Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • पाकिस्तान पर नवीनतम समाचार; मुस्लिम धर्मगुरु लाहौर में सिख समुदाय को धमकाता है, गुरुद्वारा जमीन पर कब्जा करने का इरादा रखता है

लाहौर32 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

मौलवी सोहल बट्‌ट ने कहा कि गुरुद्वारे शहीद भाई तरु सिंह की जमीन पैगम्बर हजरत शाह का कुमा चैती दरगाह की है। -फाइल फोटो

  • लाहौर के शहीद भाई तरु सिंह गुरुद्वारे को दरगाह की जगह बताकर कब्जा कर लिया
  • वीडियो जारी कर सिखाओं को धमकाया, विरूपण में आईएसआई का अफ़सर भी शामिल है

पाकिस्तान में कट्हटरेंटिस के हौसले बढ़ते जा रहे हैं। लाहौर में एक मौलवी ने गुरुद्वारे की जमीन पर कब्जा कर लिया। उन्होंने वीडियो जारी कर सिखाओं कोनिंग दी है कि पाकिस्तान इस्लामी देश है और यहां सिर्फ मुस्लिम रह सकते हैं।

मौलवी सोहैल बट्टट दावत-ए-इस्लामी (बरेलवी) से जुड़ा है। वह लाहौर में मुस्लिम पैगम्बर हजरत शाह काकु चिश्ती दरगाह का कैरटेकर भी है। उन्होंने स्थानीय लोगों के साथ मिलकर गुरुद्वारा शहीद भाई तरु सिंह की जमीन पर कब्जा कर लिया। इसके बाद वीडियो जारी कर पाकिस्तान गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (पीजीपीसी) के पूर्व अध्यक्ष गोपाल सिंह चावला कोनिंग दी। गोपाल चावला ने गुरुद्वारा में पिछले साल श्री निसाल साहिब (सिख प्रतीक) को फहराया था।

आईएसआई का अफसर भी शामिल
सोहेल ने दावा किया कि गुरुद्वारा और उसके आसपास की 4 से 5 कनाल जमीन हजरत शाह काकु चिश्ती दरगाह और शहीदगंज मस्जिद की है। सूत्रों के मुताबिक सोहेल ने यह सब कुछ भू माफियाओं के इशारे पर किया है। इसमें एक आईएसआई का अफसर जेन टैक्सी भी है।

कहा- सिखों की गुंडागर्दी नहीं चलेगी
सोहैल ने वीडियो में कहा, “एक मुस्लिम राष्ट्र होने के नाते पाकिस्तान केवल मुस्लिमों का है। 1947 में पाकिस्तान के बनने के समय लगभग 20 लाख मुस्लिमों ने जीवन गंवाया था। ये सिखा गुंडागर्दी दिखा रहे हैं। यह एक इस्लामिक राष्ट्र है, वे कैसे। गुंडागर्दी दिखा रहे हैं? ऐतिहासिक रिकॉर्ड बताते हैं कि यह साइट हमारी है। ” वीडियो में वह कम्युनिटी लीडर गोपाल सिंह चावला और फौजा सिंह कोनिंग दे रहा है। फौजा और चावला दोनों खालिस्तान समर्थक हैं।

भाई तारू सिंह के नाम पर गुरुद्वारा है
यह गुरुद्वारा भाई तरु सिंह के शहीद स्थल पर बना है। यहां पर 1726 में मुगल काल के दौरान वायसराय जकारिया खान ने इस्लाम न स्वीकारने पर भाई तरु सिंह का सिर दिया था। पाकिस्तान में कई ऐतिहासिक सिख गुरुद्वारे ऐसे हैं जो या तो जर्जर हालात में हैं या फिर भू-माफिया और स्थानीय लोगों के कब्जे में हैं। हिंदू और सिखों को टॉर्चर किया जाता है।

ये खबरें भी पढ़ सकती हैं …

1। अफगान से लौटे सिखाते हैं: अफगान के पहाड़ी इलाकों में तालिबानी जानवरों की तरह घूमते हैं, वो मेरी मुखियाँ और नाक काटने की बात कहते थे

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *