Share this


PATNA : अपनी कप्तानी और ‘फिनिशिंग’ के हुनर से महानतम क्रिकेटरों में शुमार दो बार के विश्व कप विजेता भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने शनिवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहकर सबको चौंका दिया…ऐसा करके उन्होंने पिछले एक साल से उनके भविष्य को लेकर लग रही अटकलों पर विराम लगा दिया. धौनी ने अपने इंस्टाग्राम पर लिखा- अब तक आपके प्यार और सहयोग के लिये धन्यवाद… शाम सात बजकर 29 मिनट से मुझे रिटायर्ड समझिये… धौनी के इस पोस्ट पर तरह-तरह के कमेंट आ रहे हैं. खुद उनकी पत्नी साक्षी धौनी ने भी इसपर प्रतिक्रिया दी है. यहां खास बात यह है कि साक्षी की प्रतिक्रिया पर भी कमेंट आ रहे हैं…लोग साक्षी से कह रहे हैं कि धौनी को ऐसा करने से रोकें…उनसे कहें की यह पोस्ट वे हटा लें…

धौनी के रिटायरमेंट से उनके फैन्स काफी निराश नजर आ रहे हैं. वहीं, इस मौके पर ‘कैप्टन कूल’ की पत्नी साक्षी उनके साथ खड़ी नजर आईं… साक्षी ने धौनी के इस पोस्ट पर दिल और हाथ जोड़ने का इमोजी बनाया… आपको बता दें कि धौनी की कप्तानी, मैच के हालात को भांपने की क्षमता और विकेट के पीछे जबर्दस्त चुस्ती ने पूरी दुनिया के क्रिकेटप्रेमियों को दीवाना बना दिया था. वह कभी जोखिम लेने से पीछे नहीं हटे. इसलिये 2007 टी-20 विश्व कप का आखिरी ओवर जोगिंदर शर्मा जैसे नये गेंदबाज को दिया जो 2011 वनडे विश्व कप के फाइनल में फार्म में चल रहे युवराज सिंह से पहले बल्लेबाजी के लिये आये… दोनों बार भारत ने खिताब जीता और धौनी देशवासियों के नूरे नजर बन गए…आईपीएल में तीन बार चेन्नई को जिताकर वह ‘थाला’ कहलाये.

चेन्नई पहुंचे थे धौनी : आपको बता दें कि इससे एक दिन पहले यानी शुक्रवार को ही वह यूएई में होने वाली इंडियन प्रीमियर लीग के लिये चेन्नई सुपर किंग्स टीम से जुड़ने चेन्नई पहुंचे थे. धौनी ने भारत के लिये आखिरी मैच न्यूजीलैंड के खिलाफ विश्व कप सेमीफाइनल खेला था. विकेटों के बीच बेहतरीन दौड़ के लिये मशहूर धौनी उस तनावपूर्ण मैच में 50 रन बनाकर रनआउट हो गए थे. ‘रांची का यह राजकुमार’ हालांकि क्रिकेट के इतिहास में महानतम खिलाड़ियों में अपना नाम दर्ज करा गया है. भारत के लिये उन्होंने 350 वनडे, 90 टेस्ट और 98 टी-20 मैच खेले. कैरियर के आखिरी चरण में वह खराब फार्म से जूझते रहे जिससे उनके भविष्य को लेकर अटकलें लगाई जाती रही…उन्होंने वनडे क्रिकेट में पांचवें से सातवें नंबर के बीच में बल्लेबाजी के बावजूद 50 से अधिक की औसत से 10773 रन बनाये. टेस्ट क्रिकेट में उन्होंने 38.09 की औसत से 4876 रन बनाये और भारत को 27 से ज्यादा जीत दिलाई. आंकड़ों से हालांकि धौनी के कैरियर ग्राफ को नहीं आंका जा सकता.

रैना का भी संन्यास : पिछले डेढ़ दशक में सीमित ओवरों के क्रिकेट में भारत के शीर्ष खिलाड़ियों में शामिल रहे सुरेश रैना ने अपने पसंदीदा कप्तान और मेंटर महेंद्र सिंह धौनी के नक्शेकदम पर चलते हुए शनिवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की. धौनी के इंस्टाग्राम पोस्ट के कुछ ही मिनटों बाद रैना ने भी संन्यास की घोषणा कर दी. रैना ने इंस्टाग्राम पर लिखा, ‘‘माही (महेंद्र सिंह धोनी) आपके साथ खेलना शानदार रहा. पूरे गर्व के साथ इस यात्रा में मैं आपका साथ देता हूं। धन्यवाद भारत.. जय हिंद…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *