Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • 9 महीनों के बाद, नेपाल और भारत वाया वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से मिलेंगे, भारत में नेपाल के राजदूत ने कहा कि राम और बुद्ध हमें एक साथ नहीं बांटेंगे

काठमांडू / नई दिल्लीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिस्ट

यह फोटो फरवरी 2016 की है। उस समय नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली भारत के दौरे पर पहुंचे थे। उन्होंने नई दिल्ली के हैदराबाद हाउस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी।

  • दोनों देशों के बीच 2016 में बातचीत के लिए तैयार मैकेनिज्म के तहत यह 8 वीं बैठक होगी, भारत की मदद से चलने वाले कर्मचारियों पर आधारित होगी।
  • नेपाल के विदेश मंत्रालय में सचिव शंकर दास बैरागी और नेपाल में भारत के राजदूत विनय मोहन क्वात्रा बैठक में शामिल होंगे

सीमा विवाद और बयानबाजी के बीच भारत और नेपाल के बीच 9 महीने बाद आज पहली बार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए समीक्षा बैठक करेंगे। इसमें भारत की ओर से नेपाल में शुरू होने वाले और चलाए जा रहे प्रोजेक्ट्स की समीक्षा होगी। हालाँकि, कुछ देशों के विवाद सहित कुछ अन्य मुद्दों पर भी देश सीमा विवाद कर सकते हैं। नेपाल की तरफ से विदेश मंत्रालय में सचिव शंकर दास बैरागी शामिल होंगे। भारतीय दल की अगुआई नेपाल में भारत के राजदूत विनय मोहन क्वात्रा करेंगे।

इस बीच, भारत में नेपाल के राजदूत नीलांबर आचार्य ने कहा है कि भगवान राम और बुद्ध दोनों देशों को बांटते नहीं, एकजुट हैं। बीते दिनों नेपाल के प्रधानमंत्री ने कहा था कि भगवान राम नेपाल के हैं। वहीं, भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर के भगवान बुद्ध को भारत का कहे जाने पर नेपाली विदेश मंत्री ने आपत्ति जताई थी।

दोनों देशों का भगवान राम और बुद्ध में विश्वास: आचार्य

आचार्य ने भारत टुडे को दिए इंटरव्यू में कहा कि भारत-नेपाल के विदेश मंत्रालय ने भगवान राम और बुद्ध के बयानों के बारे में स्थिति स्पष्ट कर चुके हैं। हम दोनों भगवान राम और बुद्ध में विश्वास रखते हैं। यह भी मानते हैं कि बुद्ध का जन्मस्थान लुम्बिनी है। राम और बुद्ध सर्किट दोनों देशों के आपसी समन्वय से जुड़े प्रोजेक्ट हैं। ये सभी चीजें हमें दूरी नहीं करतीं, बल्कि लगभग लाती हैं। हमें इन मुद्दों पर किसी तरह का विवाद पैदा करने से बचना चाहिए।

दोनों देशों के बीच आठवीं बातचीत

2016 में नेपाल के तत्कालीन प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल उर्फ ​​प्रचंड भारत आए थे। दोनों देशों ने आपसी विवाद सुलझाने और सहयोग बढ़ाने के लिए मैकेनिज्म तैयार किया था। 17 अगस्त को इसी मैकेनिज्म के तहत 8 वीं बातचीत होगी। हाल के दिनों में सीमा विवाद और अन्य मुद्दों की वजह से भारत और नेपाल के रिश्तों में खटास दिखी थी। अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन पर भी नेपाल के प्रधानमंत्री ओली ने बयानबाजी की थी।

दोनों देशों के बीच विवाद कैसे शुरू हुआ

भारत ने अपना नया राजनीतिक नक्शा 2 नवंबर 2019 को जारी किया था। इस पर नेपाल ने आपत्ति जताई थी और कालापानी, लिंपियाधुरा और लिपुलेख इलाके को अपना क्षेत्र बताया था। इस साल 18 मई को नेपाल ने इन तीनों क्षेत्रों को शामिल करते हुए अपना नया नक्शा जारी किया। इस नक्शे को अपने संसद के दोनों सदनों में पारित किया गया। इसके बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया। मई-जून में नेपाल ने भारत से सटी सीमाओं पर सैनिकों की तादाद बढ़ा दी। बिहार में भारत-नेपाल सीमा पर नेपाली सैनिकों ने भारत के लोगों पर फायरिंग भी की थी।

नेपाल से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ें:

1।नेपाल का सियासी संकट: प्रधानमंत्री ओली के मुख्य विरोधी प्रचंड ने कहा- बुरे वक्त के लिए तैयार रहें कार्यकर्ता; दोनों प्रमुखों के बीच 10 वीं बातचीत भी बेनतीजा

2।संबंध बेहतर करने की कोशिश?: नेपाल ने भारत के सभी न्यूज चैनलों को अपने देश में फिर से दिखाए जाने की इजाजत दी, 9 जुलाई को प्रतिबंध हटा दिया गया था

3।नेपाल की फौज को कमाई की फिक्र: नेपाल की सेना ने सरकार से बड़ी कमर्शियल प्रोजेक्ट्स में इन्वेस्टमेंट की मंजूरी मांगी, आर्मी एक्ट में बदलाव का दबाव डाला।

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *