Share this


दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति ने शनिवार को अभिनेता को चाहने वालों से कहा कि भगवान में विश्वास रखें और सीबीआइ के निष्कर्षों पर ध्यान दें। उनका यह बयान एम्स नई दिल्ली द्वारा सीबीआइ को सौंपी उस रिपोर्ट के बाद आया है, जिसमें अभिनेता की मौत का कारण फंदे से लटकना बताया गया है।

उन्होंने इंस्टाग्राम पर लिखा, ‘आपके विश्वास की परीक्षा तब होती है, जब आप कठिन समय में भी मजबूत और अडिग बने रहते हैं। मैं अपने परिवार और सुशांत को चाहने वालों से अपील करती हूं कि वे भगवान में विश्वास रखें और दिल से प्रार्थना करें। प्रार्थना करें कि सच्चाई सामने आ जाए।’ श्वेता ने इस ट्वीट के साथ ही सुशांत सिंह राजपूत की एक तस्वीर को भी पोस्ट किया है।

इस उनके चाहने वाले जमकर प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

सीबीआइ से होगी नई फॉरेंसिक टीम के गठन की अपील

उधर, सुशांत सिंह राजपूत के परिवार के वकील विकास सिंह ने कहा कि वह एम्स की सीबीआइ को सौंपी अपनी चिकित्सकीय-वैधानिक रिपोर्ट को लेकर बेहद क्षुब्ध हैं। वह केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआइ के प्रमुख से अपील करेंगे कि वह इस मामले में एक नई फॉरेंसिक टीम का गठन करें। एम्स के मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट में सुशांत की हत्या की आशंका को खारिज किए जाने से नाराज वरिष्ठ वकील विकास सिंह ने रविवार को कहा कि अभिनेता के शव के बगैर ही विशेषज्ञों की टीम एक निर्णायक राय कैसे दे सकती है।

एम्स की रिपोर्ट पर खासी तल्खी जताते हुए उन्होंने कहा कि वह सीबीआइ के निदेशक से एक नई फॉरेंसिक टीम बनाने की अपील करने जा रहे हैं। उन्होंने ट्वीट किया कि एम्स की टीम भला बिना शव के कैसे कोई निर्णायक रिपोर्ट दे सकती है, जबकि उनकी इस रिपोर्ट का आधार मुंबई के कूपर अस्पताल में बेहद घटिया तरीके से बनाई गई पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर आधारित है। इस रिपोर्ट में सुशांत की मौत का समय तक नहीं बताया गया था।

एम्‍स की टीम ने मौत का कारण फांसी लगाना और खुदकुशी बताया

उल्लेखनीय है कि विगत शनिवार को एम्स के मेडिकल बोर्ड की फारेंसिक टीम के प्रमुख डॉ. सुधीर गुप्ता ने कहा कि उनकी रिपोर्ट में अभिनेता सुशांत की हत्या की आशंका से इन्कार किया गया है। साथ ही उनकी मौत का कारण फांसी लगाना और खुदकुशी बताया गया है। सीबीआइ की मदद के लिए गठित की गई इस छह सदस्यीय एम्स की फॉरेंसिक टीम ने सुशांत को जहर दिए जाने या गला घोटे जाने के सभी दावों को खारिज करते हुए कहा कि उनके विसरा में जहर या ड्रग के कोई अंश नहीं मिले हैं। डॉ. गुप्ता ने कहा कि इस विषय में एक निर्णायक रिपोर्ट सीबीआइ को सौंप दी गई है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *