Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • भारत अमेरिका डोनाल्ड ट्रम्प अपडेट | व्हाइट हाउस नवीनतम समाचार; डोनाल्ड ट्रम्प भारत में किसी भी अमेरिकी राष्ट्रपति से बेहतर हैं

वॉशिंगटन24 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

यह फोटो सितंबर 2019 की है। उस समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका के ह्यूस्टन में हाऊडी मोदी कार्यक्रम किया था। इस दौरान ट्रम्प ने अपने साथ मंच साझा किया था।

  • व्हाइट हाउस सिक्योरिटी काउंसिल के मुताबिक, ट्रम्प प्रशासन के दौरान अमेरिका भारत को हथियार देने वाला दूसरा सबसे बड़ा देश बना है
  • एक दशक पहले तक अमेरिका भारत को हथियार नहीं बेचना था, ट्रम्प के राष्ट्रपति बनने के बाद इसने भारत को 1490 हजार करोड़ रुपये के हथियार दिए थे।

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प भारत के साथ रिश्ते मजबूत करने के मामले में देश के किसी भी राष्ट्रपति से बेहतर हैं। बीते साढ़े तीन वर्षों में ट्रम्प ने कई क्षेत्रों में भारत के साथ साझेदारी बढ़ाई है। ट्रम्प के राष्ट्रपति रहते ही अमेरिका ने बिना पहले समझौते किए भारत को आर्म्ड एमक्यू -9 अनमैन्ड एरियल सिस्टम दिया है। आने वाले दिनों में वह दोनों देशों के रिश्ते और भी बेहतर बनाने के लिए काम करते रहेंगे।

व्हिट हाउस के मुताबिक, भारत-अमेरिका कोरोना महामारी के बाद भी साथ आए हैं। दोनों देशों की फार्मा कंपनियों ने ड्रग्स की ग्लोबल सप्लाई जारी रखी। वैक्सीन तैयार करने के लिए भी दोनों देशों की कंपनियों के साथ काम कर रहे हैं। व्हाइट हाउस सिक्योरिटी काउंसिल के एक वरिष्ठ अफसर ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को दिए इंटरव्यू में ये बातें कहीं।

अमेरिका भारत को हथियार देने वाला दूसरा बड़ा देश
व्हाइट हाउस सिक्योरिटी काउंसिल के मुताबिक, ट्रम्प प्रशासन में अमेरिका भारत को हथियार देने वाला दूसरा सबसे बड़ा देश बना है। एक दशक पहले तक दोनों देशों के बीच हथियारों के निवेश नहीं होते थे, लेकिन ट्रम्प के आने के बाद अमेरिका ने भारत को 20 अरब डॉलर (1490 हजार करोड़ रुपये) के हथियार बेचे हैं।

इस वर्ष 3 अरब डॉलर (लगभग 224 करोड़ रुपए) के स्टॉक का सौदा हुआ है। इसके तहत अमेरिका भारत को एमएच -60 आर नेवल हेलिकॉप्टर और एएच -64 अपाचे हेलिकॉप्टर।

ट्रम्प और मोदी के एक दूसरे के देशों के दौरे से दोस्ती गहरी हुई
ट्रम्प और भारत के प्रधानमंत्री मोदी ने एक दूसरे के देशों का दौरा किया है। इससे दोनों देशों के बीच दोस्ती गहरी हुई है। 26 जून 2017 को ट्रम्प के राष्ट्रपति बनने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व्हाइट हाउस आए थे। सितंबर 2019 में मोदी ने ह्यूस्टन में हाऊडी मोदी कार्यक्रम में हिस्सा लिया, जिसमें 55 हजार से ज्यादा लोग शामिल हुए।

ट्रम्प ने फरवरी 2020 में गुजरात में नमस्ते ट्रम्प कार्यक्रम में लगभग 11 लाख लोगों को संबोधित किया। इन कार्यक्रमों से भारत और अमेरिका के लोगों के बीच आपसी रिश्तों में मजबूती आई है।

ट्रम्प ने हिंद-प्रशांत क्षेत्र में शांति सेना की कोशिश की

भारत और अमेरिका के पास प्रशांत-प्रशांत क्षेत्र में जहाजों की आवाजाही आसान बनाने की दिशा में काम किया गया, ताकि ग्लोबल सप्लाई चेन पिंक रखी जाए। इसके लिए अमेरिका ने भारत के साथ ही ऑस्ट्रेलिया और जापान को भी विश्वास में लिया। चारों देशों के विदेश मंत्री ने इस क्षेत्र में शांति बहाली रखने से जुड़े मुद्दों पर चर्चा करने के लिए सितंबर 2019 में पहली बार बैठक भी की।

ट्रम्प से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ें …

1 है। अमेरिका में आज अगर चुनाव हों तो ट्रम्प को बहुमत से लगभग 150 सीटें कम मिलेंगी, कोरोना की वैक्सीन बदल सकती हैं:

२। ट्रम्प ने कहा- कमला हैरिस को उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाकर बिडेन ने गलत किया, मेरे पास उन्हें ज्यादा भारतीयों का समर्थन है।

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *