Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • तीन राज्यों से सात मजदूरों का अपहरण हुआ 28 दिन पहले बचाया गया, किडनैपर्स ने कंपनी को किडनैपिंग का आश्वासन देने के लिए अपनी फोटो दिखाई

त्रिपोली5 दिन पहले

लीबिया में किडनैपर्स से छुड़ाए गए भारतीयों के साथ ट्यूनिशिया मिशन के अफसर। सभी भारतीयों के परिवार ने केंद्र से पारित महीने मदद की गुहार लगाई थी।

  • किडनैपर्स 14 सितंबर को सात भारतीयों को लीबिया के अस्वेरिफ इलाके से अगवा किया था, छोड़ने के मोड़ फिरौती की मांग की थी।
  • लीबिया में भारत का दूतावास नहीं है, ऐसे में इन भारतीयों को छुड़ाने की जिम्मेदारी ट्यूनीशिया स्थित भारतीय मिशन को दी गई थी

लीबिया में 28 दिन पहले अगवा किए गए तीन राज्यों के सात मजदूरों को छुड़ा लिया गया है। ट्यूनीशिया में भारत के राजदूत पुनीत रॉय कुंदल ने रविवार को इसकी जानकारी दी। छुड़ाए गए सभी सातों लोग मजदूर हैं और आंध्रप्रदेश, बिहार और गुजरात के रहने वाले हैं। कुछ किडनैपर्स ने 14 सितंबर को उन्हें लीबिया के अस्वेरिफ इलाके से अगवा कर लिया था। इसके बाद से ही वे छुड़ाने की कोशिश की जा रही थी।

लीबिया में भारत का दूतावास नहीं है। ऐसे में इन भारतीयों को छुड़ाने की जिम्मेदारी ट्यूनीशिया स्थित भारतीय मिशन को दी गई थी। ट्यूनीशिया के भारतीय दूतावास ने लीबिया सरकार और वहाँ की आंतरिक संगठनों की मदद से उन्हें छुड़ाया है।

किडनैपर्स ने दिखाया था अगवा भारतीयों के फोटो

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने बीते गुरुवार को बताया था कि सभी भारतीय नागरिक सुरक्षित हैं। उन्हें काम पर रखने वाली कंपनी से किडनैपर्स ने संपर्क किया था। कंपनी को मजदूरों को फोटो दिखाकर यह यकीन दिलाया गया कि उनके कर्मचारी अगवा हो गए हैं और सुरक्षित तरीके से उनके कब्जे में हैं। उन्होंने इन लोगों को छोड़ने के बदले फिरौती की मांग की थी। इसके बाद इन लोगों के परिवार ने केंद्र सरकार से उन्हें भारत लाने के लिए मदद मांगी थी।

छुड़ाए गए लोग लीबिया में आयरन वेल्डर का काम करते थे

अगवा किए गए लोगों में मुन्ना चौहान, साह अजय, महेन्द्र सिंह, उमेदीब्राहिम भाई मुल्तानी, जोगाराव बतचाला और दनय्या बोद्धू शामिल हैं। सभी लीबिया की एनडी इंटरप्राइजेज कंपनी में आयरन वेल्डर का काम करते थे। 14 सितंबर को उन्हें भारत वापसी के लिए लीबिया के त्रिपोली टर्मिनल से फ्लाइट पकड़नी थी। कंपनी से टर्मिनल जाने के बीच बंदूकें के साथ आया किडनैपर्स ने उन्हें अगवा कर लिया था।

वर्तमान में भारतीयों के लीबिया जाने पर रोक है

सितंबर 2015 में भारत सरकार ने भारतीयों के लीबिया जाने के बारे में एडवाइजरी जारी की थी। सुरक्षा की स्थिति को देखते हुए लोगों से लीबिया न जाने की सलाह दी गई थी। मई 2016 में भारत सरकार ने लीबिया की बिगड़ती स्थिति को देखते हुए भारतीयों के वहाँ जाने पर पूरी तरह से रोक लगा दी थी। यह रोक अभी भी जारी है।





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *