Share this


नई दिल्ली17 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

चीन के राजदूत सुन वीडियोॉन्ग ने भारत-चीन संबंधों पर हुए वेबिनार में कहा कि व्यापार में किसी को नुकसान पहुंचाने की सोच नहीं रखनी चाहिए। (फाइल फोटो)

  • गलवान की झड़प के बाद भारत टिकटॉक सहित चीन के 106 ऐप पर बैन लगा दिया गया
  • भारत ने रंगीन टीवी के इंपोर्ट पर भी रोक लगाई, चीन इसका बड़ा एक्सपोर्टर है

चीन ने गुरुवार को कहा कि भारत से उसकी इकोनॉमी को अलग करने से दोनों देशों को नुकसान होगा। चीन के राजदूत सुन वीडियोॉन्ग ने कहा कि उनका देश भारत के लिए स्ट्रैटजिक नहीं है। चीन का ये बयान ऐसे समय आया है जब भारत ने पिछले दिनों चाइनीज ऐप बैन किए हैं और बॉर्डर पर दोनों देशों के बीच तनावपूर्ण घटना हुई है।

चीन के राजदूत भारत-चीन संबंधों पर इंस्टीट्यूट ऑफ चाइनीज स्टडीज, दिल्ली की तरफ से हुई वेबिनार में शामिल हो रहे थे। उन्होंने सहयोग का रवैया रखने की वकालत करते हुए कहा है कि किसी को नुकसान पहुंचाने की सोच नहीं रखनी चाहिए। साथ ही कहा कि हमारी अर्थव्यवस्थाएं एक-दूसरे पर टिकी हुई हैं। उन्हें जबरदस्त अलग करना ट्रेंड के खिलाफ है, इससे सिर्फ नुकसान होगा।

सरकार ने रंगीन टीवी के आयात पर रोक लगाई
डोमेस्टिक मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने और चीन जैसे देशों से गैर-जरूरी वस्तुओं का इंपोर्ट कम करने के मकसद से यह फैसला लिया गया।) भारतीय टीवी सेट के बड़े एक्सपोर्टर में चीन शामिल है।

व्यापार में सहयोग से इंडस्ट्रीज का विकास तेज: चीन
दूसरी ओर चीन के राजदूत ने कहा कि 2018-19 में भारत में 92% कंप्यूटर, 82% टीवी, 80% निष्कर्षण फाइबर, 85% अपार्टमेंट कंपोनेंट चीन से इंपोर्ट हुआ। इससे व्यापार में ग्लोबलाइजेशन का पता चलता है। आप चाहें या न चाहें, यह ट्रेंड को बदलना मुश्किल है। भारत-चीन के बीच ट्रेड को-ऑपरेशन से मोबाइल फोन, व्हाटहोल्ड एप्लायसेज, इन्फ्रास्ट्रक्टर, अटैक मेकिंग और मेडिसिन जैसी इंडस्ट्रीज का डेवलपमेंट तेज हुआ है।

चीन के सैनिक सभी मोर्चों से पीछे नहीं हटे: भारत
भारत ने पूर्वी लद्दाख में चीन के सैनिकों के पीछे हटने के दावों को खारिज किया है। विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि लद्दाख में सैनिकों के पीछे हटने का पूरा अभी तक पूरा नहीं हुआ है। इसके फॉरैंडर लेवल की बातचीत का अगला राउंड जल्द ही शुरू होगा। उम्मीद है कि चीन सीमा पर शांति के लिए जल्द ही शुद्धता दिखाएगा।

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *