Share this


38 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

श्री वल्लभाचार्य जी द्वारा रचित भगवान कृष्ण की स्तुति मधुराष्टकम् को पंडित जसराज ने अपने स्वरूप से घर-घर तक पहुँचा दिया है। – फाइल फोटो

  • मंगल और बृहस्पति के बीच इस ग्रह की खोज 11 नवंबर 2006 को हुई थी
  • इसके पहले स्टॉकार्ट बीथोवन और टेनर लूसियानो पावारोत्ति के नाम पर ग्रह थे

मधुराष्टकम को घर-घर तक पहुंचाने वाले कक्षा वास्तु पंडित जसराज का 90 साल की उम्र में अमेरिका में निधन हो गया है। आज हमारे बीच पंडित जसराज सशरीर भले ही मौजूद ना हों, पर उनकी आवाज और उनका अस्तित्व हमेशा बना रहे। 13 साल पहले नासा ने एक घर का नाम ही पंडित जसराज के नाम पर रखा था। यह सम्मान पाने वाले वह पहले भारतीय कलाकार थे। खास बात ये थी कि इस घर का नंबर पंडित जसराज की जन्मतिथि से उलट था।

बृहस्पति और मंगल के बीच परिक्रमा लगाते ग्रह का नाम पंडित जसराज रखा गया।

नासा और इंटरनेशनल एस्ट्रोनॉमिकल यूनियन के वैज्ञानिकों ने बृहस्पति और मंगल के बीच 300128 नंबर का ग्रह खोजा था और इसका नाम पंडित जसराज के नाम पर रखा गया था। पंडित जसराज की जन्मतिथि 28/01/1930 है। ग्रह के नंबर के उलट। नासा ने कहा था- पंडित जसराज ग्रह हमारे सौरमंडलल में गुरु और मंगल के बीच रहता हुआ सूर्य की परिक्रमा कर रहा है।

8 दशक संगीत साधना को देने वाले पंडित जसराज ने ग्रह के नामकरण पर कहा था- मुझे तो ईश्वर की असीम कृपा दिखती है। भारत और भारतीय संगीत के लिए ईश्वर का आशीर्वाद है।

माइनर प्लानेट में पंडित जसराज है

माइनर प्लानेट वह ग्रह होते हैं जो न तो ग्रह हैं न ही उन्हें पूरी तरह से धूमकेतु कहा जा सकता है। बेटी दुर्गा ने बताया था कि पंडित जसराज ग्रह के बारे में आईएयू ने 23 सितंबर 2019 को इस बात की घोषणा की थी और एक पत्र मुंबई स्थित घर पर पहुंचाया था।

जसारगी जुगलबंदी रचा, मधुराष्टकम प्रिय थी
पंडित जसराज ने एक अनोखी जुगलबंदी की रचना की। इसमें महिला और पुरुष विभिन्न अलग-अलग रागों में एक साथ गाते हैं। इस जुगलबंदी को जसारगी नाम दिया गया।
श्री वल्लभाचार्य जी द्वारा रचित भगवान कृष्ण की बहुत ही मधुर स्तुति है मधुराष्टकम। पंडित जसराज ने इस स्तुति को अपने स्वरूप से घर-घर तक पहुँचा दिया। पंडित जी अपने हर एक कार्यक्रम में मधुराष्टकम जरूर गाते थे। इस स्तुति के शब्द हैं -अधारं मधुरं वदानं मधुरं, नयनं मधुरं हसितं मधुरं। हृदयं मधुरं गमनं मधुरं, मधुराधिपेटिलिलं मधुरं ं

पंडित जसराज से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ें …
1। पंडित जसराज का 90 साल की उम्र में अमेरिका में निधन; वे सातों महाद्वीप में नियुक्ति दे चुके थे

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *