Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • नासा ने एसएसबी कल्पना चावला साइग्नस को आईएसएस लॉन्च किया। इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (आईएसएस) के लिए नॉर्थ्रॉप ग्रुम्मन की एंटेर्स रॉकेट बाउंड की लॉन्चिंग ग्राउंड सपोर्ट उपकरणों के एक घटक के साथ अज्ञात समस्या के कारण स्क्रब की गई थी।

वॉशिंगटन6 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

क्ल्पना चावला के नाम वाले स्पेसशिप की लॉन्चिंग वर्जीनिया स्थित नासा के स्पेस सेंटर से होगी। फोटो नासा के लॉन्च पैड पर स्पेसशिप को लॉन्च करने के लिए रखे जाने के बाद की।- फाइल फोटो

  • एसएस कल्पना चावला सिग्नस स्पेसशिप को 29 सितंबर को खराब मौसम की वजह से लॉन्च नहीं किया गया था
  • अमेरिकन एयरोइड्स कंपनी नार्थरोप ग्रुमन ने कल्पना चावला के कार्यों को सम्मान देने के लिए अपने सिग्नस कैप्सूल का नाम पर रखा है।

नासा ने भारतीय मूल की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला के नाम वाले सिग्नस स्पेसशिप की लॉन्चिंग शुक्रवार को दूसरी बार टाल दी। अमेरिकन एयरोइड्स कंपनी नार्थरोप ग्रुमन के इस कार्गो स्पेसशिप को शुक्रवार को लॉन्च किया जाना था। हालांकि, लॉन्चिंग से सिर्फ 2 मिनट 40 सेकंड पहले इसके ग्राउंड सपोर्ट इक्विपमेंट में खराबी आने के कारण से ऐसा नहीं हो सका। नासा ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। इससे पहले 29 सितंबर को खराब मौसम की वजह से इसे लॉन्च नहीं किया गया था।

नार्थरोप ग्रुमन ने सितंबर में अपने इस स्पेसशिप का नाम कल्पना चावला के नाम पर रखने का ऐलान किया था। कंपनी ने कहा था- कल्पना चावला के नाम पर अपने अगले एनजी -14 सिग्नस स्पेसक्राफ्ट का नाम रखते हुए हमें अपमानित किया जा रहा है।

वर्जिनिया स्थित स्पेस सेंटर से लॉन्च स्पेसशिप होगा
लॉन्चिंग वर्जीनिया स्थित नासा के स्पेस सेंटर से होगा। इस मिशन का नाम एनजी -14 रखा गया है। इसे कंपनी के एंटारेस बोर्ड की मदद से लॉन्च किया जाएगा। यह दो दिन के बाद इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (ISS) पहुंच जाएगा।

एस.एस. कल्पना चावला एक री-सपनाली जहाज है

नार्थरोप ग्रुमन कंपनी की परंपरा है हर सिग्नस स्क्रिप्टपेसक्रॉफ्ट का नाम एक ऐसे शख्स के नाम पर रखा जाता है जिसने ह्यूमन को भापे फ्लाइट में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हो। कल्पना चावला को इस सम्मान के लिए इसलिए चुना गया था क्योंकि उन्होंने उन्हें भारतीय मूल की पहली अंतरिक्ष यात्री के रूप में इतिहास रचा था। एस एस कल्पना चावला एक री-सपनाली जहाज है। इसकी मदद से ISS पर 3629 किग्रा सामान पहुंचाया जाएगा।





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *