Share this


  • अहमदाबाद-हावड़ा मेल रोज की बजाय सप्ताह में एक दिन चलेगी, लेकिन अभी तक तय नहीं है
  • पश्चिम बंगाल महाराष्ट्र से भी हर दिन ट्रेन नहीं आने देना चाहती है, महाराष्ट्र ट्रांसफर के मामले में टॉप पर है

दैनिक भास्कर

जुलाई 05, 2020, 10:00 पूर्वाह्न IST

सूरत। पश्चिम बंगाल, ओडिशा और छत्तीसगढ़ सरकारों ने कहा है कि अहमदाबाद, सूरत से आने वाली ट्रेनों में उनके राज्य में न आना है। इससे इन राज्यों में भी अंतर बढ़ सकता है। पश्चिम बंगाल सरकार ने पत्र लिखकर ट्रेन की फ्रिक्वेंसी घटाने की मांग की थी। इसके बाद रेलवे ने अहमदाबाद-हावड़ा मेल को रोज की बजाय अब सप्ताह में एक दिन कर दिया है। अहमदाबाद में अब तक 21 हजार से ज्यादा और सूरत में 5 हजार से ज्यादा कोरोना ट्रांसफर के मामले आ चुके हैं।

अहमदाबाद-हावड़ा मेल अभी इकलौती ट्रेन थी, जो छत्तीसगढ़, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के लिए हर दिन आ जा रही थी। 1 जून से देशभर में 230 रूट ट्रेनें स्पेशल ट्रेन मेकर चलाई जा रही हैं।

महाराष्ट्र से भी बंगाल को नहीं चाहिए

बंगाल सरकार की ओर से वहाँ के सचिव ने रेलवे बोर्ड और पश्चिम रेल को पत्र लिखा था। कहा गया था कि गुजरात और महाराष्ट्र में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। मुंबई से हावड़ा के लिए और अहमदाबाद से सूरत होते हुए हावड़ा के लिए एक-एक नियमित खाते हैं। ये ट्रेनों से बड़ी संख्या में लोग बंगाल आ रहे हैं। इससे बंगाल में भी संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है।

अहमदाबाद से सोमवार, हावड़ा से शुक्रवार को चलेगी

अहमदाबाद से वाया सूरत तक चलने वाली अहमदाबाद-हावड़ा मेल अब केवल सप्ताह में एक ही दिन चल रही है। यह हवड़ा से हर शुक्रवार और अहमदाबाद से हर सोमवार को प्रस्थान होगा। दिन तो तय हो गया है, लेकिन तारीख अभी तय नहीं हुई है। यह ट्रेन अहमदाबाद से रात 12.15 बजे चलकर सूरत तड़के सवा चार बजे पहुंचती है और दूसरे दिन दोपहर डेढ़ बजे हवारा पहुंच जाती है। हावड़ा से रात 11.55 बजे चलकर दूसरे दिन सूरत सुबह 9 बजे और उसी दिन दोपहर 1:30 बजे अहमदाबाद पहुंचती है। यह अहमदबाद से सूरत तक छत्तीसगढ़ के रायपुर, बिलासपुर और ओडिशा के राउरकेला, झारसुगुड़ा के साथ बंगाल पहुंचती है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *