Share this


वॉशिंगटन5 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

महामारी के दौरान उन विमानों की जांच की जाएगी, जिन्होंने सात या ज्यादा दिनों तक उड़ान नहीं भरी है। (फाइल फोटो)

  • कोरोनावायरस के दौरान जिन विमानों ने उड़ान नहीं भरी, उनके इंजन खराब होने की आशंका थी
  • बोइंग ने पुराने 737 विमानों के ऑपरेशर्स को जंग वाले इंजन वाल्व की जांच करने की सलाह दी

फेडरल एविएशिबा (एफएए) ने एयरलाइंस को चेतावनी दी है कि पुराने बोइंग 737 विमानों की जांच की जाएगी। कोरोनावायरस महामारी के दौरान स्टोरेज में रखे गए विमानों के वाल्व में जंग लगी हो सकती है। यह डयुअल-इंजन फेल होने का कारण बन सकता है।

एफएए ने गुरुवार को उड़ान से संबंधित एक इमरजेंसी निर्देश जारी किया। इसमें एयरलाइंस को लगभग दो हजार यूएस रेजर्ड बोइंग 737 एनजी और क्लासिक विमानों का निरीक्षण करने का आदेश दिया गया है। इन विमानों की जांच की जाएगी, जो सात या अधिक दिनों तक उड़ान नहीं भर पाएंगे।

बोइंग ने एक बयान में कहा कि महामारी के दौरान कम मांग के कारण प्लेन को स्टोर किया गया था। उड़ान नहीं भरने के कारण उनके वाल्व में जंग लगने की आशंका है। जब कभी भी इंजन को चालू किया जाता है तो 5 वीं अवस्था में जाता ही वाल्व अटक जाता है और एक इंजन बंद हो जाता है। ऐसे चार मामले रिपोर्ट किए गए, इसलिए आपातकालीन निर्देश जारी किए गए।

जंग वाले घाटी को बदलने के आदेश

बोइंग ने कहा कि उसने पुराने 737 विमानों के ऑपरेशर्स को जंग वाले इंजन वाल्व की जांच करने की सलाह दी है। यदि जंग पाया जाता है, तो वाल्व को विमान के उड़ान भरने से पहले संशोधित जाना चाहिए। निर्देश में 737 एनजी (600 से 900 सीरज) और 737 क्लासिक (737-300 से 737-500 सीरिज) शामिल हैं।

ये भी पढ़ें

हितेश एयरवेज़ ने ‘क्वीन ऑफ द स्काई’ कहे जाने वाले बोइंग 747 को किया रिटायर, पैसेंजर की कमी और मेंटेनेंस का ज्यादा खर्च बना फैसले की वजह

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *