Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • 5 जी टेक्नोलॉजी | रूस 5G प्रौद्योगिकी पर चीन के साथ सहयोग करना चाहता है रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव संयुक्त राज्य अमेरिका की आलोचना करते हैं।

मॉस्को2 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

फोटो 18 जून 2017 की है। तब रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लैवरोव (बाएं) ने चीन के विदेश मंत्री कलावे से बीजिंग में मुलाकात की थी।

  • चीन और रूस के बीच 5 जी नेटवर्क तैयार करने को लेकर पिछले साल से बातचीत चल रही है
  • रूस के विदेश मंत्री ने कहा- इसकी जरूरत सिर्फ रूस को नहीं बल्कि पूरी दुनिया को है

रूस ने साफ कर दिया है कि वह 5 जी नेटवर्क तैयार करने में चीन की मदद लेने को तैयार है। दोनों देशों के बीच इस पर पिछले साल दिसंबर से बातचीत चल रही है। रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लैवरोव ने रविवार को कहा- हमारा देश 5 जी नेटवर्क तैयार करने और उसका विस्तार करने के मामले में चीन का सहयोग लेने के लिए तैयार है। हम अमेरिका की राह पर नहीं चलना चाहते हैं।

अमेरिका का आरोप है कि चीन की हुवेई कंपनी इस नेटवर्क के जरिए दुनिया के कई देशों में जासूसी करना चाहती है। ब्रिटेन और भारत ने इस मामले में सख्त रुख अपनाया है।

अमेरिका की आलोचना
मॉस्को में मीडिया से बातचीत के दौरान लैवरोव ने कहा- 5 जी नेटवर्क को लेकर अमेरिकी नजरिए से हम सहमत नहीं हैं। हम उसकी राह पर नहीं चलना चाहते हैं। अमेरिका का कहना है कि इस नेटवर्क के मामले में चीन की मदद नहीं लेना चाहता है। उसे विशेष तौर पर चीनी कंपनी हुवेई से समस्या है। लेकिन, हमारे साथ ऐसा नहीं है। आपको एक बात समझ लेनी चाहिए कि सिर्फ रूस को नहीं बल्कि पूरी दुनिया को अब 5 जी नेटवर्क की जरूरत है।

दुनिया वाले आ गए
लैवरोव ने आगे कहा- टेक्नोलॉजीज का विस्तार आज दुनिया की जरूरत है। इस मामले में सभी को साथ आना चाहिए। हमें मिलकर नई तकनीक का विस्तार करना होगा। इससे सभी को फायदा होगा हमने अपने संबंधित विभागों को इस बारे में आदेश जारी कर दिए हैं कि 5 जी पर सहयोग के लिए तैयार रहें।

अमेरिका ने बार्सिलोना को चेतावनी दी
पिछले महीने विलियम इस नेटवर्क के लिए चीन की कंपनी हुवेई को कॉन्ट्रैक्ट देने वाला था। तब अमेरिका ने साफ कहा था कि अगर जेसन ने हुवेई को यह कॉन्ट्रैक्ट दिया तो इसका असर दोनों देशों के रिश्तों पर पड़ेगा और बार्सिलोना को इसके नतीजे भुगतने पड़ सकते हैं। इसके बाद, बार्सिलोना सरकार ने टेंडर की प्रक्रिया रोक दी थी।

अमेरिका के पास विकल्प भी है
जिम में अमेरिकी राजदूत टॉड चैपमेन ने मीडिया से कहा था- हम ये साफ कर देना चाहते हैं कि इस कॉन्ट्रैक्ट को हासिल करने में कोई अमेरिकी कंपनी शामिल नहीं है। न ये पैसा कमाने का मामला है। हम सिर्फ देश की सुरक्षा पर जोर देना चाहते हैं। माइकल के पास स्वीडन की इरिक्सन और लिथुआनियाई की नई के अलावा दक्षिण कोरिया की कंपनी के भी ऑप्शन हैं। हुवेई को कॉन्ट्रैक्ट कतई नहीं मिलना चाहिए।

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *