Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • अफगान तालिबान अपडेट | अफगानिस्तान की किशोर लड़की जिसने दो तालिबान गनमेन को मार डाला, वह उसे फिर से लड़ने के लिए तैयार कहती है

काबुल13 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

यह फोटो 16 साल की कमर गुल की है। उसने माता-पिता के मारे जाने के बाद दो आतंकवादियों को मार गिराया था। उनका कहना है कि उन्हें दुख है कि आखिरी बार माता-पिता से बात नहीं की गई।

  • कुछ दिनों पहले अफगानिस्तान के घोर प्रांत में घर में घुसकर आतंकवादियों ने कमर गुल के माता-पिता की हत्या कर दी थी
  • इसके बाद 16 साल की कमर गुल ने पिता की एके -47 से दो तालिबानी आतंकवादियों को मार दिया था

अफगानिस्तान के घोर प्रांत की रहने वाली 16 साल की कमर गुल के सामने ही तालिबानी आतंकवादियों ने उसके माता-पिता की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके बाद गुल ने भी पिता की एके -47 से दो आतंकियों को मार गिराया था, जबकि अन्य को भागने पर मजबूर कर दिया था। गुल ने न्यूज एजेंसी एएफपी से गुरुवार को कहा कि वह उनसे डरती नहीं है और एक बार फिर उनसे लड़ने के लिए तैयार हैं।

गुल अभी भी सुरक्षाबलों की देखरेख में अपने रिश्तेदार के यहाँ हैं। पिछले दिनों सोशल मीडिया पर गुल की हाथ में एक मशीनगन के लिए फोटो खूब वायरल हुई थी। लोगों ने उनकी तारीफ की थी और उन्हें अफगानिस्तान की बहादुर लड़की ने बताया था।

गुल ने बताया- घटना वाले दिन क्या हुआ

गुल घटना वाले दिन को याद करते हुए कहती हैं, ‘ानी जब तालिबानी आतंकी मेरे घर में घुसे, तब तक देर रात तक था। मैं और 12 साल का मेरा छोटा भाई अपने कमरे में सो रहे थे। उसी समय मैंने कुछ लोगों के दरवाजे पीटने की आवाज सूनी थी। मेरी मां ने उन्हें रोकने के लिए दौड़ी, लेकिन तब तक वे दरवाजा तोड़ चुके थे। ”

सी घ आतंकवादियों ने मेरी मां और पिता को घसीटने घर से बाहर ले गए और उन्हें कई बार गोली मारी। मैं घबरा गया। लेकिन, कुछ ही सेकंड बाद मुझे बहुत गुस्सा आया। इसके बाद मैंने अपने घर में अपने पिता की बंदूक उठाकर दरवाजे पर रख दी और उनपर गोली चलाने लगा। ” गुल ने अपने पिता से एक -47 रायफल चलाने की सीख दी थी।

दूसरा आतंकी हिस्सा

ंकी। फायरिंग में दो आतंकी मारे गए। इसके बाद आतंकियों में से एक, जो उनका लीडर लग रहा था, उसने वापस फायर करने की कोशिश की, तब तक मेरा छोटा भाई मुझसे बंदूकें लेकर उनपर फायरिंग करने लगा। इस दौरान दूसरे आतंकी को गोली लगी, लेकिन वह भाग गया। तब तक, कई ग्रामीण और सरकार समर्थक मिलिशियों के घर पर आ चुके थे। ”

प्रतिद्वंदियों में गुल का पति भी शामिल: एनवायटी

न्यूयॉर्क टाइम्स ने बुधवार को बताया कि गुल के घर पर हुई हत्या का कारण पारिवारिक कलह भी था। प्रतिद्वंदियों में से एक गुल का पति था। कागज ने गुल के रिश्तेदारों और अधिकारियों के हवाले से कहा कि उसका पति शादी के बाद उसे जबरन उसे अपने साथ ले जाना चाहता था।

अधिकारियों ने एएफपी को बताया कि तालिबानी आतंकी गुल के पिता को इसलिए मारने आए थे, क्योंकि वे सरकार के समर्थक थे। वे गांव के प्रधान भी थे। आतंकी सरकार के मुखबिरी के संदेह में आए दिन गांव वालों को मारते रहते हैं। यहाँ हमेशा सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच संघर्ष होता रहता है।

अपने माता-पिता को अलविदा नहीं कहा

गुल ने कहा, ने गर्व मुझ पर है कि मैंने अपने माता-पिता के हत्यारों को मार डाला। मैंने उन्हें मार दिया, क्योंकि उन्होंने मेरे माता-पिता को मारा। मुझे पता है कि वे एक बार फिर मेरे और मेरे छोटे भाई के लिए आएंगे। गुल को पछतावा है कि वह अपनी मां और पिता को अलविदा नहीं कह पाया। दोनों तालिबानी आतंकवादियों को मारने के बाद मैं माता-पिता के पास गया था, लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी। मुझे दुख होता है, मैं आखिरी बार बात नहीं कर पाया हूं। ”

सोशल मीडिया पर लोगों ने सुरक्षा मांगी

सोशल मीडिया पर सैकड़ों लोग सरकार से गुल की सुरक्षा की मांग कर रहे हैं। कुछ ने उन्हें अफगानिस्तान से बाहर भेजने की मांग की है। राष्ट्रपति अशरफ गनी के प्रवक्ता सेदिक सिद्दकी ने गुल की तारीफ की और कहा कि गुल ने दुश्मनों से अपने परिवार की रक्षा की।

तालिबान के एक प्रवक्ता ने इलाके में ऐसी हमला होने की बात कही है। लेकिन समूह के किसी भी आतंकी के किसी लड़की द्वारा मारे जाने की बात से इनकार किया गया है।

ये भी पढ़ें

माता-पिता की हत्या के बाद 16 साल की अफगानी लड़की ने एके -47 से तालिबान के 2 आतंकवादियों को मार गिराया, कई भागने पर मजबूर

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *