Share this


मिंस्क37 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

बेलारूस की राजधानी मिंस्क में रविवार को राष्ट्रपति लुकाशेंकों के खिलाफ प्रदर्शन करते लोग। प्रदर्शन लाल और सफेद रंग का झंडा लहराते नजर आए।

  • रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ने लुकाशेंको को मदद का भरोसा दिलाया है, पुतिन ने कहा- बेलारूस पर प्रतिबंध बनाया जा रहा है।
  • बेलारूस के राष्ट्रपति ने कहा- नाटो मेरी सरकार गिराने की खेती रच रही, इसने देश से सटी सीमा पर तोप और गोलाबारी की तैनाती की।

बेलारूस में एक सप्ताह पहले चुनावों में जीत हासिल करने वाले राष्ट्रपति अलेक्जेंडर लुकाशेंको के खिलाफ विरोध तेज हो गया है। राजधानी मिंस्क में रविवार को लगभग 2 लाख लोगों ने सड़कों पर उतरकर उनके रिजफे की मांग की। प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि लुकाशेंकों ने चुनावों में धांधली कर सत्ता हासिल की है। यहां बीते सात दिनों से लुकाशेंकों के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं। अब तक दो प्रदर्शनकारियों की मौत हुई है और हजारों लोगों को हिरासत में लिया गया है।

स्थानीय मीडिया के मुताबिक रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ने इस सप्ताह दो बार लुकाशेंको से फोन पर बात की है। उन्होंने लुकाशेंको को मदद का भरोसा दिलाया है। पुतिन ने कहा है कि हमें जरूरत पड़ने पर दोनों देशों के बीच समझौते के तहत बेलारूस को कानूनी मदद करने के लिए तैयार हैं। देश पर बाहर से दबाव बनाया जा रहा है। हालांकि, यह नहीं बताया कि आखिर यह दबाव कहां से बनाया जा रहा है।

लुकाशेंकों का आरोप- नाटो मेरी सरकार गिराने की कोशिश में

लुकाशेंको बेलारूस में 20 साल से ज्यादा समय से राष्ट्रपति हैं। उन्हें बेलारूस का आखिरी तानाशाह भी कहा जाता है। अपने खिलाफ प्रदर्शन तेज होने के बाद लुकाशेंको ने नाटो (नार्थ अटलांटिक ट्रिटी ऑर्गनाइजेशन) पर अपनी सरकार के खिलाफ आरोप रचने का आरोप लगाया है। लुकाशेंको ने कहा है कि नाटो मेरी सरकार गिराना चाहती है। इसने बेलारूस की सीमा से सटे स्थानों पर अपने तोप और फ़टरेट तैनात किए हैं। हालांकि, नाटो ने इस बात से इनकार किया है। नाटो ने कहा है कि बेलारूस के सामान पर हमारा दृष्टिकोण है लेकिन, हमारी सेना की तैयारियों से जुड़े दावे बेबुनियाद हैं।

यूरोप के आखिरी तानाशाह कहे जाते हैं लुकाशेंको

रूस की पश्चिमी सीमा से सटा बेलारूस 25 अगस्त 1991 को सोवियत संघ से अलग होकर आजाद देश बना था। इसके बाद संविधान बना और जून 1994 को पहला राष्ट्रपति चुनाव हुआ। राष्ट्रपति बने अलेक्जेंडर लुकाशेंको। 1994 से अब तक पांच बार चुनाव हो चुके हैं। राष्ट्रपति अभी भी लुकाशेंको ही हैं। लुकाशेंको को एक डिक्टेटर यानी तानाशाह के तौर पर देखा जाता है। उन पर हर बार चुनावों में गड़बड़ी प्रदान करने के आरोप लगे हैं।

क्यों बेलारूस का साथ दे रहे पुतिन

रूस में ईंधन पहुंचाने वाली सामान बेलारूस से होकर गुजरती है। रूसी बेलारूस को नाटो के खिलाफ अपना बफर जोन मानता है। रूस नहीं चाहता कि उसकी बेलारूस पर पैठ कम हो। अगर देश में लुकाशेंको की सत्ता पलट होती है तो रूस को नुकसान हो सकता है। इसके साथ ही रूस और बेलारूस के बीच आपसी मदद के समझौते भी हुए हैं। माना जा रहा है कि ये प्रतीक चिन्ह से ही पुतिन लुकाशेंको और बेलारूस का साथ दे रहे हैं।

बेलारूस से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ सकते हैं …

1। बेलारूस में चुनाव: यूरोप के आखिरी तानाशाह कहे जाने वाले 65 साल के राष्ट्रपति लुकाशेंको को 26 साल में पहली बड़ी चुनौती, 37 साल की स्वेतलाना की तुलना में

२। 26 साल से राष्ट्रपति लुकाशेंको की फिर भारी जीत, चुनाव में धांधली का आरोप लगाते हुए विपक्षी उम्मीदवार स्वेतलाना ने कहा कि खारिज कर दिया; राजधानी सहित कई शहरों में प्रदर्शन

3। तीन दिन में 6 हजार से ज्यादा लोग गिरफ्तार; विपक्षी नेता स्वेतलाना ने बच्चों के लिए खतरा बताकर देश छोड़ दिया

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *