Share this


एक दिन पहले

गांव के लोग चाहते हैं कि ट्रम्प के फाइनेंस और टैक्स चोरी की जांच हो और उन पर कानूनी कार्रवाई की जाए। (फाइल फोटो)

  • गोल्फकोर्स रिसॉर्ट बनाने के लिए ट्रम्प ने गांव बाल्मेडी की बिजली-पानी बंद करा दी थी
  • लोग बोले- करोड़ों के निवेश व रोजगार का झांसा देकर हमें पूरा किया

(एबरडिन शायर) अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के ननिहाल स्कॉटलैंड के लोग नहीं चाहते कि ट्रम्प दोबारा सत्ता संभालें। स्कॉटलैंड के एबरडिन शायर में बाल्मेडी नाम का गांव है। इसे मेनी भी कहा जाता है। यहां रहने वाली सुजैन केली कहती हैं- अपने हम तो उनके अपने थे। हमें नहीं बक्शा जारी रखें

12 साल पुराने स्कीकोर्स रिसाॅर्ट बनाने के मामले में ट्रम्प ने गांव वालों की बिजली-पानी की लाइन तक कटवा दी थी। इसलिए अब वे चाहते हैं कि ट्रम्प के फाइनेंस और टैक्स चोरी की जांच हो और उन पर कानूनी कार्रवाई की जाए।

2006 में ट्रम्प ने 1400 एकड़ जमीन बनाई थी

दरअसल, वर्ष 2006 में ट्रम्प ने मेनी गांव में 1400 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया था। यहां विश्वस्तरीय एलेक्सकोर्स रिसॉर्ट बनाने के नाम पर उन्होंने 10 हजार करोड़ रुपये निवेश का भरोसा दिलाया। यह भी कहा कि 6 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा और अर्थव्यवस्था मजबूत होगी। 2008 में जब गोल्फकोर्स मेकिंग शुरू हुई, तब लोगों को पता चला कि उनवर्ती मकान से बेदखल किया जा रहा है। ट्रम्प नहीं चाहते थे कि उनकी प्रॉपर्टी से गरीब और उनके मकान दिखाई पड़ें।

लोगों के कब्ज़े के लिए उनके घरों के पानी-बिजली का कनेक्शन कटवा दिया। आसपास के सैकड़ों पेड़ उखड़वाकर उनकी जमीन पर इतना मलबा डाल दिया कि आसपास के घर दिखने ही बंद हो गए। इन घरों से जो समुद्र दिखता था, उसकी जगह सिर्फ मलबा दिखने लगा। पुलिस से लेकर आला अफसरों तक शिकायत की गई पर कोई सुनवाई नहीं हुई। उल्टे हन की रॉबर्ट गार्डन यूनिवर्सिटी ने ट्रम्प को बिजनेसिस्ता में मानद डिग्री दे दी।

इसके खिलाफ उसी विश्वविद्यालय के भूतपूर्व प्रिंसिपल ने अपनी डिग्री लौटाकर विरोध भी दर्ज करवाया था। ट्रम्प की इसी डिग्री के खिलाफ सुजैन ने अभियान शुरू किया। इसमें लगभग 6 लाख लोगों ने दीखत कर की मांग की कि यह डिग्री निरस्त होनी चाहिए। इस अभियान के बाद ब्रिटेन के वेस्टमिनस्टर में सांसदों ने बहस की है कि क्यों न ट्रम्प के यूके आने पर पाबंदी लगा दी जाए।

ट्रम्प ने विवाद पर बनी फिल्म है यू हैवव ट्र ट्रम्पड ’पर पाबंदी लगा दी थी

एंथनी बैक्सटर एक डॉक्यूमेंट्री फिल्म निर्माता हैं। उन्होंने 2011 में है यू हैव बिन ट्रम्पड के नाम की फिल्म बनाई। इस फिल्म को ट्रम्प ने ब्रिटेन-अमेरिका सहित कहीं भी रिलीज नहीं होने दिया। 2016 के चुनाव से पहले बैक्सटर ने घोषणा की उन्होंने इस फिल्म का हिस्सा -2 भी बनाया है। तब तक 92 वर्ष मौली को नदी से पानी भरकर अपने टॉयलेट में डालते हुए दिखाया गया है। फिल्म के रिलीज पर केस चलता रहा और जुलाई 2020 में इन फिल्मों की रिलीज की अनुमति मिली। ट्रम्प के लिए चिंता का विषय यह है कि यूरोप ही नहीं, अमेरिका में भी सोशल मीडिया पर ये दोनों फिल्में जंगल में आग की तरह चल रही हैं।





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *