Share this


PATNA : कोरोना ने एक और पुलिस कर्मी की जान ले ली. टाउन थाना जहानाबाद में तैनात दारोगा ने संक्रमित होने की जांच रिपोर्ट के बाद अस्पताल में दम तोड़ दिया़ वह 2009 में दारोगा के पद पर नियुक्त हुये थे. सरकार की घोषणा के अनुसार उनके परिवार के एक सदस्य को नौकरी या विशेष पेंशन की अतिरिक्त सुविधा दी जायेगी. पुलिस एसोसिएशन ने दोनों लाभ देने की मांग की है. इससे पहले एक दरोगा और एक हवलदार की मौत हो चुकी है. करीब 750 पुलिस कर्मी संक्रमित हो चुके हैं. जिला औरंगाबाद के थाना हसपुरा के ग्राम शिवभजन बिगहा निवासी की 16 जुलाई को पॉजिटिव होने की जानकारी हुई थी. रिपोर्ट आते ही उनको मगध मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल गया में भर्ती करा दिया गया था. वहां उनका उपचार चल रहा था. शनिवार को उनकी तबियत बिगड़ी और मौत हो गयी. परिवार में पत्नी रीता देवी के अलावा तीन पुत्री और दो पुत्र हैं. एक पुत्र जन्म से ही विकलांग है.

बिहार पुलिस एसोसिएशन के अध्यक्ष मृत्युंजय कुमार ने कहा है कि गजेंद्र के परिवार की आर्थिक स्थिति बहुत अच्छी नहीं है. उनके परिवार के एक सदस्य को नौकरी तथा विशेष पेंशन के साथ – साथ बच्चों के पढ़ाई की व्यवस्था भी सरकार के द्वारा होना चाहिये. गौरतबल है कि सरकार ने शनिवार को कैबिनेट की बैठक में निर्णय लिया है कि कोरोना योद्धा की संक्रमण के कारा मौत होती है तो उनके परिवार के एक सदस्य को नौकरी अथवा विशेष पेंशन में जो चाहेंगे वह लाभ दिया जायेगा. विशेष पेंशन के तहत मृत कर्मचारी की सेवा जितनी बची होगी उतने समय तक पूरा वेतन दिया जायेगा.

रविवार को पीएमसीएच के सात डाॅक्टर कोरोना पाॅजिटिव पाये गये हैं. ये डाॅक्टर विभिन्न विभागों के हैं. इसके साथ ही यहां के चार ड्रेसर भी संक्रमित मिले हैं. इसके साथ ही यहां से रविवार को कुल 34 कोरोना के केस पाये गयें. यहां कुल 327 टेस्ट किये गये जिसमें से 107 पाॅजिटिव मामले सामने आये हैं. इनमें पटना के विभिन्न इलाकों के लोग शामिल हैं. पीएमसीएच से लगातार कोरोना पाॅजिटिव केस मिलने का सिलसिला जारी है. यहां के काफी डाॅक्टर और स्टाफ अब तक कोरोना पाॅजिटिव पाये जा चुके हैं. इसके कारण यहां के काम काज पर भी असर पड़ा है.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *