Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • पाक ने दिलीप कुमार और राज कपूर के घरों में एक संग्रहालय बनाने का वादा किया, लोगों ने कचरा फेंका, कहा हवेली कभी भी गिर सकती है

पेशावर6 घंटे पहलेलेखक: शाह जमाल

  • कॉपी लिस्ट

किस्सा ख्वानी बाजार में जर्जर हाल में राज कपूर का घर।

  • पेशावर का किस्सा ख्वानी बाजार, जहां सुपरस्टार दिलीप कुमार, राज कपूर और शाहरुख खान के पुश्तैनी घर हैं
  • शादी की पार्टी देने के लिए लोगों की पहली पसंद होती थी राज कपूर की हवेली, 2005 के भूकंप के बाद जर्जर

पाकिस्तान में पेशावर स्थित किस्सा ख्वानी बाजार बॉलीवुड से अपने कनेक्शन को लेकर फिर चर्चा में है। यहां फिल्म अभिनेता राज कपूर, दिलीप कुमार और शाहरुख खान के पुश्तैनी घर महज 800 मीटर के दायरे में हैं। राज्य सरकार ने राज कपूर और दिलीप कुमार के 100 साल पुराने घरों को खरीदकर उसे संरक्षित करने की बात कही है। लेकिन ये दोनों घर के जर्जर हो चुके हैं।

जब हम दिलीप कुमार के घर पहुंचे तो देखा कि इस जर्जर इमारत में लोग कचरा डंप कर रहे हैं। उन्हें रोकने-टोकने वाला कोई नहीं है। घर की पाँच में 3 मंजिला पूरी तरह से जर्जर हो चुके हैं। इसके मालिक ने सुध लेना बंद कर दिया है। ऐसी ही स्थिति राज कपूर के पुश्तैनी घर कपूर हवेली की भी है। 40 से 50 कमरे की यह शानदार पांच मंजिला इमारत का टॉप और चौथा फ्लोर ढह चुका है। बाकी भागीदारी भी यजार हो चुकी है।

भवन राष्ट्रीय धरोहर घोषित

ये हालात तब हैं, जब 2014 में तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने इन घरों को राष्ट्रीय धरोहर घोषित किया था। पर संरक्षित करने के लिए कोई झूठ बोलने तक नहीं पहुँचा। यहीं नहीं, 2018 में भी राज्य सरकार ने दोनों घरों को खरीदकर उन्हें मुहजियम में बदलने के लिए राशि जारी करने की बात की थी। लेकिन रेट तय करने के लिए उनके मौजूदा मालिकों से संपर्क तक नहीं किया गया।

किस्सा ख्वानी बाजार में जर्जर हाल में दिलीप कुमार का घर।

किस्सा ख्वानी बाजार में जर्जर हाल में दिलीप कुमार का घर।

हवेली 12 साल से भुतहा बनी हुई है

कपूर हवेली के मौजूदा मालिक हाजी इशार शाह कहते हैं, लीवुड मुझे बॉलीवुड पर राज करने वाले राज कपूर की हवेली का मालिक होने पर गर्व है। अगर सरकार इसे खरीदकर मुहजियम बना रही है, तो मुझे बहुत खुशी होगी। लेकिन अगर बात नहीं बनती तो मैं इस बिल्डिंग की जगह मल्टी स्टोरी सिनेमा घर बनाऊंगा। ‘हवेली के पड़ोस में रहने वाले और पूर्व मेयर अब्दुल हकीम सफी बताते हैं कि यह हवेली 12 साल से भुतहा बनी हुई है।

इसके मालिक कभी-कभी ही यहाँ दिखाई पड़ते हैं। आसपास के लोगों को डर है कि यह जर्जर हवेली कभी भी बड़े हादसे का कारण बन सकती है। वहीं दिलीप कुमार के घर के मालिक ने सरकार से 200 करोड़ रुपये की मांग की है।

शहर के डिप्टी कमिश्नर कहते हैं कि हम इन घरों की कीमत तय करने पर काम कर रहे हैं। सरकार ने ऐतिहासिक घरों को संरक्षित करने के लिए 400 करोड़ रुपये का फंड जारी किया है। जल्द ही ये इमारतें खरीदने का काम पूरा हो जाएगा।

कपूर हवेली में मैरिज पार्टी के लिए 6 महीने वेटिंग रहता था
शादी की पार्टी देने के लिए यह हवेली लोगों की पहली पसंद थी। नियाज शाह बताते हैं कि हवेली में बुकिंग नहीं मिलने के कारण बेटी की शादी 6 महीने आगे बढ़ानी पड़ी थी। 2005 के संकट से हवेली को नुकसान पहुंचा और यह गतिविधि बंद हो गई।





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *