Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • कमला हैरिस VP डिबेट | डेमोक्रेटिक वाइस प्रेसीडेंट नॉमिनी सीनेटर कमला हैरिस ने अमेरिकी चनाव को जीतना बहुत अच्छी तरह से जाना

वॉशिंगटन39 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

थोड़ा पीछे जा रहे हैं देखते हैं। फरवरी में ऐसा लग रहा था जैसे प्रेसिडेंट इलेक्शन 2020 में सिर्फ विचारधारा के मुद्दे पर फैसला होगा। दो बिल्कुल अलग विचारधाराओं के बीच। प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प खुद को लोकप्रिय और पराक्रमी नेता मानते हैं। वे इससे जुड़े मुद्दों पर चुनाव लड़ना चाहते हैं। दूसरी ओर डेमोक्रेट्स हैं। वे हेल्थ कैर और न्यू ग्रीन डील जैसे मुद्दे भी आए। कुल मिलाकर एक ओर राजनीति थी और दूसरी ओर संस्कृति। इन दोनों के मेल पर चुनाव हो जाता है।

बदल गया चित्र
लेकिन, अब तस्वीर बिल्कुल बदली हुई नजर आ रही है। अब लग रहा है कि जैसे यह चुनाव अमेरिकी इतिहास का पहला ऐसा चुनाव है जहां विचारधारा की कोई जगह नहीं बची है। सिर्फ कुछ मुद्दे नजर आ रहे हैं और दोनों को करंट अफेयर्स ने कहा जाएगा। पहला- ट्रम्प से कैसे छुटकारा पाया जाए। दूसरा- कोरोनावायरस को कैसे ठीक किया जाए। ये बदलाव तीन स्तर पर आए। प्रथम- डेमोक्रेट्स के प्राइमरी वोटर्स ने ट्रम्प को हराने का फैसला किया। दूसरा- महामारी से कैसे निपटा जाए। तीसरा- जो बाइडेन और कमला हैरिस की रणनीति।

डिबेट में कमला हैरिस शानदार रहे
बाइडेन और कमला हैरिस ने बहुत प्रोफेशनल तरीके से कैम्पेन किया है। उन्होंने मीडिया को ज्यादा तवज्जो नहीं दी। बल्कि, उस बड़े वर्ग पर फोकस किया गया जो परेशान हो गया है। मिडिल क्लास के लोगों तक पहुंच बनाई। में रिटायर लोगों से मिले। और हर उस जगह तक पहुंचे, जहां लोग अपनी बात कहना चाहते थे। डेमोक्रेट्स की क्या रणनीति है? इसे आप उनके डिबेट परफार्मेंस में देख सकते हैं। लोग सवाल कर रहे हैं कि वाइस प्रेसिडेंशियल डिबेट में कौन जीता? लेकिन, बड़ा सवाल ये है कि व्हेन इलेक्शन स्ट्रैटिज के हिसाब से परफॉर्म किया गया। यहां कमला हैरिस साफ तौर पर आगे नजर आईं। रिपब्लिकन पार्टी और माइक पेन्स के पास कोई रणनीति ही नहीं थी।

हैरिस ने कमजोरियों को दूर कर लीं
पिछले साल हैरिस ने डेमोक्रेट्स की डिबेट में हिस्सा लिया। कुछ लोगों ने उनकी काबिलियत पर सवाल उठाया। बतौर वकील उनके रिकॉर्ड का जिक्र किया गया। लेकिन, बाद में उन्होंने काफी मेहनत की। और ये मामला अब साफ नजर आता है। पिछले साल उन्हें सीनेट का सबसे लिबरल मेंबर कहा गया था। उन्होंने न्यू ग्रीन डील का समर्थन किया। मेडिकेयर फॉर ऑल के साथ खड़ी नजर आईएन। लेकिन, बुधवार को डिबेट में वे अलग दिखीं। कोविद -19 के मुद्दे पर उन्होंने ट्रम्प को कठघरे में उठाया कर दिया। गर्भपात को महिला का अधिकार बताया। सुप्रीम कोर्ट में जजों की नियुक्ति पर तर्क दिया गया। ओबामा कैर बिल का समर्थन किया।

राष्ट्रवाद पर बहुत सावधानी से बोली लगाई
राष्ट्रवाद और न्याय की बात हुई तो उन्होंने इसे सिस्टम का हिस्सा मानने से इनकार कर दिया और बताया कि बतौर वकील वे इसे कैसे देखती हैं।]विवादित बातों से वे बचती नजर आईं। इकोनॉमी से ग्रीन डील और फ्री कम्युनिटी कॉलेज के बारे में भी बोली। रिपब्लिकन अकसर बाइडेन को कमजोर उम्मीदवार बताते हैं कि तंज कसते हैं। हैरिस ने इसका भी जवाब दिया है। उन्होंने इशारों-इशारों में ये भी साफ कर दिया कि चुनाव जीतने के बाद उनकी प्रवृत्ति वामपंथियों की तरफ से होगी। बाइडेन और कमला हैरिस की जोड़ी दिखा रही है कि वे नए सिरे से शुरुआत करने में सक्षम हैं।





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *