Share this


  • गुरुवार रात पुलिस के साथ मुठभेड़ के बाद विकास दुबे फरार हो गया था
  • शनिवार सुबह से बिकरु गांव में घर गिराने की कार्रवाई शुरू की गई
  • मुखबिरी के शक में चौबेपुर थानाध्यक्ष विनय तिवारी को सस्पेंड कर दिया गया

दैनिक भास्कर

Jul 04, 2020, 02:26 PM IST

कानपुर। उत्तर प्रदेश के कानपुर में 8 पुलिसवालों की हत्या करने वाले गैंगस्टर विकास दुबे केर्टनुमा घर को ध्वस्त कर दिया गया।]जिला प्रशासन ने उसी जेसीबी से विकास के घर को गिराया, जिससे उसने पुलिस का रास्ता राकेका था। इसके साथ ही विकास के घर में खड़े ट्रैक्टर और दो एसयूवी कारों को भी तोड़ दिया गया। शनिवार सुबह से पुलिस और प्रशासन की टीमें बिकरु गांव पहुंच गई थीं। इधर, विकास की तलाश में पुलिस की 100 टीमें अलग-अलग इलाकों में दबिश दे रही हैं। इन सभी क्षेत्रों में विकास के सापेक्ष अवशेष हैं। वहीं, मुखबिरी के शक में चौबेपुर थानाध्यक्ष विनय तिवारी को सस्पेंड कर दिया गया है। एसटीएफ उन्हें अंतर कर रहा है।

12 हिरासत में, शत्रुताएं भी ट्रेस कर रही हैं

पुलिस ने अब तक इस मामले में हस्तक्षेप के लिए 12 लोगों को हिरासत में लिया है। पुलिस को विकास के नेपाल भागने की भी आशंका है। लिहाजा, लखीमपुर खीरी जिले की पुलिस भी समीक्षा मोड पर है। विकास को लेकर नेपाल बॉर्डर पर तलाश कर दिया गया है। यहां नेपाल से जुड़ी 120 किमी की सीमा है। हर जगह फोटो चस्पा कर दी गई ।एसएसबी के अधिकारियों से बातचीत की जा रही है। पुलिस को आशंका है कि विकास सरेंडर के लिए कोर्ट में ऐप डाल सकता है। इसके चलते सभी जिलों की पुलिस को तलाश कर दिया गया है।

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, मोबाइल कॉल डिटेल के आधार पर मतभेदों को ट्रेस किया जा रहा है। उन लोगों की लिस्ट भी तैयार की जा रही है, जिन्होंने पिछले 24 घंटे में विकास दुबे से फोन पर बात की थी। लगभग 250 नंबरों को सेवालाओं पर लिया गया है। यह बात की भी आशंका जताई जा रही है कि जब पुलिस की टीम विकास से पूछताछ के लिए निकली थी, तब किसी ने फोन कर जानकारी दे दी थी।

घटनास्थल पर बाहरी लोगों के जाने पर पुलिस ने रोक लगा दी है।

घटना पर बाहरी लोगों के जाने पर रोक
विकास के घर के पास किसी को भी फटकने नहीं दिया जा रहा है। घटनास्थल पर बाहरी लोगों के जाने पर पुलिस ने रोक लगा दी है। घर गिराने से पहले पुलिस ने विकास दुबे के पिता रामकुमार को और उनकी नौकरानी रेखा को बच्चों सहित घर से बाहर निकाल लिया था।

यह मामला है
चौबेपुर क्षेत्र के राहुल तिवारी के ससुर लल्लन शुक्ला की जमीन पर विकास ने जबरन कब्जा कर लिया। राहुल ने कोर्ट में विकास के खिलाफ केस दर्ज कराया। बीती 1 जुलाई को विकास ने सहयोगियों के साथ मिलकर राहुल को रास्ते से उठा लिया और बंधक बनाकर पीटा। जान से मारने की धमकी भी दी। राहुल ने इसकी थाने में शिकायत की। हस्तक्षेप के लिए थानाध्यक्ष आरोपी विकास के घर पहुंचे। यहां विकास ने थाना प्रभारी के साथ हाथापाई कर दी। इसके बाद थानाध्यक्ष ने राहुल की शिकायत पर ध्यान नहीं दिया और खुद के साथ हुई बदसलूकी की चर्चा भी किसी से भी की। बाद में अधिकारियों के आदेश पर चौबेपुर थाने में विकास दुबे पर केस दर्ज हो गया है। गुरुवार देर रात सीओ देवेंद्र मिश्रा के नेतृत्व में शिवराजपुर, चौबेपुर, बिठूर थाने की पुलिस बिकरु गांव में विकास दुबे के घर पर दबिश देने के लिए पहुंची थी।

दबिश में चौबेपुर थाना प्रभारी विनय तिवारी सबसे पीछे थे
यहां पुलिस के पहुंचते ही विकास के गुर्गों ने फायरिंग शुरू कर दी। इसमें सीओ, तीन एसआई, चार कांस्टेबल शहीद हो गए थे। इसके अलावा, दो ग्रामीण, एक होमगार्ड और 4 पुलिसवाले घायल हो गए। बताया जाता है कि दबिश देते हुए चौबेपुर थाना प्रभारी रास्ते में खड़ी जेसीबी के पास ही रुक गए और बाकी के पुलिसकर्मी आगे बढ़ गए। जबकि उनके गांव की भौगोलिक स्थिति की जानकारी अच्छी तरह से थी, उन्हे आगे होना चाहिए था। बदमाशों ने पुलिस टीम पर फायरिंग शुरू की तो वे मौके से नदारद हो गए। घटना की जांच जारी है

घर गिराने से पहले पुलिस ने विकास के पिता और उनकी नौकरानी को बच्चों सहित घर से बाहर निकाल लिया था।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *