Share this


PATNA : राज्य में सरकारी अधिकारियों या कर्मियों की ड्यूटी के दौरान कोरोना से मौत होने पर उनकी रिटायरमेंट की उम्र तक आश्रित को पूरा वेतन विशेष पारिवारिक पेंशन के रूप में दिया जाएगा। इस व्यवस्था का लाभ आश्रित को उसी स्थिति में मिलेगा जब वह अनुकंपा आधारित नौकरी नहीं लेंगे। शनिवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में वित्त विभाग के इस प्रस्ताव को मंजूरी मिल गई। यह प्रावधान 1 अप्रैल 2020 से 31 मार्च 2021 तक के मामलों के लिए लागू होंगे। संबंधित सरकारी सेवक के आश्रित अनुकम्पा के आधार पर नियुक्ति हेतु इच्छुक है तो अनुकम्पा का लाभ और पहले से चले आ रहे प्रावधानों के तहत अन्य लाभ मिलेंगे। आश्रित अनुकम्पा का लाभ नहीं लेना चाहते हैं तो उनको संबंधित सेवानिवृति की तिथि तक अंतिम वेतन हरेक माह विशेष पारिवारिक पेंशन के रूप में दी जाएगी। उसके बाद सामान्य मिलने वाली पारिवारिक पेंशन दी जाएगी।

अन्य फैसले
अपर जिला परिवहन पदाधिकारी सहित मूल कोटि के 39 पदों व प्रोन्नति के 13 पदों सहित 52 पदों के सृजन की स्वीकृति
औद्योगिक नियोजन (स्थायी आदेश) नियमावली, 1947 में नियत अवधि नियोजन जोड़ा गया। इससे नए पदों पर नियत अवधि के लिए नियुक्ति हो सकेगी
राज्य निर्वाचन आयोग में आयुक्त के पद पर नियुक्ति के लिए मुख्यमंत्री अधिकृत
बिहार कर्मचारी राज्य बीमा योजना परिचारिका (नर्स) श्रेणी ‘ए’ (भर्ती, प्रोन्नति एवं सेवाशर्त्त) संवर्ग (संशोधन) नियमावली, 2020 को मंजूरी



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *