Share this


  • पाकिस्तान के एजेंडे को चीन ने यूएन में बयान के तौर पर प्रस्तावित किया था
  • इसमें कराची में हुए आतंकी हमले को लेकर भारत को जिम्मेदार बताया गया था

दैनिक भास्कर

Jul 02, 2020, 03:09 AM IST

नई दिल्ली। युनायटेशन नेशन सिक्युरिटी कॉउंसिल (यूट्ससी) ने 1 जुलाई को एक बयान जारी किया। इसमें कराची स्टॉक एक्सचेंज पर हुए आतंकी हमले की निंदा की गई। इस हमले में सिक्युरिटी गार्ड सहित 10 लोग मारे गए थे। हालाँकि, यह एक सामान्य प्रक्रिया है। ऐसी यात्राओं को लेकर यूेंट्ससी द्वारा निंदा प्रस्ताव जारी किए जाते हैं।

चीन ने मंगलवार को इस हमले पर बयान का प्रस्ताव रखा था। यह पाकिस्तान की ओर से प्रस्तावित था। इसमें हमले का जिम्मेदार भारत को बताया गया था। हालांकि, इस बयान का दूर-दूर तक भारत से कोई लेना देना नहीं था। यह और बात है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने जरूर पाकिस्तानी संसद में इस आतंकी हमले के लिए भारत को जिम्मेदार बताया था।

भारत को अमेरिका-जर्मनी का साथ मिला

इस गफलत में यह बयान जारी करने का समय दो बार आगे बढ़ाना पड़ा। चीन और पाकिस्तान की इस मिली भगत को लेकर सबसे पहले जर्मनी ने आपत्ति दर्ज कराई थी। इसके बाद अमेरिका ने भी अपना विरोध दर्ज कराया। इसके बाद आखिरकार निंदा प्रस्ताव जारी किया गया।

बयान में कराची में हुए हमले की निंदा की गई

अब जो बयान पास हुआ है उसमें केवल कराची में हुए आतंकी हमले की निंदा की गई है। इसके लिए भारत या किसी और देश पर किसी तरह का कोई शुल्क नहीं लगाया गया है। यह चीन और पाकिस्तान के लिए आंतरिक मंच पर एक बार फिर से नक़म हो जाना जैसा मामला है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *