Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • ब्रिटेन के एंड्रिया, जिन्होंने कैंसर को हराया, Summit सी टू समिट ’ट्रायथलॉन पूरा करने वाली पहली महिला बनीं, जो 538 किलोमीटर की दूरी तय करती हैं

लंदन6 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

2017 में एंड्रिया को एंडोमेट्रियोसिस और सर्वाइकल कैंसर का पता चला था, जिसके बाद जीवन बचाने के लिए सर्जरी करनी पड़ी।

  • 330 किमी साइडिंग, 170 किमी रनिंग और 38 किमी स्वीमिंग कर हासिल की उपलब्धि
  • एंड्रिया को तीन साल पहले पता चला था कि वे एंडोमेट्रियोसिस, सर्वाइकल कैंसर से पीड़ित हैं

कैंसर को मात देदं ब्रिटेन की 39 साल की एंड्रिया मेसन सम सी टू समिट ’ट्राएथलेट चैलेंज पूरा करने वाली पहली महिला बन गई हैं। उन्होंने कुल 538 किमी की दूरी तय की। फ्रांस के ले एनेसी में 38 किमी की तैराकी के बाद मेसन ने मोंट ब्लैंक पर 330 किमी साइडिंग की।

तैराकी में उन्हें 10 घंटे से भी कम का समय लगा। अंत में उन्होंने मोंट ब्लैंक पर केवल 170 किमी की रनिंग और हाइकिंग की। यह यूरोप की दूसरी सबसे बड़ी चोटी है। इन सब में मेसन को 4 दिन 23 घंटे और 41 मिनट का समय लगाया गया। इस दौरान वे काफी कम सोती थे और खाना भी कम हो गया था।

सबकुछ योजना के हिसाब से हुआ: मेसन

ट्राएथलेट पूरा करने के बाद एंड्रिया ने कहा, कि मैं खुश हूं कि सब कुछ प्लान के हिसाब से हुआ। मैं इसे 5 दिनों के अंदर पूरा करना चाहता था और कर दिखाया। लेकिन, यह काफी मुश्किल था। क्योंकि सोने के लिए सीमित समय था, लेकिन मैं सो नहीं पाती थी। इसके अलावा दौड़ने के समय मैं अपने पास खाना नहीं रख सकता था। मालूम हो, ट्राएथलेट एक मल्टी स्पोर्ट्स रेस होता है। इसमें तैराकी, साइडिंग और रनिंग करनी होती है।

कई बार ट्राएथेल छोड़ने का विचार

एंड्रिया बताती हैं कि कई मौकों पर उनके मन में ट्राएथिल को छोड़ने का भी विचार आया। लेकिन, हर बार वह याद करता है कि इसकी शुरुआत क्यों की गई थी? 2017 में उन्हें एंडोमेट्रियोसिस और सर्वाइकल कैंसर का पता चला था। जिसके बाद जीवन बचाने के लिए सर्जरी करनी पड़ी। ऑपरेशन सफल होने के बाद से उन्होंने महिलाओं के स्वास्थ्य को लेकर लोगों को जागरूक करने का फैसला लिया।

एंड्रिया को पहले रनिंग और हाइकिंग के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी

39 साल की एंड्रिया ट्राएथलेट को इंग्लैंड, स्कॉटलैंड और वेल्स में पूरा करना चाहते थे। उन्होंने फ्रांस के चैमोनिक्स में अपना उदय बनाया था। लेकिन, वापस लौटने से पहले ही कोरोना की वजह से बॉर्डर बंद हो गए। उन्हें योजना बदलनी पड़ी। एंध्रिया ने बताया कि योजना में काफी चुनौतियां थीं। रनिंग और हाइकिंग पार्ट के बारे में उन्हें ज्यादा जानकारी नहीं थी। इन सब के बीच उन्होंने 4 सितंबर से इसकी शुरुआत की और 5 दिनों के अंदर पूरा कर दिखाया।

0





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *