Share this


PATNA : बिकरू गांव में दो जुलाई की रात पुलिस से लूटे गए असलहों की बरामदगी कराने वाले आरोपित शशिकांत उर्फ सोनू की पत्नी मनु उर्फ वर्षा सरकारी गवाह बनने को तैयार है। मनु का कहना है कि जो बर्बाद होना था वो हो गया। उसे बदल नहीं सकते, लेकिन जो जिम्मेदारी मेरे कंधों पर है उसे पूरा करेंगे। मनु का कहना है कि पति और बच्चों के साथ बहुत खुश थी। लॉकडाउन में गांव आने का फैसला गलत कदम साबित हुआ। विकास दुबे ने मेरे पति को अपराधी बना दिया। उनसे गोली चलवाई। ससुर ने भी अपनी जिंदगी खो दी। पति जेल चले गए, अब इससे ज्यादा बर्बाद होने या खोने के लिए मेरे पास बचा ही क्या है। रह गई है तो सिर्फ चलने-फिरने में असमर्थ सास सुषमा और दो बच्चों की जिम्मेदारी, जिसे निभाना है। सास और बच्चों के लिए तो सब कुछ करना ही पड़ेगा। पुलिस अगर सरकारी गवाह बनाती है तो बनूंगी और जो भी कहेगी वह करूंगी।

मनु ने बातचीत के दौरान कहा कि पति की गिरफ्तारी और ऑडियो रिकार्डिंग वायरल होने के बाद सीओ सीसामऊ त्रिपुरारी पांडेय ने उसे मदद का भरोसा दिलाया था। दो दिन बीतने के बाद भी उनके न तो किसी ने बयान दर्ज किए और न ही किसी ने उससे पूछताछ की है। शुक्रवार को बिकरू पहुंचे आइजी मोहित अग्रवाल ने स्प्ष्ट किया कि जब तक वायरल ऑडियो की फॉरेंसिक रिपोर्ट नहीं आ जाती तब तक मनु के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होगी। वह न तो नजरबंद है और न हिरासत में है।

बिकरू हत्याकांड में इस्तेमाल किए गए हथियारों की तलाश में जुटी पुलिस के हाथ दूसरे दिन भी खाली रहे। शुक्रवार को कुछ देर के लिए ही तालाब में खोजबीन हो सकी। दरअसल हथियार तलाशने आई पुलिस टीम घटना के रीक्रिएशन में व्यस्त हो गई थी।

एसएसपी दिनेश कुमार पी ने गुरुवार को दावा किया था कि सूचना मिली है कि बिकरू से भाग रहे बदमाशों ने अपने हथियार तालाब में फेंके थे। इस इनपुट के बाद गुरुवार को ही गोताखोरों ने तालाब खंगाला था, लेकिन कुछ नहीं मिला। शुक्रवार दोपहर बाद पुलिस ने बिना गोताखोरों की मदद से तालाब को खंगलाने की कोशिश की, लेकिन कुछ नहीं मिला। पुलिस के मुताबिक शनिवार को तालाब फिर खंगाला जाएगा।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *