Share this


PATNA : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में टिकट बंटवारे के बाद बगावत का दौर थम नहीं रहा है। बागियों ने पार्टी उम्मीदवारों की परेशानी बढ़ा दी है। ऐसे में पार्टी ने गुरुवार को एक बार फिर तीन और पूर्व विधायकों को निष्कासित कर दिया। ये कार्रवाई छह वर्षों के लिए की गई है। भाजपा के मुख्यालय प्रभारी सुरेश रूंगटा ने बड़हरा की पूर्व विधायक आशा देवी, जगदीशपुर के पूर्व विधायक भाई दिनेश और मनेर के पूर्व विधायक श्रीकांत निराला पर कार्रवाई का आदेश जारी कर दिया है। तीनों विधायकों के खिलाफ पार्टी की छवि धूमिल करने का आरोप है। इसी वजह से उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया गया है। भाजपा ने निलंबित किए गए तीनों पूर्व विधायकों पर पार्टी प्रत्याशियों के खिलाफ चुनाव लड़ने के मामले में कार्रवाई की है।

इसके पहले सोमवार को टिकटों को लेकर जारी घमासान के बीच भाजपा ने पार्टी के नौ बागियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया था। कार्रवाई की जद में आए अधिसंख्य लोजपा के टिकट पर ताल ठोक रहे थे। निष्काशित किए गए नेताओं में भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह, राष्ट्रीय मंत्री रहे रामेश्वर चौरसिया, पूर्व विधायक डॉ. ऊषा विद्यार्थी, विधायक रवींद्र यादव, इंदु कश्यप, श्वेता सिंह, अनिल कुमार, मृणाल शेखर और अजय प्रताप का नां शामिल था। निलंबित किए गए नेताओं पर आरोप था कि ये राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के अधिकृत प्रत्याशियों के खिलाफ चुनाव मैदान में उतर कर वे सभी पार्टी विरोधी गतिविधि में शामिल हो गए हैं। उनके इस रुख-रवैये से भाजपा की छवि धूमिल हो रही है। कोरोना वायरस की वजह से इसबार बिहार विधानसभा चुनाव तीन चरणों में होगा। कुल 243 सीटों के लिए पहले फेज में वोट 28 अक्टूबर को डाले जाएंगे। इसके बाद दूसरे चरण में तीन नवंबर तो तीसरे में सात नवंबर को मतदान होगा। चुनाव का परिणाम 10 नवंबर को घोषित कर दिया जाएगा।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *