Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • ट्रम्प ने कहा कि मैं ठीक हूं, उनके चीफ ऑफ स्टाफ ने कहा कि उनके लक्षण चिंताजनक हैं; रिपब्लिकन पार्टी ने नई अभियान रणनीति तैयार की

वॉशिंगटन3 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

फोटो पिछले सप्ताह की है। तब डोनाल्ड ट्रम्प ने रिपब्लिकन सीनेटर्स से व्हाइट हाउस में मुलाकात की थी। ट्रम्प ने उन्हें बताया था कि वे सुप्रीम कोर्ट की दिव्य न्यायियों रूथ गिन्सबर्ग की जगह एमी कोने बैरेट को नॉमिनेट कर रहे हैं।

तीन दिन पहले कोरोना पॉजिटिव हुए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड की सेहत पर सस्पेंस है। दरअसल, शनिवार को तीन बयान आए थे। तीनों में अलग-अलग बातें कही गईं। ट्रम्प ने एक वीडियो जारी कर कहा- मैं ठीक हूं। उनके चीफ ऑफ स्टाफ मार्क मेडोस ने कहा- राष्ट्रपति में जो लक्षण देखे गए हैं, वे आगे बढ़ने वाले हैं। उनका इलाज कर रहे हैं व्यक्तिगत फिजिशियन डॉ। सीन कॉनले के मुताबिक- प्रेसिडेंट बेहतर महसूस कर रहे हैं।

ट्रम्प का इलाज मेरीलैंड के मिलिट्री अस्पताल में चल रहा है, जबकि पत्नी मेलानिया व्हाइट हाउस में ही क्वारंटाइन हैं। बेटी इवांका और कीमताद जेरार्ड कुश्नर की टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव आई है। दूसरी ओर, रिपब्लिकन पार्टी ने प्रचार के लिए नई रणनीति तैयार की है। सीनेटर्स की एक टीम बनाई गई है।

ट्रम्प ने वीडियो जारी किया
राष्ट्रपति ने शनिवार रात अस्पताल से एक वीडियो जारी कर कहा- अब मैं बेहतर महसूस कर रहा हूं। एक-दो दिन में देखते हैं कि क्या होता है। मुझे लगता है कि तब स्थिति ज्यादा साफ हो जाएगी। ट्रम्प सूट में नजर आए, लेकिन उन्होंने टाई नहीं पहनी थी। वहाँ कुछ चीजें हैं। शुक्रवार रात जब वे अस्पताल आए थे, तब उन्होंने कहा था- मैं बहुत बेहतर महसूस कर रहा हूं। शनिवार को कहा- अब मैं बहुत बेहतर महसूस कर रहा हूं। जल्द ही फिर से काम लूंगा।

डॉ और एडवाइजर के बयान अलग
शनिवार को ही उनके डॉक्टर्स ने कहा- राष्ट्रपति का इलाज चल रहा है और वे अब काफी बेहतर महसूस कर रहे हैं। लेकिन, शंका उनके चीफ ऑफ स्टाफ मार्क मेडोस के बयान ने बढ़ाई। मेडोस ने कहा- अगले दो दिन बहुत महत्वपूर्ण हैं। इस दौरान हमें बीमारी की गंभीरता के बारे में सही जानकारी मिल सकेगी। वर्तमान में, हम रिकवरी के बारे में साफ तौर पर कुछ नहीं कह सकते। साफ तौर पर बयानों में विरोधाभास है और शायद इसीलिए राष्ट्रपति ने खुद बयान जारी कर कहा- मैं ठीक हूं। ट्रम्प का एक और मैसेज उनके दोस्त और वकील रुडोल्फ गिउलियानी के माध्यम से सामने आए। गिलानी के मुताबिक- ट्रम्प ने मुझे कहा- मैं इस बीमारी को हरा दूंगा।

बयानों से सिर्फ भ्रम बढ़ा
जिस तरह के बयान आ रहे हैं, उनमें सिर्फ भ्रम बढ़ रहा है। समझना मुश्किल है कि वास्तव में ट्रम्प की स्थिति कैसी है। एक बात और हुई। वाल्टर रे अस्पताल के डॉक्टरों ने मीडिया को राष्ट्रपति से जुड़ी अधिक जानकारी या टाइमलाइन नहीं बताई। कुछ खबरों के मुताबिक, ट्रम्प पहले से बीमार थे। और इसकी सही जानकारी आधिकारिक तौर पर नहीं दी गई।

व्हाइट हाउस से जुड़े दो स्रोतों का कहना है कि ट्रम्प को शुक्रवार सुबह से ही साँस लेने में कठिनाई थी। उनका ऑक्सीजन लेवल भी कम है। व्हाइट हाउस में ही उन्हें ऑक्सीजन दी गई थी। इसके बाद अस्पताल ले जाया गया। डॉ कोनले इन बातों को खारिज कर रहे हैं। वे कहते हैं कि राष्ट्रपति को अलग से ऑक्सीजन की जरूरत ही नहीं है। सवाल तो ये भी उठ रहे हैं कि ट्रम्प बुधवार को चेताते हुए या गुरुवार को। बुधवार और गुरुवार को तो वे कई कार्यक्रमों में शामिल भी थे।

राष्ट्रपति हैं, इसलिए अस्पताल भेजा
सही मायनों में ट्रम्प के व्यक्तिगत फिजिशियन ही भ्रम फैल रहे हैं। शनिवार को उन्होंने कहा- प्रेसिडेंट बिल्कुल ठीक हैं। इलाज का असर हो रहा है। इससे हमारी टीम खुश है। अगले 24 घंटे में उनका लिन उतर जाएगा। ब्लड प्रेशर और हार्ट रेट भी नॉर्मल हो जाएगा। कोनले ने पूछा- सब ठीक था तो ट्रम्प को अस्पताल लाने की जरूरत क्यों पड़ी? इस पर जवाब मिला- क्योंकि, वे अमेरिका के राष्ट्रपति हैं।

रिपब्लिकन पार्टी की नई कैम्पेन स्ट्रेटीज
चुनाव में सिर्फ एक महीना बाकी है। राष्ट्रपति बीमार हैं और अस्पताल में हैं। कब ठीक होगा, ये वर्तमान में नहीं कहा जा सकता है। लिहाजा, उनकी पार्टी ने इलेक्शन कैम्पेन के लिए नई रणनीति तैयार की है। वाइस प्रेसिडेंट माइक पैंसी और स्पीकर नैंसी पेलोसी के साथ सीनेटर्स की एक टीम हर राज्य में जाएगी। संभव हुआ तो ट्रम्प वीडियो मैसेज करते रहेंगे।





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *