Share this


बीजिंग18 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

चीन उइगर मुस्लिमों को उनके रिवाज तक नहीं संभालने देता है। दाढ़ी बढ़ाने तक पर लोगों को नजरबंद कर लिया जाता है। -फाइल फोटो

  • अमेरिका में रह रहे उइगर लेखक रेयान असत ने द फरेन पॉलिसी में आर्टिकल लिखा
  • चीनी सरकार ने 2017 से उइगर समुदाय की आबादी बढ़ने से रोकने का कैंपेन शुरू किया है

चीन कई वर्षों से उइगर समुदाय का सफाया करने के लिए तरह-तरह की रणनीति बनाता रहा है। हाल के वर्षों में चीनी सरकार ने नोट के जरिए नरसंहार करना शुरू किया है। लोगों के घरों के अंदर तक नजर रखी जा रही है। महिलाओं को बांझ बनाया जा रहा है। अमेरिका में रहने वाली उइगर लेखक रेयान असत ने द फॉरेन पॉलिसी में एक आर्टिकल के जरिए चीनी नरसंहार को स्वीकार किया है। रेयान ने लिखा है कि नरसंहार यानी जीनोसाइड केवल किसी समुदाय के लोगों की बड़े पैमाने पर हत्या करने को ही नहीं कहते हैं। जीनोसाइड कन्वेंशन के अनुसार यह कई प्रकार से होता है, जैसे-

  • किसी भी समुदाय की हत्या करना
  • समुदाय को गंभीर शारीरिक या मानसिक नुकसान पहुंचाना
  • समुदाय में बच्चों को पैदा होने से रोकने से रोकना
  • समुदाय के बच्चों को जबरन दूसरे समूह में भेज देना

चीन भी इस कन्वेंशन का सदस्य है। फिर भी वह अपने ही समुदाय के खिलाफ कन्वेंशन के कई मानकों को तोड़कर नरसंहार कर रहा है।

शिनज होटल में स्टूडियो प्रबंधन प्रणाली लागू
रेयान के मुताबिक, चीन ने शिनज इंजीनियरिंग प्रांत में स्टूडियो मैनेजमेंट सिस्टम लागू किया है। इसके जरिए वह उइगरों की जिंदगी के धार्मिक, पारिवारिक, सांस्कृतिक और सामाजिक सहित हर पहलू पर नजर रख सकता है। इस प्रणाली के तहत शहरों और गावों को लगभग 500-500 लोगों के वर्ग में बांटा गया है। हर वर्ग का एक पुलिस स्टेशन है, जिसके माध्यम से लोगों पर लगभग से निगरानी रखी जाती है।

दैनिक लोगों के पहचान पत्र, डीएनए सैंपल, पैर के निशान चेक किए जाते हैं। वीडियो सर्विलांस, स्मार्टफोन से हर एक व्यक्ति का डेटा कलेक्ट किया जाता है। रेयान के भाई एकप असत उइगर बिजनेसमैन हैं। चीन की सरकार ने उन्हें घृणा फैलाने के आरोप में 15 साल जेल की सजा सुनाई है।

महिलाओं के गर्भाशय में विसर्जन डिवाइस लगाई
उइगर समुदाय में सबसे ज्यादा समस्या महिलाओं को उठानी पड़ी। 2017 में शिनज सरकार ने कैंपेन शुरू किया था। मकसद था कि बर्थ कंट्रोल लॉ को तोड़ने वाला एक भी केस नहीं आने देना। इसके नेतृत्व वाली सरकार ने महिलाओं के गर्भाशय में विसर्जन डिवाइस लगा दी थी ताकि वे पूर्ववत न हों। 2015 से 2018 के बीच उइगर समुदाय की जनसंख्या वृद्धि दर 84% कम हो गई है। 2017 और 2018 के बीच शिनज नगर के एक जिले में 124% बांझ महिलाएँ और 117% विधवा महिलाएँ बढ़ी हैं।

सरकार की अनुमति के बाद केवल हट सकते हैं उपकरण
2018 में चीन में आबादी थामने के लिए जितनी महिलाओं के गर्भाशय में उपकरण लगाए गए, उसमें 80% केवल शिनज ड्रेसिंग की थीं, जबकि शिनज परिवार की आबादी चीन का आबादी का केवल 1.8% है। इन उपकरणों को केवल सरकार की अनुमति के बाद ही ऑपरेशन द्वारा बचाया जा सकता है। 2019 में शिनज स्कूल के कासागर शहर में केवल 3% शादीशुदा महिलाओं ने ही बच्चों को जन्म दिया। चीनी सरकार उइगर समुदाय के सफाए के लिए हर तरकीब अपना रही है।

ये खबरें भी पढ़ सकती हैं …
1।
अमेरिका में चीन का विरोध: भारतवंशी अमेरिकियों ने चीनी दूतावास के सामने प्रदर्शन किया, कहा- चीन के साथ आर्थिक संबंध टूटेंगे दुनिया के बड़े देश

2। चीन पर गंभीर आरोप: अमेरिका ने कहा- मुस्लिम महिलाओं का जबरन गर्भपात और पुरुषों की नसबंदी करा रही चीन की सरकार, दुनिया ने ऐसा दमन कभी नहीं देखा था

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *