Share this


6 घंटे पहलेलेखक: रवीन्द्र भजनी

  • कॉपी लिस्ट
  • आजलान की रैली को संबोधित कर रहे हैं ट्रम्प
  • कोविद -19 पॉजिटिव होने के बाद पहली रैली ट्रम्प की होगी

को विभाजित -19 महामारी को इतिहास में नौ से ज्यादा महीने हो गए हैं। इसने किसी को नहीं छोड़ा। दुनिया के सबसे शक्तिशालीवर शख्स अमेरिकी प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प को भी नहीं। दस लाख से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं। इतना होने के बाद भी डोनाल्ड ट्रम्प सिर्फ नौ दिन के ट्रीटमेंट में ठीक हो गए हैं।

अब कहा जा रहा है कि वे शनिवार को रॉबर्ट को चुनावी रैली को संबोधित कर सकते हैं। जो ट्रम्प शुरू से कोविड -19 को महत्व नहीं दे रहे थे, उन्होंने ही सबसे कम वक्त में उसे हरा दिया। 74 वर्षीय ट्रम्प के खिलाफ उनकी उम्र ही नहीं बल्कि ब्लडप्रेशर, मोटापा और अन्य बीमारियां भी थी, जो को विभाजित -19 को गंभीर बना सकती थी।

पिछले सोमवार को प्रेसिडेंट के ब्लड सैम्पल लिए गए। इसमें प्रोटेक्टिव ग्रेड मिले हैं। फार्मा कंपनी के मुताबिक, वह रीजेनेरन की कंपनी थैरेपी का असर था। ट्रम्प ने भी बुधवार को वीडियो में दावा किया कि रीजेनेरन फार्मा की एक्सपेरिमेंटल थैरेपी से ही वे ठीक हुए। अब दवा कंपनी ने फेडरल रेगुलेटर्स से इमरजेंसी यूज के लिए अपनी ट्रीटमेंट को अनुमति देने की अपील की है।

रीजेनेरन और उसकी दवा क्या है?

  • सभी जानते हैं कि कोविद -19 रोगियों को ठीक करने के लिए नए-नए एक्सपेरिमेंट्स चल रहे हैं। शरीर में वायरस काउंट और रिकवरी टाइम कम करने की कोशिश भी हो रही है। अमेरिकी दवा कंपनी रीजेनेरन का ट्रीटमेंट भी इस समय के प्रयोग के दौर में है।
  • रीजेनरन ने दो मोनोक्लोनल दवाओं का कॉम्बिनेशन REGN-COV2 बनाया है, ताकि SARS-CoV-2 (वायरस जिसकी वजह से को विभाजित -19 होता है) की Infacting की क्षमता को वह अवरुद्ध कर सकता है।
  • REGN-COV2 को विकसित करने के लिए वैज्ञानिकों ने हजारों ह्यूमैन एंड का इवेल्यूशन किया है। कंपनी ने एक चूहे को मनुष्यों के रूप में इम्युन सिस्टम विकसित करने के लिए जेनेटिकली मोडिफाई किया। उसके बाद फिर ह्यूमैन एंड ली। जो लोग कोविद -19 से उबर चुके हैं, उनके शरीर से बहुत बड़े ली।

यह दवा किस तरह का काम करती है?

  • इस थैरेपी में दो समक्लोनल और REGN10933 और REGN10987 का इस्तेमाल किया गया है, जो SARS-COV-2 वायरस को इनएक्टिव करते हैं। इससे उसके शरीर में फैलने की क्षमता रुक जाती है और बचना समय कम हो जाता है।
  • वर्तमान में यह दवा विक्रेताओं ट्रायल के फेज में है। इसे उन प्रभावित व्यक्तियों में वायरल लोड कम करने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है, जो घर पर इलाज कर रहे हैं। अमेरिका में 275 मरीजों पर इसका इस्तेमाल किया गया है। अगले सप्ताह और 1,300 रोगियों पर इसका उपयोग होगा। यूके में भी मिडिल से मिड-स्केल क्लिनिकल ट्रायल्स चल रहे हैं।
  • मोनोक्लोनल और शरीर में किसी पर्टिकुलर सेल से जुड़ते हैं। यह शरीर में इंफेक्शन को फैलाने से रोकते हैं। एक्सपर्ट्स को लग रहा है कि जेनेटिकली विकसित शरीर को विभाजित -19 इंफेक्शन को शरीर से लड़कर भगाने में कीड़े लग रहा है।

क्या इससे पहले भी मोनोक्लोनल और का इस्तेमाल किया गया है?

  • हां। मोनोक्लोनल और का का इस्तेमाल पहली बार नहीं हो रहा है। इससे पहले कुछ कैंसर के खिलाफ भी इसका इस्तेमाल किया गया है। मोनोक्लोनल और को बोन मैरो के प्लल्स से निकाला जाता है।
  • इसे विशेष रूप से वायरस को टारगेट करने और शरीर की नेचुरल दवाओं को कॉपी करने के लिए विकसित किया गया है। ट्रीटमेंट्स इससे पहले रैबीज, हेपेटाइटिस बी में भी किए गए हैं, लेकिन कोई ठोस नतीजे सामने नहीं आए हैं।)

वैक्सीन के आने से पहले क्या उपचार ट्रीटमेंट प्रभावी है?

  • वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि इस तरह के उपचार ट्रीटमेंट वैक्सीन की उपलब्धता और सेफ्टी के अंतर को दूर कर सकते हैं। उन्हें बनाना आसान है। इसकी अनिश्चितता भी अच्छी है। यह उन समूहों में भी अच्छे परिणामजे दे सकता है जिन पर वैक्सीन अच्छी नहीं होती है। यह मॉर्टेलिटी रेट को ऊपर जाने से रोक सकता है।
  • इससे पहले जॉन थॉमसकिंस यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने भी कॉन्वेल्सेंट प्लॉट (और-रीच ट्रीटमेंट) पर काम किया है ताकि कोविड -19 इंफेक्शन को रोका जा सके और रिकवरी टाइम को कम किया जा सके।

क्या इसके किसी तरह के खतरे भी हैं?

  • ट्रीटमेंट की दवाओं और थैरेपी शरीर के इम्युन रिस्पॉन्स को मजबूत करते हैं, लेकिन इस बात के कोई सबूत नहीं है कि बीमारी ट्रीटमेंट से कोई साइड-इफेक्ट नहीं होता है।
  • प्ल थैरेपी की ही तरह, ट्रीटमेंट या दवाएं भी कोविड -19 से प्रत्येक मरीज के लिए सही नहीं है। सब, टॉक्सिसिटी, चक्कर आना या अन्य साइड-इफेक्ट का एक कायम रहता है।





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *