Share this


  • 15 जून को गलवान में 20 भारतीय जवान शहीद हुए थे
  • मोदी ने सर्वदलीय बैठक में कहा था कि सेना को नि: शुल्क सप्ताह दिया जाता है

दैनिक भास्कर

Jul 03, 2020, 11:18 AM IST

लद्दाख। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सुबह 8.30 बजे अचानक लद्दाख पहुंच गए। गलवान की झड़प के 18 दिन बाद मोदी पहले लेह-लद्दाख का दौरा कर रहे हैं। पहले से दौरे की जानकारी नहीं थी, लेकिन आज अचानक मोदी के लद्दाख पहुंचने की खबर आई। मोदी ने नीमू में 11 हजार फीट ऊंची फॉरवर्ड लोकेशन पर आर्मी, एयरफोर्स और आईटीबीपी के जवानों से बात की। उनके साथ शेफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और आर्मी चीफ एमएम नरवने भी हैं।

मोदी ने जवानों से बातचीत का फोटो इंस्टाग्राम पर शेयर किया है। वे गलवान झड़प में घायल हुए सैनिकों से भी मुलाकात करेंगे।

राजनाथ के जाने का कार्यक्रम था, मोदी पहुंच गए
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का गुरुवार को लद्दाख जाने का कार्यक्रम था, लेकिन उन्हें टाल दिया गया। आज फिर उम्मीद की जा रही थी कि राजनाथ लद्दाख पहुंचेंगे, लेकिन अचानक मोदी पहुंच गए।

मोदी ने कहा था- हमें जवाब देना आता है
मोदी ने 28 जून को मन की बात कार्यक्रम में कहा था कि लद्दाख में भारत की भूमि पर नज़र उठाकर देखने वालों को कर जवाब मिला। हमें दोस्ती निभाना और आंखों में आंखें डालकर जवाब देना आता है। अपने वीर सपूतों के परिवारों के मन में जो जज्बा है, उन पर देश को गर्व है। लद्दाख में हमारे जो वीर जवान शहीद हुए हैं, उनके शौर्य को पूरा देश नमन कर रहा है।

सर्वदलीय बैठक में कहा गया था- सेना को मुक्त सप्ताह दिए गए
गलवान की घटना के बाद मोदी ने 19 जून को सर्वदलीय बैठक भी बुलाई थी। उन्होंने कहा कि सेना को मुफ्त ब्रांडों दे दिया है। साथ ही कहा था कि हम शांति चाहते हैं, लेकिन कोई उकसाएगा तो जवाब देने में भी सक्षम हैं।

तनाव कम करने के लिए भारत-चीन की आर्मी के अफसरों की बातचीत भी हो रही है। 30 जून को लेफ्टिनेंट जनरल लेवल की तीसरी बैठक हुई थी। इसमें इस बात पर जोर दिया जा रहा है कि विवादित क्षेत्रों से सैनिक हटाए जाएं।

गलवान से भास्कर की ग्राउंड रिपोर्ट यहां पढ़ें …

उन परिवारों की कहानियाँ, जिनके बारे में यह लंबी सड़कों में तैनात हैं

एयरफोर्स ने लेह में मौजूद मीडियावालों को फाइटर प्लेन के वीडियो बनाने से रोक दिया

आकाश में उड़ते फाइटर प्लेन लेह के लोगों को कैसे करगिल युद्ध की याद दिला रहे हैं?

रसूल गलवान की चौथी पीढ़ी को अपने दादा के अब्बा की पूरी कहानी पिछले हफ्ते ही पता चली है

लद्दाख के तुरिज्म को 400 करोड़ का नुकसान, इतना तो करगिल युद्ध के वक्त भी नहीं हुआ था

पुरानी बात: चीनी सैनिक लाउडस्पकर पर ले तन डोले मेरा मन डोले का गाना बाजाते थे और फिर कहते थे- सर्दी आने वाली है, पोस्ट छोड़ दो

गलवान में 15 जून की रात की कहानी: जब भारतीय कर्नल को चीन के जवान ने मारा तो 16 बिहार रेजिमेंट के 40 जवान उस टूट गए थे





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *