Share this


  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • हंगर इंडेक्स इंडिया रैंकिंग बनाम बांग्लादेश पाकिस्तान 2020 | राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला किया

नई दिल्ली27 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

107 देशों के ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत इस साल 94 वें नंबर के साथ सीरियस मार्केटिंग में रहा है। ग्लोबल में हंगर की स्थिति पर नजर रखने वाली वेबसाइट ग्लोबल हंगर इंडेक्स ने शुक्रवार को यह रिपोर्ट जारी की, जो शनिवार को सामने आई। एक्सपर्ट्स का कहना है कि कुपोषण (मैल्नूट्रिशन) से सामना में ढीले रवैए और बड़े राज्यों की खराब परफॉर्मेंस जैसी वजहों से भारत की रैंकिंग नीचे रही है।

भारत का नंबर पाकिस्तान, बांग्लादेश से भी नीचे
ग्लोबल हंगर इंडेक्स में बांग्लादेश, पाकिस्तान और म्यांमार भी सीरियस मार्केटिंग में रखे गए हैं, लेकिन तीनों की रैंकिंग भारत में ऊपर है। बांग्लादेश 75 वें, म्यांमार 78 वें और पाकिस्तान 88 वें नंबर पर है। नेपाल 73 वीं रैंक के साथ सिगरेट हंगर श्रेणी में है। इसी क्रम में श्रीलंका का 64 वां नंबर है। (पूरी रैंकिंग देखने के लिए यहां क्लिक करें)

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “भारत का गरीब भूखा है, क्योंकि सरकार सिर्फ अपने कुछ खास दोस्तों की जेबें भरने में लगी है।”

भारत की 14% आबादी को पूर्ण पोषण नहीं
ग्लोबल हंगर इंडेक्स की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 5 साल तक के बच्चों कुपोषण की दर 37.4% है, शारीरिक विकास कमजोर रहने की दर 17.3% है। पांच साल तक के बच्चों में मोर्टेलिटी रेट (मृत्यु दर) 3.7 है। देश की 14% आबादी को पूरा पोषण नहीं मिल रहा है।

31 देश सीरियस और में शामिल, इनका स्कोर 20 से ज्यादा ग्लोबल हंगर इंडेक्स ने देशों में भूख और कुपोषण की स्थिति के आधार पर स्कंध को अलग-अलग तरीके से बांटा है। भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान सहित 31 देश सीरियस देशों में हैं।

  • एस्वातिनी
  • बांग्लादेश
  • कंबोडिया
  • ग्वाटेमाला
  • म्यांमार
  • बेनिन
  • बोस्तवाना
  • मालावी
  • माली
  • वेनेजुएला
  • केन्या
  • मॉरिशियाना
  • टोगो
  • कोटे डी इवर
  • पाकिस्तान
  • तंजानिया
  • बुरकिना फासो
  • कॉन्गो
  • इथिओपिया
  • अंगोला
  • भारत
  • सूडान
  • कोरिया
  • रवांडा
  • नाइजीरिया
  • अफगानिस्तान
  • लेसोथो
  • सेरा लिओन
  • लाइबेरिया
  • मोजाम्बिक
  • हैती

रिपोर्ट में कहा गया है कि बांग्लादेश, भारत, नेपाल और पाकिस्तान के 1991 से 2014 तक के आंकड़ों से पता चलता है कि कुपोषण के शिकार ज्यादातर वे बच्चे हैं, जिनके परिवार कमजोर खुराक, मां का कम पढ़ी-लिखी होना और गरीबी जैसी समस्याओं से हैं। लज़्ज़त हैं। इन वर्षों के दौरान भारत में पांच साल से कम उम्र के बच्चों की ट्रॉमा, इंफेक्शन, न्यूमोनिया और डायरिया से मौत की दर (मोर्टेलिटी रेट्रो) में कमी आई है। हालांकि, प्री-मैच्योरिटी और कम वजन की वजह से गरीब राज्यों और ग्रामीण इलाकों में मोर्टेलिटी में इजाफा हुआ है।





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *