Share this


  • लाकडाउन में हुए मैच पर सवाल, स्ट्रीमिंग वेबसाइट की कंपनी आईपीएल की स्पॉन्सर

दैनिक भास्कर

जुलाई 04, 2020, 01:08 PM IST

चंडीगढ़। माएहाली (चंडीगढ़) के एक गांव के ग्राउंड पर हुए टी -20 मैच भी आम मैचों की तरह राेमांचक थे। लेकिन उनकी पीछे की कहानी इस रैमेचन के ताेते उड़ाने के लिए काफी है। दरअसल, 29 जून काे खेले गए मैच की ऑफलाइन स्ट्रीमिंग में बताया गया कि 20 युवा टी 20 लीग ’के श्रीलंका के बदुला शहर में हो रही है। जबकि इसमें श्री का काई खिलाड़ी और टीम नहीं थी।

हैरत की बात यह है कि कथित मैच काे लाइवकाकर और लाइव स्ट्रीमिंग वेबसाइट का फैनकाड ’ने लाइव कवर किया। वहीं स्का स्पाेर्ट्सकीड़ा ’ने लाइव स्कॉकरकार्ड शुरू किया है। चंडीगढ़ पुलिस ने ऑफ़लाइन शिकायत पर मैच रुकवा दिया, लेकिन तब तक पहले दिन के 2 मैच हो चुके थे। पुलिस ने तीन लाेगाें को गिरफ्तार किया है। श्रीलंका क्रिकेट बाबर्ड और पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।

खिलाड़ी श्री की जर्सी पहनकर उतरे थे

दरअसल, स्थानीय खिलाड़ी श्रीलंका की जर्सी पहनकर खेल रहे थे। उन्होंने चेहरे का पहलू से ढंक रखा था। ऐसा नहीं है, लाइव प्रसारण में उनके चेहरे पर फाेकस नहीं किया गया। कमेंटेटर भी नाम लेने से बचते रहे। मजे की बात यह है कि जिस मैदान में मैच हुआ, उसे स्ट्रोक्टर्स क्रिकेट एसोसिएशन में अनंत करता है। क्लब ने बताया कि एक दोस्त काे 4500 रुपए में फ्रेंडली मैच के लिए ग्राउंड दिया था। मैच की लाइव स्ट्रीमिंग करने वाली कंपनी भी मुश्किल के घेरे में है।

श्री की लीगल टीम ने आपत्ति जताई

ड्रीम स्पाएर्ट्स र्ट फैन्काड ’की पैरेंट कंपनी है। इसका एक ब्रांड ड्रीम 11 फंतेसी स्पाेर्ट्स प्लेटफाॅर्म है, जाे आईपीएल का स्पाैन्सर है। इसमें चीनी कंपनी टेंसेंट का निवेश है। फैनकेड ने कहा कि आएेजकाए ने क्रिकेट संघ का अनुमति पत्र दिया था। श्रीलंका क्रिकेट के ई-मेल आईडी का भी उल्लेख था। दूसरे दिन श्रीलंका की लीगल टीम ने आपत्ति ली और बताया कि डाक्यूमेंट्स फर्जी हाे सकते हैं। इसके बाद मैच हटा दिया गया।

यह सिंडिकेट का काम करता है

बीसीसीआई की कोर राधेधी इकाई के अजीत सिंह कहते हैं कि बोर्ड से स्वीकृत लीग या खिलाड़ी हातेते ताए कार्रवाई करते हैं। पुलिस कार्रवाई कर सकती है। यह सट्टेबाजी के लिए किया ताए अपराध है। वहीं, मोहाली के एसएसपी कुलदीप सिंह चहल ने कहा कि गोलीबारी के आरोप में पंकज जैन, राजू और अन्य काे गिरफ्तार किया गया है। जांच में पता चला है कि सट्टा लगाया जा रहा था। शक है कि मैच में परिवारों को सिंडीकेट लिपट है। इसके अलावा युवा प्रांतीय क्रिकेट संघ के बी। बालाचंद्रन ने बताया कि वे फेक मैच थे। हमने किसी के दौरे की अनुमति नहीं दी। हमारी संस्था इतनी सक्रिय नहीं है। किसी ने खोजबीन कर यह किया है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *