Share this


  • दोनों देशों के लेफ्टिनेंटैंडर्स की मंगलवार को 12 घंटे की बैठक के बाद फैसला हुआ
  • रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और अरमी चीफ मनोज मुकुंद नरवने शुक्रवार को लेह जाएंगे

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 08:14 PM IST

नई दिल्ली। भारत और चीन के सैंडरों के बीच बैठक में तय हुआ है कि तनाव कम करने के लिए दोनों देश अपनी सेनाएं पट्टी में हटाएंगे। चीनी मीडिया ग्लोबल टाइम्स ने बताया कि दोनों देशों के लेफ्टिनेंट जनरल ने मंगलवार को लगभग 12 घंटे की बैठक में यह फैसला लिया था।

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और आर्मी चीफ मनोज मुकुंद नरवने शुक्रवार को लेह जाएंगे। वहाँ पर वे पूर्वी लद्दाख में सुरक्षा कारणों की समीक्षा करेंगे। इस दौरान रक्षा मंत्री सेना के बड़े अफसरों के साथ हाई लेवल बैठक भी कर सकते हैं। पूर्वी लद्दाख में पिछले सात हफ्तों से भारत और चीन की सेना कई स्थानों पर टकराव की स्थिति में है।

मंगलवार को हुई बैठक में भारत की ओर से 14 कोसंदरर लेफ्टिनेंट जनरल हरमिंदर सिंह और चीन की ओर से तिब्बत मिलिट्री केैंडर मेजर जनरल लियू लिन शामिल थे।

धीरे-धीरे ही बया जा सकता है तनाव

  • इस बैठक में कहा गया कि एलएसी पर तनाव घटाने की प्रक्रिया कठिन है। इस समय मनगढ़ंत और फर्जी पैटर्न से बचना चाहिए।
  • मंगलवार को हुई बातचीत में दोनों देशों ने 6 जून को पहली बारंदर लेवल की बातचीत में बनी आपसी समझ को लागू करने की बात कही।
  • सूत्रों के मुताबिक, बातचीत से एलएसी पर तनाव कम करने की दोनों ओर से सकारात्मक रूख आया है। दोनों देशों में मिलिट्री और डिप्लोमैटिक लेवल पर भी बातचीत हो सकती है।
  • यह सीनियर मिलिट्रींडर लेवल की तीसरी बैठक है, जिसमें दोनों पक्षों ने जोर दिया था कि एक फेज की बातचीत के जरिए धीरे-धीरे ही तनाव बया हो सकता है।

भारत-चीन सीमा पर सैनिकों को हटाने के लिए योगदान- ग्लोबल टाइम्स
ग्लोबल टाइम्स ने सूत्रों के हवाले से बताया कि मंगलवार को गांदर लेवल की बातचीत में दोनों देशों ने स्पष्ट रूप से अपनी बात कही। इस दौरान आपसी विश्वास बढ़ाने, मतभेदों को दूर करने, एलएसी से सैनिकों को टुकड़ों में हटाने और हालात को सामान्य बनाने पर सहमति बनी।

ग्लोबल टाइम्स ने लिखा- अब यह जरूरी है कि भारत को चीन से खुद से ऊपर मिलना चाहिए। बॉर्डर पर सैनिकों के एक्शन पर सख्ती से लगाम लगानी चाहिए। कट्‌टरवादी कदम नहीं उठाना चाहिए और भारत-चीन के सीमा क्षेत्रों में शांति की रक्षा करनी चाहिए। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने बुधवार को कहा कि भारत और चीन नेधरर लेवर की बातचीत के जरिए हालतों को सामान्य बानाने में अच्छी प्रगति की है।

ये भी पढ़े जा सकते हैं …
1। चीन को डर सता रहा है कि गलवान में मारे गए सैनिकों की संख्या बता दी जाए तो देश में विद्रोह हो जाएगा: रिपोर्ट

2। बातचीत के दिखावे के बीच चीन ने एलएसी पर 20 हजार सैनिक भेजे, भारत ने भी जवाबी तैयारी की, अक्टूबर के पहले हालात में कहराना मुश्किल है

3। चीन ने अब भूटान की जमीन पर दावा किया; भूटान का जवाब- दावा गलत है, वो हमारे देश का अटूट हिस्सा है

4। टिक टॉक, यूसी शेखर और शेयर इट सहित 59 चाइनीज ऐप्स पर बैन, सरकार ने कहा- ये देश की सुरक्षा और एकता के लिए





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *