Share this


PATNA : अक्टूबर का महीना है, बक्सर में कुछ ना कुछ तो होगा ही। 22 अक्टूबर 1764 में बक्सर का युद्ध हुआ था। फ़िलहाल बक्सर राजनीतिक रूप से बिहार विधानसभा चुनाव के मद्देनजर हॉट सीट बना हुआ है। बक्सर विधानसभा सीट परंपरागत रूप से भाजपा के खाते में रही है। भाजपा ने कई बार यहां से फतह हासिल की है। पिछली दफा मामूली वोटों से हार गई थी। वहां कांग्रेस की जीत हुई थी। भाजपा के लिए परंपरागत सीट होने की वजह से भाजपा ने इस सीट पर अपना दावा ठोका था और यह सीट भाजपा के खाते में आ भी गई। लेकिन बात उम्मीदवारी की हो रही है। बात इस बात की हो रही है कि वहां से इस बार कौन सा उम्मीदवार भाजपा का झंडा लेकर जाएगा। मंगलवार देर रात को भाजपा ने जो लिस्ट जारी की, उसमें बक्सर और ब्रह्मपुर के उम्मीदवार का नाम नहीं है।

जदयू-भाजपा के बीच सीट शेयरिंग को लेकर हुए समझौते के अनुसार बक्सर सदर विधानसभा सीट भाजपा के खाते में चली गयी है। अब बड़ा सवाल बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय की दावेदारी को लेकर उठ खड़ा हुआ है। गुप्तेश्वर पांडेय ने हाल में ही वीआरएस लेने के बाद जदयू की सदस्यता ग्रहण कर ली थी। इस बात की चर्चा थी कि वह बक्सर सीट से विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। डीजीपी पद से इस्तीफा देने के बाद बातचीत करते हुए गुप्तेश्वर पांडे ने कहा था कि वह बिहार के किसी भी सीट पर चुनाव लड़ सकते हैं और जीत भी सकते हैं। हालांकि उन्होंने यह बात अपनी लोकप्रियता को लेकर कही थी। अभी भी भाजपा ने बक्सर सीट पर उम्मीदवार का नाम न देकर गुप्तेश्वर पांडेय के लिए दरवाजा खोल रखा है। बक्सर और ब्रह्मपुर में उम्मीदवार नहीं दिए हैं। लेकिन गुप्तेश्वर पांडेय ने जदयू का दामन थाम रखा है। ऐसे में उनको इस बात का इंतजार है कि उनके लिए सीएम नीतीश कुमार क्या आदेश देते हैं। कहा यह भी जा रहा है कि गुप्तेश्वर पांडेय बक्सर से विधानसभा चुनाव लड़ने को अब भाजपा की सदस्यता भी ले सकते हैं। बक्सर में मतदान पहले चरण में ही होना है, जिसके लिए नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख गुरुवार 8 अक्टूबर तक है।

भाजपा बक्सर से गुप्तेश्वर पांडेय को अपना उम्मीदवार बनाती है तो जिला संगठन में बगावत हो सकता है। वजह कि पिछली दफा महज 5000 वोट से पार्टी इस सीट को हार गई थी। 2015 में पार्टी के उम्मीदवार प्रदीप चौबे ने 56000 वोट लाकर कांग्रेस को कड़ी टक्कर दी थी। ऐसे में गुप्तेश्वर पांडेय का बक्सर से चुनाव लड़ना भाजपा को मुश्किल में डाल सकता है । वहीं दूसरा ऑप्शन ब्रह्मपुर भी है। लेकिन ब्रह्मपुर में भाजपा के पितामह कहे जाने वाले कैलाशपति मिश्र की बहू दिलमणि देवी ने दावा ठोक रखा है। यदि भाजपा गुप्तेश्वर पांडे को ब्रह्मपुर लेकर आती है तो वहां दिलमणि देवी विरोध कर सकती हैं और पार्टी को नुकसान हो सकता है। जब भाजपा ने बक्सर और ब्रह्मपुर सीट पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा नहीं की तो जिले में जोर-शोर से इस बात पर चर्चा होने लगी कि यह दोनों सीटें वीआईपी के खाते में तो नहीं चली गई। पूरे जिले में इस बात का विरोध चल रहा है। इस विरोध की बात मुख्यालय तक पहुंची है। बक्सर में भाजपा के अंदर गुप्तेश्वर पांडे को लेकर होने वाली बगावत यदि लोजपा भांप लेती है तो ऐसे में वहां से उम्मीदवार खड़ा कर सकती है। और भाजपा का कैडर वोट लोजपा के पक्ष में जा सकता है। हालांकि भाजपा अपना हर कदम फूंक-फूंक कर रख रही है। सीट बंटवारे को लेकर जो फजीहत हुई है, उसमें भाजपा कोई रिस्क नहीं लेना चाहती है। गुप्तेश्वर पांडेय बक्सर सीट से चुनाव लड़ने के लिए मंगलवार को ही परचा खरीद चुके हैं। जिला निर्वाचन कार्यालय के अनुसार चुनाव के लिए अब तक 17 परचे खरीदे गए हैं। दो लोगों ने अभी तक नामांकन दाखिल किया है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *