Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • किम जोंग उन उत्तर कोरिया | उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन प्योंगयांग में एक सैन्य परेड में भाषण के दौरान भावुक हो जाते हैं।

प्योंगयांग4 दिन पहले

सोमवार को नॉर्थ कोरिया में सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी की 75 वीं सालगिरह के भाषण के दौरान उसम जोंग उन देते हैं। इस दौरान उन्होंने सैनिकों का शुक्रिया अदा किया।

  • नॉर्थ कोरिया में वर्कर्स पार्टी सत्ता में है, इसका 75 वां स्थापना दिवस सोमवार को प्योंगयांग में मनाया गया
  • इस दौरान मिलिट्री परेड भी हुई, सलामी लेने के बाद किम जोंग उन ने लंबा भाषण दिया

नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन सोमवार को भावुक नजर आए। वर्कर्स पार्टी की 75 वीं वर्षगिरह पर उन्होंने राष्ट्र को संबोधित किया। इस दौरान सैनिकों का शुक्रिया अदा किया गया। अपनी जटिलताओं के लिए माफी मांगी। फिर नम आंखों से पोंछते नजर आए। इस दौरान सैनिकों के बलिदान का भी जिक्र किया गया। दावा किया कि उत्तर कोरिया में कोरोना का कोई मामला नहीं है।

स्कूली बच्चे भी मौजूद रहे
वर्कर्स पार्टी के 75 वें स्थापना दिवस के लिए कई दिनों से तैयारियां की जा रही थीं। देश के अलग-अलग हिस्सों से हजारों लोग राजधानी प्योंगयांग पहुंचे। सबसे पहले मिलिट्री परेड हुई। इसमें नॉर्थ कोरिया की सैन्य ताकत को दिखाया गया। मिसेंड भी नजर आई.एन. उसम जोंग उन ने सलामी ली। इसके बाद का भाषण दिया। इस दौरान स्कूली बच्चे भी मौजूद थे।

सैनिकों का शिकंजा
किम ने कहा- मैं अपने सैनिकों के बलिदान और उनके साहस के लिए शुक्रगुजार हूं। हमने कई कठिन चुनौतियों का सामना किया है। हाल ही में देश में तूफान और कोरोनावायरस का सामना किया गया है। इस दौरान सैनिकों ने फिर साबित किया कि वे कितने कठिन हालात में काम करते हैं। उन्होंने देश को सम्मन से बचाया और वायरस से भी। अगर मैं देश के लोगों के विकास में कहीं नाकाम रहा तो इसके लिए माफी मांगता हूं। इस दौरान उस चश्मे उतारकर आंसू पोंछते नजर आए।

नॉर्थ कोरिया में संक्रमण नहीं
उसम ने आगे कहा- मुझे इस बात की खुशी है कि हमारे देश में कोरोनावायरस का एक भी केस नहीं है। हालांकि, दक्षिण कोरिया और अमेरिका किम जोंग के इस दावे पर सवालिया निशान लगाते आए हैं। उसम ने कहा- सकता हो सकता है कि मेरी कोशिशें और लगान पर्याप्त नहीं रहे हों। लेकिन, मैं ये भी जानता हूं कि मेरे देश के लोग मुझ पर कितना भरोसा करते हैं। ’यूएन की एक रिपोर्ट के मुताबिक, नॉर्थ कोरिया के 40 फीसदी लोग खाने की कमी से जूझ रहे हैं। हाल ही में आए तूफानों और कोरोना ने यहां की अर्थव्यवस्था को बेहद कमजोर कर दिया है।





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *