Share this


बीजिंग / वॉशिंगटन6 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

यह अमेरिका का यू -2 स्पाय एयरक्राफ्ट है। 1950 में पहली बार नजर आया। इसके बाद कई बार अपग्रेड हुआ। चीन में पिछले दिनों ऐसे ही 2 एयरक्रॉफ्ट घुसे और कई घंटे मंडराते रहे। यू -2 को एंटी एयरक्रॉफ्ट मिसाइलें नहीं छू सकती हैं। (फाइल)

  • इस पूरे मामले की सबसे खास बात यह है कि जिस वक्त अमेरिकी प्लेन चीन में घुसे उस वक्त चीनी सेना मिलिट्री ड्रिल कर रही है।
  • अमेरिका के यू -2 स्पाय प्लेन काफी ऊंचाई से चीनी सेना की हरकतें रिकॉर्ड कर रही हैं, चीन को उनकी प्रतीक्षा के बाद खबर मिली

अमेरिका और चीन के बीच एक बार फिर तेजी से तनाव बढ़ गया है। चीन का आरोप है कि अमेरिका के दो एडवांस्ड यू -2 स्पाय प्लेन्स (जासूसी विमान) ने पिछले दिनों उसकी सीमा में घुसकर मिलिट्री ड्रिल को रिकॉर्ड किया। घटना उत्तरी चीन में हुई। हालांकि, सटीक लोकेशन की जानकारी नहीं दी गई। अमेरिका ने चीन के आरोप का खंडन तो नहीं किया, लेकिन कहा- हमने किसी नियम को नहीं तोड़ा।

दोनों देशों का यह तनाव इसलिए काफी गंभीर है क्योंकि पिछले ही महीने अमेरिका के दो फाइटर जेट्स शंघाई से महज 75 किलोमीटर की दूरी पर काफी देर तक उड़ान भरते नजर आए थे।

चीन ने कहा- ये नो फ्लाय जोन
चीन की डिफेंस मिनिस्ट्री के प्रवक्ता वु क्विन ने कहा- अमेरिकी नेवी के दो यू -2 एयरक्राफ्ट ने उत्तरी इलाके में हमारी सेना के अभ्यास की कई घंटे तक जासूसी की। इससे हमारी ट्रेनिंग पर असर हुआ। अमेरिका ने दोनों देशों के बीच समझौते का उल्लंघन किया है।

इससे कानूनी झड़प का खतरा
चीन के सरकारी मीडिया ने कहा- अमेरिका की यह हरकत बेहद खतरनाक है। अगर वो चीन के इलाके में घुसेगा तो इससे कानूनी झड़प हो सकती थी। बाद में यह बढ़ भी सकता था चीनी सेना वहाँ एक नहीं बल्कि दो जगह एक्सरसाइज कर रही थी।

अमेरिका ने जो कहा
अमेरिका ने चीन के आरोपों का खंडन नहीं किया। सीएनएन से बातचीत में यूएस एयरफोर्स ने कहा- हमने अपनी हद में रहकर ही काम किया है। किसी भी नियम को नहीं तोड़ा। हम पहले भी हिंद महासागर में निवेशेशन्स करते आए हैं। आगे भी रहेंगे। मिलिट्री एक्सपर्ट कार्ल चेस्टर ने कहा- मुझे चीन के दावे पर शक है। अमेरिका एयरक्रॉफ्ट को चीन में घुसने की जरूरत ही नहीं है। वे इतने हाईटेक हैं कि मीलों दूर से ही हर चीज की जानकारी हासिल कर सकते हैं।

चीन क्यों डार
यू -2 स्पाय एयरक्राफ्ट पहली बार 1950 में नजर आया। यानी ये करीब 70 साल पुराने हैं। ये कई बार अपग्रेड किए गए। अमेरिका के पास इनसे कई गुना बेहतर स्पायर एयरक्राफ्ट भी हैं। यू -2 70 हजार फीट उपर से जमीन पर हो रही छोटी से छोटी हरकत पर नजर रखी जा सकती है। फोटोग्राफर ले सकता है और एचडी वीडियो बना सकता है। विशेष बात यह भी है कि यह एंटी-एयरक्राफ्ट मिसाइल इसे छू भी नहीं सकता है।

लकीर पीटती रह गई चीनी सेना
कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि यू -2 एयरक्राफ्ट कई घंटे तक चीन के आसमान में 70 हजार फीट की ऊंचाई पर मंडराते होंगे। पूरी मिलिट्री एक्सराइट्स सेचर की। इसके बाद आराम से हिंद महासागर में अपने बेस पर लौट आए। चीन की सेना को इसकी भनक तक नहीं लगी। बाद में इमेजरी के जरिए इसका पता चला क्योंकि तब इनकी ऊंचाई काफी कम हो गई थी।

चीन-अमेरिका टकराव पर ये खबर भी आप पढ़ सकते हैं …
1. अमेरिकी फाइटर जेट्स ने शंघाई से महज 76 किमी दूर उड़ान भरी, 19 साल बाद चीन के लिए बड़ा खतरा; प्रश्नोत्तर में पूरा मामला
2. अमेरिका ने चीन से 72 घंटे में ह्यूस्टन कॉन्स्टिसुलेट बंद करने को कहा; यहाँ संवेदनशील दस्तावेज burnA go शक की संभावना

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *