Share this


  • चीन और भारत में टकराव वाले प्वाइंट से अपनी सेनाएं डेढ़ किलोमीटर पीछे बुलाने पर सहमति बनी रहीं
  • हॉट स्प्रिंग और गोगरा में बने चीनी स्ट्रक्चर गिराए जा रहे हैं, डिसिंगेजमेंट की प्रक्रिया कुछ दिन में पूरी हो जाएगी

दैनिक भास्कर

जुलाई 07, 2020, 05:10 अपराह्न IST

नई दिल्ली। गलवान झड़प के 22 दिन बाद लद्दाख के हालात में सुधार नजर आना शुरू हो गया है। चीन और भारत की सेनाएं टकराव वाले प्वाइंट पर पीछे हटने को राजी हो गई हैं। हॉट स्प्रिंग और गोगरा इलाके में भी सेनाएं पीछे हट रही हैं और यह प्रक्रिया कुछ दिनों में पूरी हो जाएगी।

न्यूज एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से बताया कि चीन ने इन प्वाइंट्स पर रविवार से अपने ढांचे गिराने भी शुरू कर दिए हैं। तनाव कम करने पर जो सहमति बनी है, उसके मुताबिक दोनों सेनाएं टकराव वाले प्वाइंट्स से एक से डेढ़ किलोमीटर पीछे हटें। यह प्रक्रिया पूरी तरह से होने तक दोनों देशों के बीच बातचीत जारी रहेगी।

डोभाल और चीनी विदेश मंत्री में 2 घंटे का वीडियो कॉल था
चीन ने सेना के पीछे खींचने का कदम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लद्दाख दौरे के दो दिन बाद रविवार को उठाया। इसी दिन राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजीत डोभाल की चीन के विदेश मंत्री मंत्री कलाबे से वीडियो कॉल पर दो घंटे की चर्चा। बातचीत के कुछ घंटे बाद चीन ने सेना को बुलाने का फैसला लिया।

इन 5 पॉइंट्स पर सहमति

  1. भारत और चीन के बीच पॉइंट पीसीबी -14, जीबी -15, हॉट स्प्रिंग्स और एरिया का भी विवाद है। इन क्षेत्रों से भी सैनिक पीछे हटने शुरू हो गए हैं।
  2. बॉर्डर पर शांति बनाए रखने और रिश्तों को आगे बढ़ाने के लिए दोनों देशों को आपस में समन्वयमेल रखना चाहिए। यदि विचार मेल नहीं खाएँ तो विवाद खड़ा नहीं करना चाहिए।
  3. एलएसी पर सेना हटाने और डी-एक्स्क्ेशन की पूरी जल्द से जल्द पूरी की जाएगी। यह काम फेज वाइज किया जाएगा।
  4. दोनों देश एलएसी का सम्मान करें और एकतरफा कदम नहीं उठाएं। भविष्य में सीमा पर वातावरण बिगाड़ने वाली घटनाओं को रोकने के लिए मिलकर काम करें।
  5. एनएसए डोभाल और चीन के विदेश मंत्री आगे भी बातचीत जारी रखेंगे, ताकि दोनों देशों के विपक्षों के मुताबिक सीमा पर शांति रहे और प्रोटोकॉल बनाया जाए।

विवाद वाले 4 5 पॉइंट्स डिसिंगेजमेंट जारी

गलवान की झड़प के 20 दिन बाद चीन लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर 2 किलोमीटर पीछे हट गया है। उन्होंने टेंट और अस्थाई निर्माण हटाए हैं। हालांकि, गलवान के गहराई वाले क्षेत्रों में चीन की बख्तरबंद गाड़ियां अब भी मौजूद हैं। लद्दाख में भारत-चीन के बीच 4 और पॉइंट्स पर विवाद है। ये पॉइंट- पीसीबी -14 (गलवान रिवर वैली), जीबी -15, हॉट स्प्रिंग्स और लिविंग एरिया हैं। सूत्रों के मुताबिक, ये प्वाइंट्स से भी जवान वापस बुलाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है।

गलवान से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ सकते हैं …

1। गलवान झड़प के 20 दिन बाद चीन की सेना 2 किमी पीछे हटी

2। चीन सीमा पर एयरफोर्स ने रात में मिग -29 और अपाचे से गश्त की





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *