Share this


  • कृषि और किसान कल्याण विभाग के सचिव काहन सिंह पन्नू की तरफ से पत्र जारी किया गया
  • कड़े निर्देश-अफसरों को छुट्टी वाले दिन भी दफ्तरों में रहना होगा, न ही प्रयोजनों छुट्टी मिलेगी

दैनिक भास्कर

Jul 13, 2020, 06:32 PM IST

बठिंडा / संगरूर। पंजाब में एक बार फिर टिड्डी दल के आने का खतरा मंडराने लग गया है। आशंका है कि देश के कई राज्यों में फसलों को नुकसान पहुंचाने के बाद अब किसी भी वक्त रेज के चूरू और हरियाणा के सिरसा से पंजाब की सरहद के साथ लगते इलाकों में टिड्डी दल का हमला हो सकता है। ऐसे में पंजाब सरकार की तरफ से इन दोनों राज्यों की सीमाओं से लगते बठिंडा, संगरूर, मानसा, फाजिल्का और बरनाला आदि जिलों में सकारात्मक जारी कर दिया गया है।
पंजाब के पड़ोसी राज्य और हरियाणा में इस टिड्डी समूह ने काफ़ी फसलों को नुक्सान पहुंचाया है। इसको मुख्य रखते हुए 4 जिलों को उच्च उपस्थिति पर रखा गया है, जिससे टिड्डी दल के ऐसे किसी भी संभावित हमले पर तेज पाया जा सकता है और फसलों को ख़राब होने से सफलतापूर्वक बचाया जा सकता है।
कृषि और किसान कल्याण विभाग के सचिव काहन सिंह पन्नू की तरफ से जारी एक पत्र में हरियाणा व राजस्थान से सटे इलाकों में जिलास्तर पर गठित की टीम की उच्च उपस्थिति पर के निर्देश जारी किए गए हैं। काहन सिंह पन्नू ने कृषि अफसरों को हिदायतें जारी की है कि टिड्डी दल के संभावित हमले को देखते हुए किसी भी अधिकारी को अग्रिम छुट्टी की नहीं दी जाएगी। छुट्टी वाले दिन भी आधिकारियों को दफ्तरों में मौजूद रहने के लिए कहा है।
इस बारे में पुष्टि करते हुए संगरूर के मुख्य कृषि अफसर डॉ। जसविंदर पाल सिंह ग्रेवाल ने बताया कि हवा की दिशा और इन जिलों की हद हरियाणा के साथ लगने कारण टिट्टी दल के आगंतुकी हमले को रोकने के लिए कृषि विभाग की तरफ से सभी प्रबंधित किए गए हैं। आम लोगों को भी जागरूक किया जा रहा है कि टिड्डी दल के आने वाले देने या बैठने की जगह की जानकारी तुरंत कृषि विभाग को दी जाए।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *