसको देखने की अपील भी कर डाली। यह मुसलमानों का गेम ऑफ थ्रोन्स कहा जा रहा है। अगर एक लाइन में एर्तुग्रुल को परिभाषित करें तो अटान एम्पायर यानी उस्मानिया सल्तनत के उभरने की गौरव गाथा। जिसकी टाइमलाइन 600 सालों की यानी 1299 से 1922 तक है।
उस्मानी सल्तनत 16 वीं शताब्दी में इतना ताकतवर हो गया था कि कई भाषाओं वाले भू-भाग पर राज करता था। मुस्लिम तुर्की की आक्रामक मंगोलो से लेकर पूर्वी रोमण साम्राज्य वालों से हुई लड़ाईएँ। आर्तग्रुल गाजी उस्मानिया सल्तनत के संस्थापक उस्मान के पिता थे। इसको तुर्की के सरकारी टीवी चैनल टीआरटी -1 पर प्रसारित किया गया था। इस सीरज में ऐतिहासिक तथ्यों से ज्यादा इस्लामिक राष्ट्रवाद और रजब तैयब एर्दोआन की राजनीति के साथ वर्तमान के सियासी मूड को भुनाने की पूरी कोशिश की गई है। ऐसा भी कहा जा रहा है कि गिरती अर्थव्यवस्था से एर्दोआन की लोकप्रियता कम हो गई है, इसलिए मुस्लिम बहुसंख्यकों को कट्टरता की तरफ घकेल रहे हैं वे खुश हैं नजर आ रहे हैं। जैसा कि हमने आपको बताया कि तुर्की में गैस का भंडार मिला है और फ़तेह नामक ड्रिलिंग जहाज़ ने इसे क्षतिग्रस्त कर दिया है। अब आपको बताते हैं कि मुहम्मद द्वितीय फ़ातिह 1444 से 1446 और 1451 से 1481 तक उस्मानिया साम्राज्य के पुनर्गठन के बाद। उन्होंने क़रीब 21 साल की उम्र में क़ुस्तुंतुनिया पर फ़तेह करके बाज़न्ती साम्राज्य को हमेशा के लिए ख़त्म कर दिया था। मतलब गैस को खोजने के लिए ड्रिलिंग जहाज का नाम भी इइ सुल्तान से प्रभावित तक रखा गया था।

यह भी पढ़ें: बाटला हाउस एनकाउंटर: 12 साल बाद गैलेंटरी अवॉर्ड से सम्मानित हुए मोहन चंद शर्मा

तुर्की के राष्ट्रपति की विदेश मामलों की रणनीति का लक्ष्य मुस्लिम होने का गर्व वापस लाना है। वो ऑटोमन का आधुनिक वर्जन लाना चाहते हैं ताकि तुर्क इस्लामिक महानता का नेतृत्व कर सकें। जिसका जिक्र उन्होंने कई बार अपने भाषणों में भी किया है। अर्दोआन कई बार इस बात को कह चुके हैं कि तुर्की एकमात्र देश है, जो इस्लामी दुनिया का नेतृत्व कर सकता है। जाहिर है एर्दोआन जब ऐसा कहते हैं तो उनके दिमाग में अटान साम्राज्य की विरासत बनी रहेगी। वह सोवियत साम्राज्य, जो सोवियत संघ से बहुत बड़ा था। यह 2.2 करोड़ वर्ग किलोमीटर में फैला था। अवन साम्राज्य का विस्तार मिस्र, ग्रीस, रोमानिया, रोमानिया, मेसिडोनिया, हंगरी, फ़लस्तीन, जॉर्डन, लेबनान, सीरिया, अरब के ज़्यादातर भागों और उत्तरी अफ़्रीका के ज्यादातर तटीय इलाक़ों तक था। यह साम्राज्य मुस्लिम शासकों को मान्यता देता था। एर्दोआन को लगता है कि इस्लामिक दुनिया का नेतृत्व करना तुर्की का ऐतिहासिक हक़ है। लेकिन एर्दोआन इस बात को भूल जाते हैं कि वे अब 2.2 करोड़ वर्ग किलोमीटर वाले अटान साम्राज्य के सुल्तान नहीं हैं, बल्कि सात लाख 83 हज़ार वर्ग किलोमीटर में सिमट्रेड तुर्की के राष्ट्रपति हैं।
तुर्की के एक मुस्लिम बहुल्य देश हैं जहाँ लगभग 98 प्रतिशत जनता इस्लाम को मानती है और तुर्की की गिनती उन गिने-चुने मुस्लिम देशों में होती है जिनके पास सबसे ज्यादा धर्मनिरपेक्ष यानी सेक्युलर माना जाता रहा है। वर्ष 1299 से 1922 तक तुर्की में अवन साम्राज्य का शासन था। 1923 में तुर्की को इस साम्राज्य से आजादी मिल गई और इट्रेय तुर्की के पूर्व तानाशाह मुस्तफा कमाल अतातुर्क को है।
वो तानाशाह होने के साथ ही प्रगतिशील भी थे और तुर्की को एक सेक्युलर देश बनाना चाहते थे। जो फ्रांस के सेक्युलरिज्म के सिद्धांत पर आधारित था। जिसके तहत धर्म और सरकार को एक दूसरे से अलग रखा जाता है। 1924 में कांस्ट मेक और 1928 में इस्लाम से राज्य रिलीजन का दर्जा वापस लिया गया। संविधान के तहत ही अतातुर्क ने तुर्की की सेना को देश में हमेशा सेक्युलरिज्म कायम रखने की जिम्मेदारी दी। तुर्की में धार्मिक प्रतीक चिन्हों के इस्तेमाल पर भी पाबंदी लगा दी गई थी। भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू आधुनिक तुर्की के संस्थापक मुस्तफा कम अतातुर्क की राजनीतिक विचारधारा की बहुत सराहना करते हैं।

यह भी पढ़ें: RSS के प्रमुख दस्तावेज ‘पांचजन्य’ ने आमिर खान पर उठाए सवाल, लिखा- ड्रैगन का प्यारा खान

1965 और 1971 के युद्ध में जब तुर्की ने पाकिस्तान का समर्थन किया तो दोनों देशों के रिश्तों में दरार और बढ़ गई। वर्ष 2000 में तुर्की के तत्कालीन प्रधानमंत्री बुलेंट एसविट ने भारत का दौरा किया। लगभग 15 वर्षों में किसी तुर्की नेता का यह पहला दौरा था। तुर्की के राष्ट्रपति ने पाकिस्तान के सैन्य शासक जनरल परवेज मुशर्रफ के लोकतंत्र को तोड़नेकर सत्ता में आने की आलोचना की।
वर्ष 2003 में तत्कालीन भारतीय प्रधान मंत्री विहारी वाजपेयी ने भी तुर्की का दौरा किया था। तुर्की में उनका जमकर स्वागत हुआ। जब दोनों देशों के संबंध सामान्य होने की ओर आगे बढ़ रहे थे, तब तुर्की की राजनीति में एर्दवान का उदय हुआ। वर्ष 2002 में एर्दोआन ने इस्लाम की वापसी का नारा देते हुए चुनाव जीता। एर्दोआन सत्ता में आते ही तुर्की के सेक्युलर ताने-बाने को ढहाते हुए उसे इस्लामिक राष्ट्र की तरफ से आयात करने में लगे हुए हैं। अर्दोआन के तुर्की की राजनीति में उभार में इस्लामिक कट्टरता की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। उनके भाषणों से मुसलमानों को यह लगता है कि वह धर्म की रक्षा और उसके हित की बात कर रहे हैं, लेकिन इसके साथ ही कई तरह के विरोधाभास भी दिखते हैं। एर्दोआन जब 2003 में तुर्की के प्रधानमंत्री बने, तब यूएसवी की हमले की तैयारी कर रहा था। एर्दोआन की सद्दाम हुसैन से नहीं बनती थी। यहाँ तक कि उन्होंने अमरीका को इराक़ के ख़िलाफ़ युद्ध में तुर्की की ज़मीन का इस्तेमाल करने देने का मन बना लिया था। हालांकि एर्दोआन का यह उदाहरण पूरा नहीं हुआ क्योंकि संसद में तीन वोट से यह प्रस्ताव गिर गया। इराक की अमरीका के हमले में इस्लाम के हज़ारों अनुयायी मारे गए, मस्जिदें ध्वस्त हुईं, मीनारे टूटीं और एर्दोआन इस युद्ध में अमरीका के साथ थे। एक तरफ़ एर्दोआन का मुस्लिम प्राइड और उसके हित की बात करना और दूसरी तरफ़ इराक़ में अमरीका के हमले का समर्थन करना दोनों बिल्कुल उलट हैं।

यह भी पढ़ें: इस्लामीकरण की ओर तेजी से बढ़ रही तुर्की, हागिया सोफिया के बाद एक और चर्च को मस्जिद में बदल दिया गया

इस्लामिक दुनिया में नेतृत्व की जंग
मुस्लिम दुनिया के कई धड़ों में बंटी हुई है और हर कोई इस्लामिक दुनिया का नेतृत्व करने की होड़ में है। खाड़ी के अरब देश और मिस्त्र जहां अमेरिका के गुट में शामिल हैं, वहीं कतर और तुर्की अपने ही बनाए रास्ते पर चल रहे हैं जबकि ईरान, सीरिया और लेबनान में हिजबुल्लाह अलग गुट बनाए हुए हैं। सऊदी अरब को लगता है कि सदन के नियंत्रण के इस्लामिक पवित्र स्थल मक्का और मदीना हैं। यहां हर साल दुनिया भर से 20 लाख से ज्यादा मुस्लिम आते हैं। ऐसे में इस्लामिक दुनिया का नेतृत्व वही कर सकता है। हालाँकि तुर्की ख़ुद को सऊदी से ज़्यादा ताक़तवर मानता है और उसे लगता है कि वो मुसलमानों का सच्चा हितैशी है। अर्दोआन का इस्लामिक राष्ट्रवाद और सऊदी अरब को रोकने की रणनीति के साथ चल रहे हैं। एर्दोआन फ़लस्तीन और रोहिंग्या मुसलमानों को लेकर भी मुख्यमंत्री रहे। इस्तांबुल अरब वर्ल्ड के बाग़ियों का भी पसंदीदा अड्डा बना। पिछले कुछ समय में पाकिस्तान, मलेशिया और तुर्की मिलकर मुस्लिम देशों का अलग गठजोड़ खड़ा करने की कोशिश करते दिखे हैं। पिछले साल संयुक्त राष्ट्र महासभा के दौरान तीनों देशों ने इस्लामोफोबिया को लेकर आवाज उठाई थी। तुर्की ने हाल ही में एक मुजियम को मस्जिद में तब्दील कर साफ संदेश दिया कि वह अब यूरोप की तरफ नहीं बल्कि इस्लामवाद की तरफ आगे बढ़ना चाहता है। तुर्की की इस कोशिश में पाकिस्तान उसे भरपूर समर्थन दे रहा है। ऐसा लग रहा है कि चीन और पाकिस्तान के समर्थन से तुर्की सऊदी से उसकी जगह छीनकर इस्लामिक दुनिया का नेतृत्व करने की भूमिका में आना शुरू हो रहा है।

इसे भी पढ़ें: आमिर खान ने तुर्की की पहली महिला से की मुलाकात, सोनी पर शेयर की गई होमरे

वहीं तुर्की के साथ भारत के संबंध ऐतिहासिक रूप से निचले स्तर पर हैं और पाकिस्तान से भारत की शत्रुता उसके बनने के बाद से ही हो रहे हैं। लेकिन सऊदी अरब पाकिस्तान का ऐसा दोस्त है जिसने हर मुश्किल को उसके साथ दिया है। हाल के दिनों में पाकिस्तान को तुर्की की दोस्ती इस कदर रास आई है कि वह सऊदी को भी किनारे कर दे रहा है। सऊदी से पाकिस्तान की इस दूरी के पीछे भी कश्मीर मुद्दा ही है। जहाँ कश्मीर मुद्दे पर सऊदी भारत को समर्थन दे रहा है, वहीं, तुर्की खुलकर पाकिस्तान के साथ खड़ा है। यही कारण है कि कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म होने के बाद से जितनी तेजी से भारत और पाकिस्तान के बीच कड़वाहट बढ़ी है, उतनी ही तुर्की भी। भारत से संबंध खराब करने में तुर्की के राष्ट्रपति रेचप तैयप एर्दवान की महत्वपूर्ण भूमिका है। एर्दवान तुर्की जैसे आधुनिक और सेक्युलर मूल्यों वाले देश के कट्टर इस्लामिक राष्ट्रपति हैं जो उसी आईने में विदेश संबंधों को भी देखते हैं। कश्मीर भी उनके इसी इस्लामिक प्रोजेक्ट का हिस्सा है। तुर्की के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हामी एकसोय ने कहा कि भारत ने अपने इस कदम से जम्मू-कश्मीर के हालात और जटिल बना दिए हैं और इससे क्षेत्र में शांति और स्थिरता कायम करने में कोई मदद नहीं मिली है। तुर्की ने कश्मीर मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र के चार्टर और प्रस्तावों के तहत बातचीत के जरिए हल की बात कही। जहां ता बात तुर्की में तेजी से बढ़ते इस्लामीकरण की है और चर्च को मस्जिद में बदलने की तो अमेरिका से लेकर रूस तक दोनों पहले बार एक सूर में इस कदम की मुखालिफत की है। यूनेस्को ने भी चिट्ठी भेजकर इसपर आपत्ति जताई है। – प्रदर्शन आकाश



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *