Share this


अमृतसर6 मिनट पहलेलेखक: रविंदर सिंह रॉबिन

  • कॉपी लिस्ट

पाकिस्तान के सिंध प्रांत में एक हिंदू लड़की राम बाई का जबरन धर्म परिवर्तन कर पहले से शादीशुदा मुस्लिम युवक से निकाह कराने की घटना सामने आई है।

  • राम बाई का धर्मलिंग पीर जान आगा खान सरहंडी धर्मस्थल पर उनकी मर्जी के खिलाफ किया गया
  • इससे पहले एक शिक्षा देने वाली लड़की जगजीत कौर उर्फ ​​आयशा बी को लाहौर हाईकोर्ट ने अपने मुस्लिम पति के पास जाने का आदेश दिया था।

पाकिस्तान में हिंदू लड़कियों का जबरन धर्म परिवर्तन कर रहे मुस्लिम लड़कों से शादी कराए जाने की घटनाएं बढ़ रही हैं। हाल ही में एक मामला सिंध प्रांत से सामने आया है जहां हिंदू लड़की राम बाई का जबरन धर्म परिवर्तन कर पहले से शादीशुदा मुस्लिम युवक से शादी करा दी गई।

इस पूरे मामले में एक सूफ़ी धर्म की अहम भूमिका रही है। इतना ही नहीं लड़कियों को अगवा करने वालों के खिलाफ यहां की पुलिस केस भी दर्ज नहीं कर रही है। यहां तक ​​कि पाकिस्तान की अदालत भी अपने ही फेवर में फैसला दे रही है। इससे पहले एक शिक्षा लड़की जगजीत कौर उर्फ ​​आयशा बीबी को लाहौर हाईकोर्ट ने उसके मुस्लिम पति के पास जाने का आदेश दिया था। जगजीत पिछले एक साल से शेल्टर होम में रह रहे थे।

दक्षिण कोरिया के सियोल के रहने वाले पाक रोट एक्टिविस्ट रिले ऑस्टिन ने बताया कि राम बाई पाकिस्तान के सिंध प्रांत के मीरपुर खास जिले के जान मुहम्मद मारी की रहने वाली है, जिसका जबरन धर्म बदलकर एक मुस्लिम से शादी करा दिया गया है।

राम बाई की शादी 19 अगस्त को मोहम्मद अब्दुल्लाह से कराई गई। वह पहले से शादीशुदा है और उसका बच्चा भी हैं।

राम बाई की शादी 19 अगस्त को मोहम्मद अब्दुल्लाह से कराई गई। वह पहले से शादीशुदा है और उसका बच्चा भी हैं।

राम बाई का धर्म पालन पीर जान आगा खान सरहंडी धर्मस्थल पर उनकी मर्जी के खिलाफ किया गया। परिवार वालों ने इसका विरोध किया और थाना में शिकायत करने के लिए पहुंचे लेकिन पुलिस ने शिकायत दर्ज करने के बजाय उन्हें भगा दिया।

वे कहते हैं कि हाल के वर्षों में इस तरह की कई घटनाएं हुई हैं। कई हिंदू-हिंदू लड़कियों का जबरन धर्म परिवर्तन पीर जान आगा खान सरहंदी में किया गया है। राहत ने बताया कि राम बाई की शादी 19 अगस्त को मोहम्मद अब्दुल्लाह से कराई गई। वह पहले से शादीशुदा है और उसका बच्चा भी हैं। इतना ही नहीं लड़की से एक एफिडेवेट पर साइन भी किया गया। जिसमें लिखा गया कि उसने अपनी मर्जी से शादी की है।

पाकिस्तान में हिंदू लड़कियों से एफिडेविट पर लिखा जा रहा है कि वह अपनी मर्जी से शादी कर रही हैं और धर्म परिवर्तन कर रही हैं ताकि कोई कानूनी पेंच न हो।

पाकिस्तान में हिंदू लड़कियों से एफिडेविट पर लिखावाया जा रहा है कि वह अपनी मर्जी से शादी कर रही हैं और धर्म परिवर्तन कर रही हैं ताकि कोई कानूनी पेंच न हो।

वे कहते हैं कि असहाय लड़कियों से इसलिए कर करवाया जा रहा है ताकि भविष्य में कोई कानूनी दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़े। राहत कहते हैं कि अब यह कॉमन तरीका हो गया है। हिंदू और माइनॉरिटी लड़कियों से जबरन शादी करने वाले मुसलमान अब यही तरकीब अपना रहे हैं।

सूत्रों के मुताबिक कई धर्मगुरु जो हिंदू और क्रिश्चियन लड़कियों का धर्म परिवर्तन करते हैं, वे अक्सर उन लड़कियों का यौन शोषण करते हैं। वे उन्हें परिवार और पुलिस के पास भेजने के बजाय वे अगवा करने वालों को आश्रय देते हैं।

यह भी पढ़ें:

1। कहानी पाकिस्तान की पढ़ी लड़की की / एक साल शेल्टर होम में गुजरा, इसके बावजूद हारना पड़ा, जिस लड़के ने अपहरण किया था उसी का घर होगा जगजीत कौर का ससुराल

2। कराची में आस्था पर हमला / पाकिस्तान में 80 साल पुराना हनुमान मंदिर तोड़ा, 20 हिंदुओं के घर भी जमींदोज; लोकलिस्टा लेखक के साथ

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *