Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • 5G प्रौद्योगिकी और सूचना प्रौद्योगिकी पर भारत और जापान के बीच महत्वपूर्ण समझौता; दोनों देश इनसे संबंधित प्रौद्योगिकियों पर एक साथ काम करेंगे

टोक्यो23 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

जापान की राजधानी टोक्यो में समझौता करने के बाद मीटिंग हॉल से बाहर निकलते भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर और जापान के विदेश मंत्री तोशिमित्सु मोटागी।

  • भारत-जापान में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और इंटरनेट ऑफ थिंग्स के रिसर्च एंड डेवलपमेंट से जुड़े कामों को मिलकर करने पर भी सहमति बनी है।
  • जापान ने इंडो मनीफिक इनिशियन (IPOI) में साथ काम करने पर भी सहमति दी है, IPOI भारत के समर्थन शुरू किया गया फ्रेमवर्क है।

भारत और जापान ने साइबर सिक्योरिटी पर एक महत्वपूर्ण समझौता किया है। भारत के विदेश मंत्री एस। जयशंकर और जापान के विदेश मंत्री तोशिमित्सु मोटागी ने बुधवार को टोक्यो में इस समझौते पर हस्ताक्षर किए। अब दोनों 5 जी टेक्नोलॉजीज और सूचना तकनीक से जुड़ी ढांचागत सुविधाएं तैयार करने के लिए साथ मिलकर काम करेंगे।

भारत-जापान में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और इंटरनेट ऑफ थिंग्स के रिसर्च एंड डेवलपमेंट से जुड़े कामों को मिलकर करने पर भी बहुत सुधार हुआ है। विदेश मंत्रालय ने बुधवार को इसकी जानकारी दी। मंत्रालय ने कहा कि डिजिटल तकनीकों की भूमिका बढ़ रही है। ऐसे में दोनों देशों ने यह माना कि मौजूदा समय में एक मजबूत साइबर सिस्टम तैयार करने की जरूरत है। दोनों देशों के बीच भारत, जापान और ऑस्ट्रेलिया सहित सभी एक जैसी सोच रखने वाले देशों में सप्लाई चेन मजबूत करने पर भी चर्चा हुई।

समझौते से कई फायदे हैं

विशेषज्ञों के मुताबिक, भारत और जापान के बीच इस समझौते से कई क्षेत्रों में फायदा होगा। बैंकों के इंफ्रास्ट्रक्चर और पेमेंट सिस्टम को सुधारने में मदद मिलेगी। टेलीकम्युनिकेशन और इंटरनेट, न्यूक्लियर इंस्टक्टर और एनर्जी ट्रांसमिशन से जुड़े प्रोजेक्ट्स पर दोनों देश के साथ मिलकर काम करेंगे। ट्रांसपोर्ट सिस्टम जैसे कि एयर ट्रैफिक कंट्रोल से जुड़ी तकनीकों में दोनों देशों के बीच सहयोग बढ़ेगा।

इंडो मनीफिक ओसियन इनिशियन में के साथ जापान होगा

जापान ने इंडो मनीफिक इनिशियन (IPOI) में साथ काम करने पर भी सहमति दी है। IPOI भारत के समर्थन शुरू किया गया फ्रेमवर्क है। इसका उद्देश्य हिंद-प्रशांत क्षेत्र में शांति और सुरक्षा कायम करना है। बैठक में चीन का जिक्र नहीं हुआ था, लेकिन इस क्षेत्र में चीन ही सबसे ज्यादा दिक्कतें खड़ी कर रहा है। चीन, जापान और भारत दोनों के ही समुद्री क्षेत्रों में टाइपिंग की कोशिश कर रहा है। ऐसे में इसके तहत काम करने से इस क्षेत्र में दोनों देश अपनी समुद्री सीमा की बेहतर तरीके से सुरक्षा कर सकते हैं।

एक दिन पहले हुआ था quad देशों की बैठक
मंगलवार को टोक्यो में क्वाड देशों की बैठक हुई थी। इसमें भारत के विदेश मंत्री के अलावा अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो हैं। ऑस्ट्रेलिया के विदेश मंत्री मैरिसे पेयने और जापान के विदेश मंत्री तोशिमित्सु मोटेगी भी इस बैठक में शामिल हुए। पोम्पियो ने ऑस्ट्रेलिया के विदेश मंत्री से मुलाकात के बाद कहा- हमारे बीच चीन की दूसरे देशों को नुकसान पहुंचाने के लिए चलाई जा रही गतिविधियों पर चर्चा हुई। उन्होंने जापान के विदेश मंत्री के साथ भी चीन के बारे में चर्चा करने की बात कही।





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *