Share this


इस्लामाबादएक घंटा पहले

  • कॉपी लिस्ट

बेटी मरियम के साथ नवाज शरीफ। 15 दिन में दूसरी बार नवाज ने बिना नाम लिए फौज को देश का असली शासक बताया है। पिछले दिनों मरियम ने भी सेना पर तंज कसा था। नवाज पार्टी नेताओं के फौजी अफसरों से मिलने पर पहले ही रोक लगा चुके हैं। (फाइल)

  • पूर्व प्रधान नवाज शरीफ के भाई शहबाज को गिरफ्तार किया जा चुका है, वे विपक्षी मोर्चे के नेता हैं
  • नवाज और उनकी बेटी मरियम ने पिछले कुछ दिनों में ताकतवर फौज के खिलाफ कई बयान दिए हैं

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने एक बार फिर इशारों ही इशारों में देश की ताकतवर फौज पर निशाना साधा। नवाज ने बुधवार को पार्टी कार्यकर्ताओं से बातचीत की। इस दौरान कहा गया कि देश की संसद और सरकार को कोई तीसरी ताकत नहीं मिली है। नवाज का इशारा साफ तौर पर फौज की तरफ था। कुछ दिन पहले उन्होंने पार्टी नेताओं से कहा था कि वे आर्मी अफसरों से कोई मुलाकात नहीं करें।

नवाज ने एक और खुलासा किया। कहा- 2014 में ISI चीफ रहे लेफ्टिनेंट जनरल जहीर उल इस्लाम ने उन्हें resFA देने को कहा था। नवाज के मुताबिक, उन्होंने ऐसा करने से इनकार कर दिया था।

नवाज के निशाने पर अरमी
नवाज जानते हैं कि इमरान खान सरकार को सेना का समर्थन है और इसीलिए वह अब तक टिकी हुई है। इसलिए, बुधवार को जब इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने जब नवाज को लंदन से पाकिस्तान लौटने और कोर्ट के सामने पेश होने के लिए समन जारी किए तो उन्होंने इसका जवाब न देकर फौज पर निशाना साधा। कहा- लोगों ने मुझे बताया कि हमारी संसद को कोई और ताकत नहीं मिली है। वे ही आकर सरकार को ये बताते हैं कि संसद के एजेंडे में क्या रहेगा और कौन से बिल पास होंगे। हम अपने ही देश में गुलाम बन गए हैं।

मरियम ने भी यही कहा था
पाकिस्तान के आर्मी चीफ जनरल बाजवा ने पिछले दिनों गिल्ली-बल्टिस्तान को अलग राज्य बनाने के प्रस्ताव पर बातचीत के लिए विपक्षी नेताओं को बुलाया था। इस बैठक के बाद नवाज की बेटी और पीएमएल-एन की उपाध्यक्ष मरियम नवाज ने कहा था- सियासत से जुड़े मामले या कानूनी मसले तो संसद में ही तय होने चाहिए। आर्मी हेडक्वॉर्टर में इन पर बातचीत क्यों की जाती है।

रिजफे का आधार था
नवाज ने एक इंटरव्यू में बड़ा खुलासा भी किया है। नवाज ने कहा- 2014 में सरकार के खिलाफ कुछ विरोध प्रदर्शन हुए थे। तब आईएसआई चीफ जहीर उल इस्लाम ने मेरे पास आधी रात को एक मैसेज भेजा। इसमें मुझे resFA देने को कहा गया था। मुझे धमकी दी गई थी कि अगर मैंने इस्तीफा नहीं दिया तो गंभीर नतीजे होंगे और देश में मार्शल लॉ भी लगाया जा सकता है।
शरीफ के कहते हैं- मैंने भी वही भाषा में जवाब दिया था। मैंने कहा था- तुम्हें जो करना है, कर लो। मैं इस्तीफा नहीं दूंगा। इस्लाम 2012 से 2014 तक आईएसआई के चीफ रहे थे।





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *