Share this


वॉशिंगटन21 मिनट पहलेलेखक: पत्नी बेकर और मैगी हेबरमैन

  • कॉपी लिस्ट
  • डोनाल्ड ट्रम्प और मेलानिया ट्रम्प शुक्रवार को कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे
  • व्हिट हाउस में क्वारंटाइन पीरिएड पूरा करेंगे, डॉ। स्वास्थ्य अपडेट देंगे

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और पत्नी मेलानिया कोरोना पॉजिटिव पाए जा चुके हैं। चुनाव में पांच सप्ताह से बहुत कम समय बचा है। लिहाजा, ट्रम्प के लिए यह मुश्किल दौर है। सवाल ये है कि क्या वे संक्रमण से उबरने के बाद भी कैंपेन में हिस्सा ले लेंगे। अगर वे कामकाज नहीं कर पाए तो वर्तमान में उनकी जिम्मेदारी उप राष्ट्रपति माइक पेन्स खेलते हैं। अगर पेन्स भी पॉजिटिव हो जाते हैं तो सीनेट स्पीकर नैंसी पेलोसी यह जिम्मेदारी निभाते हैं।

लापरवाह रवैये का खामियाजा
ट्रम्प कई महीनों या कहें महामारी की शुरुआत से ही इसकी शुद्धता को नजरअंदाज करते दिखे। यह मामूली फ्लू बताते हैं। पहलू को भी गंभीरता से नहीं लिया गया। जबकि, अमेरिका में मौतों का आंकड़ा 2 लाख से ज्यादा हो गया है। वे कहते हैं- वायरस जल्द ही गायब हो जाएगा, इस पर ओवर पा लिया गया है। वैज्ञानिकों का मजाक भी उड़ाया। जिस दिन राष्ट्रपति चुनाव के लिए नामांकन दाखिल किया गया। 1 हजार लोगों को साथ ले गए। रैलियों में हजारों लोग जुटते हैं। न राष्ट्रपति ने चेताया और न समर्थकों ने।

मेडिकल एडवाइज भी नहीं मानी
ट्रम्प जीवन के 80 वें दशक में हैं। शोध बताते हैं कि 65 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को संक्रमण का खतरा बहुत है। अमेरिका में जिन लोगों की संक्रमण से मौत हुई, उनमें हर 10 में से 8 व्यक्ति 65 साल या इससे ज्यादा उम्र के थे। ट्रम्प अपनी सेहत के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं देते। नवंबर में वे इलेक्ट्रॉनिक्सटन के मिलिट्री मेडिकल सेंटर गए थे। तब कुछ कयास लगाए गए थे। उनकी लंबाई 1.9 मीटर (6.2 फीट) है। लेकिन, इसके लिहाज से वजन (110.2 किलोग्राम) ज्यादा है। उच्च कोलेस्ट्रॉल की समस्या है। लेकिन, उनके डॉ। राष्ट्रपति की सेहत ’बेहतरीन’ बताते हैं।

वाइट हाउस ने क्या किया
व्हाइट हाउस का ज्यादातर स्टाफ वर्क फ्रॉम होम है। जो ऑफिस आ रहे हैं, उनमें फेक लगाने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होता है। ट्रम्प और पेन्स के अलावा जो उनके संपर्क में रोज आते हैं, उनका भी डेली बेसिस पर टेस्ट किया जाता है। लेकिन, पिछले कुछ दिनों से व्हाइट हाउस का ज्यादातर स्टाफ वर्क नहीं लगाया जा रहा है। कम से कम जब राष्ट्रपति मौजूद होते हैं तो वे फ़ंक्शन बिल्कुल नहीं लगाते, क्योंकि ट्रम्प खुद भी यही करते हैं। अब अगर, ट्रम्प में संक्रमण के लक्षण पाए जाते हैं या वे ज्यादा बीमार होते हैं तो हालात खराब हो जाएंगे।

कॉन्स क्या कहते हैं
अमेरिकी संविधान के 25 वें संशोधन के मुताबिक, अगर राष्ट्रपति की सेहत ठीक न हो और इस कारण से वे काम न कर पा रहे हैं तो अस्थायी तौर पर उनके पावर्स यानी शक्तियां वाइस प्रेसिडेंट को ट्रांसफर हो जाते हैं। पहली बार यह कानून 1967 में बना। 1985 में राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन की सर्जरी हुई। उन्होंने कुछ देर के लिए अपने पावर्स तब के उप राष्ट्रपति जॉर्ज डब्लू को सौंपा। जब जीएम राष्ट्रपति बने तो 2002 और 2007 में दो बार उन्होंने अपनी शक्तियां उप राष्ट्रपति को चेनी को सौंपीं।

व्हाइट हाउस की प्रेस सेक्रेटरी कैली मैकेनी के मुताबिक, हम राष्ट्रपति और उप राष्ट्रपति दोनों को स्वस्थ रखेंगे। वर्तमान में, वे स्वस्थ ही हैं और ऐसे ही रहेंगे। अमेरिकी इतिहास में सिर्फ दो राष्ट्रपति पद पर रहते हुए गंभीर रूप से बीमार हुए। पहले थे- जॉर्ज कृष्णन। उन्हें इन्फ्लूएंजा हुआ था। दूसरे वुडरो विल्स उन्हें भी यही बीमारी हुई थी।

चार राष्ट्रपति मारे गए
अमेरिकी इतिहास में चार राष्ट्रपति ऐसे हुए, जिनके निधन पद पर बने रहे और प्राकृतिक कारणों से हुआ। ये थे- विलिमय हेनरी हैरिसन, जेचेरी टेलर, वैरेन जी। भारी और फ्रेंकलिन डी। रूजवेल्ट। अब्राहम लिंकन, जेम्स ए। गारफील्ड, विलियम मैक्केनले और जॉन एफ कैनेडी की अवधि के दौरान हत्या कर दी गई थी। हालांकि, रीगन (1981) के बाद ट्रम्प पहले ऐसे राष्ट्रपति हैं जो पद पर रहते हैं इसलिए गंभीर बीमारी से पीड़ित हुए हैं।





Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *