Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • 3 इजरायल के वैज्ञानिकों ने एक बार समूह के नमूने से सकारात्मक रोगी की पहचान करने, परीक्षण की स्मार्ट विधि की खोज की

27 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

इस तकनीक को इजरायल ओपन यूनिवर्सिटी के डॉ नाओम शॉल्ट और उनके सहयोगियों डॉ। टोमर हर्ट्ज और एंजेल पोर्गडोर ने खोजा है।

  • 12 अक्टूबर को पूल-टेस्टिंग होगी, अमेरिका में भी ट्रायल की तैयारी होगी
  • अमेरिकी विशेषज्ञों ने भी इस तकनीक को सराहा और जल्द ही ट्रायल की अनुमति मांगी

इजराइल के तीन वैज्ञानिकों ने कोरोनावायरस टेस्टिंग का स्मार्ट तरीका निषाद लिया है। यह पारंपरिक टेस्टिंग से ज्यादा तेज और प्रभावी साबित हो रहा है। इसमें लोगों के समूह (पूल) से किसी एक व्यक्ति का टेस्ट कर बाकियों में संक्रमण का पता लगाया जाता है। इस पद्धति को अनुमतिरायली स्वास्थ्य मंत्रालय ने स्कूल और कॉलेज कैंपस में टेस्टिंग के लिए अप्रूव कर दिया है।

सरकार इस पद्धति को अक्टूबर से देश की 12 प्रयोगशालाओं में लागू करने की योजना बना रही है, क्योंकि माना जा रहा है कि संक्रमण की अगली लहर इन्फ्लूएंजा के साथ मिलकर खतरनाक साबित हो सकती है। इस तकनीक को इजराइल ओपन यूनिवर्सिटी के डॉ। नाओम शॉल्ट और उनके सहयोगियों डॉ। टोमर हर्ट्ज और एंजेल पोर्गडोर ने खोजा है। उन्होंने इसे पी-सेटल यानी पूलिंग आधारित सार्स-कोविड 2 टेस्टिंग नाम दिया है।

शोध के लिए 384 लोगों के 48 समूह बनाए गए

शोध के लिए उन्होंने 384 लोगों के 48 समूह बनाए। हर पूल से एक व्यक्ति का टेस्ट किया गया। जिस पूल में प्रवेश मिला, उस पूल के सभी सदस्यों को पॉजिटिव मान लिया गया था। इस तरह नतीजे पहले से कम समय में आए और सभी की जांच की जरूरत भी नहीं पड़ी। अमेरिकी विशेषज्ञों ने भी इस तकनीक को सराहा है और जल्द ट्रायल की अनुमति मांगी है।

यूरोप में मामले बढ़े, लेकिन अगली लहर कम जानलेवा

यूरोप में संक्रमण का असर धीरे-धीरे बढ़ रहा है लेकिन मौजूदा आंकड़ों की माने तो इस बार यह लहर कम घातक होगी। बुजुर्गों की ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग से संवेदनशीलों की तेज पहचान करने के कारण संक्रमण फैलने की दर काफी हद तक अधिक में हैं। कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में पब्लिक हेल्थ के लेक्चरर जॉन फॉक्स कहते हैं कि लोग वायरस के लक्षणों के प्रति पहले से ज्यादा जागरुक हैं, इसलिए अब दूसरी लहर कमजोर होगी।

लंदन के इम्पीरियल कॉलेज में प्रोफेसर न्यूम कुक कहते हैं कि नए मामलों और मौत के आंकड़ों में हमेशा अंतर रहा है। यदि संक्रमण बढ़ता है तो अब मृत्युदर काफी कम होगी।

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *