Share this


  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • जयशंकर ने कहा कि दोनों देशों के बीच बातचीत जारी है, लेकिन कुछ चीजें गुप्त हैं, रिश्ते की नींव टूट जाएगी और दोनों को नुकसान होगा।

20 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

फोटो 9 सितंबर की है। मॉस्को में शंघाई कोऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन (एससीओ) की बैठक में भारत, रूस और चीन के विदेश मंत्रियों की बैठक हुई थी।

भारत के विदेश मंत्री एस। जयशंकर ने भारत-चीन सीमा विवाद पर चर्चा चल रही है। गुरुवार को ब्लूमबर्ग इंडिया इकोनॉमिक फॉर में जयशंकर ने कहा कि दोनों देशों के बीच बातचीत जारी है, लेकिन इसमें कुछ चीजें सीक्रेट हैं, लिहाजा किसी भी तरह का पूर्वानुमान लगाने की कोशिश न करें। अगर रिश्तों की आलोचनाद हिली, तो खामियाजा भी दोनों देशों को सहनाना होगा।

जयशंकर ने यह भी कहा कि बीते 3 दशकों से भारत-चीन संबंधों की दृढ़ता इस बात से आंकी जाती रही है कि लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोलर (एलएसी) पर कितनी शांति है। समस्या कभी भी भारत ने पैदा नहीं की थी। सीमा पर तनाव कम करने के लिए दोनों देश लगातार बातचीत कर रहे हैं।

‘किसी भी तरह का अंजाजा न खोजें’
यात्रा के यह पूछे जाने पर कि भारत-चीन की बातचीत का क्या नतीजा निकलेगा, इस पर जयशंकर ने फिर कहा कि काम प्रगति पर है। बातचीत जारी है, लेकिन कई चीजें कॉन्फिडेंशियल हैं। अभी लोक रूप से कुछ भी कहना सही नहीं होगा। एलएसी से सटे इलाकों में सैन्य टुकड़ी तैनात की गई है। इससे पहले बीते महीनों में ऐसा नहीं किया गया था।

जयशंकर के मुताबिक, दोनों देशों (भारत-चीन) के बीच व्यापार के बीच कई मुद्दे आते हैं। इनकी बेहतरी का आकलन एलएसी पर शांति से किया जाता है। सीमा पर शांति बनी रही, इसके लिए दोनों देशों ने 1993 में कई समझौते किए थे। अगर हम इन धारणाओं का सम्मान नहीं करेंगे तो यह संबंध बिगड़ने का प्रमुख कारण रहेगा।

15 जून को लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों ने कंटेले तार से भारतीय जवानों पर हमला किया था। इसमें हमारे 20 जवान शहीद हो गए थे। चीन के 40 सैनिक मारे गए थे, पर उसने कभी पुष्टि नहीं की थी। गलवान के बाद दोनों देशों के बीच 7 दौर की बातचीत हो चुकी हैं, पर लद्दाख से सेना हटाने को लेकर अब तक कोई ठोस नतीजा नहीं निकला है।

भारत-चीन सीमा विवाद पर आप ये खबरें भी पढ़ सकते हैं …
1। गलवान झड़प के 80 दिन बाद पहली बैठक: चीन ने कहा- सीमा विवाद के लिए भारत पूरी तरह से जिम्मेदार, भारत की दो टूक- एलएसी पर सेना बढ़ाना समझौते का उल्लंघन
2। लद्दाख में तनाव कम करने की कोशिश: भारत-चीन के विदेश मंत्रियों की बैठक में 5 पॉइंट पर सहमति; बातचीत जारी रखते हुए सैनिक हटेंगे, माहौल बिगाड़ने वाली कार्रवाई नहीं होगी





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *