Share this


वॉशिंगटन13 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

अमेरिकी विदेश विभाग की प्रवणता मॉर्गन ऑर्टागस ने कहा- हमने हॉन्गकॉन्ग के अधिकारियों को तीन द्विपक्षीय सम्मेलनों के निलंबन को लेकर 19 अगस्त को इंगित किया। (फाइल फोटो)

  • ‘ट्रम्प ने कहा है कि अमेरिका उनके खिलाफ कार्रवाई करेगा, जो हॉन्गकॉन्ग के लोगों की आज की हत्याओं को रद्द करेगा।
  • ‘चीन ने सिनो-ब्रिटिश संयुक्त घोषणापत्र का उल्लंघन किया, जिसमें कहा गया था कि हॉन्गकॉन्ग में 50 साल तक स्वायत्त क्षेत्र रहेगा ‘

अमेरिकी विदेश विभाग की प्रवक्ताओं मॉर्गन ऑर्टागस ने बुधवार को कहा कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने स्पष्ट रूप से कहा है कि अमेरिका उनके खिलाफ कार्रवाई करेगा, जो हॉन्गकॉन्ग के लोगों की आजादी को तोड़ दिया है। अमेरिका हॉन्गकॉन्ग को एक देश, एक प्रणाली के रूप में समझेगा।

मॉर्गन ने कहा- चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने हॉन्गकॉन्ग की आजादी खत्म करने के लिए कठोर कदम उठाए हैं। चीन ने सिनो-ब्रिटिश संयुक्त घोषणापत्र के तहत ब्रिटेन को वादा किया था कि हॉन्गकॉन्ग में 50 साल तक स्वायत्त क्षेत्र के नियम लागू रहेंगे।

द्विपक्षीय सहमति का निलंबन

प्रवक्ता ने कहा कि हमने हॉन्गकॉन्ग के अधिकारियों को तीन द्विपक्षीय सहमति के निलंबन को लेकर 19 अगस्त को चिह्नित किया। इन धारणाओं में भगोड़े अपराधियों के आत्मसमर्पण, जहाजों के आंतरिक ऑपरेशन से प्राप्त आय पर टैक्स छूट, सजा प्राप्त व्यक्तियों का ट्रांसफर शामिल है।

चीन ने हॉन्गकॉन्ग में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लागू कर वहां के लोगों की आजादी पर हमला किया। हालांकि, चीन ने कहा था कि आतंकवाद और अलगाववाद से निपटने के लिए यह कानून बेहद जरूरी है। 1 जुलाई से हॉन्गकॉन्ग में यह कानून प्रभावी हो गया है।

अमेरिका सहित कई देशों ने विरोध किया था

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा था कि हॉन्गकॉन्ग को अब पहले की तरह व्यापार का विशेष दर्जा नहीं मिलेगा। अब यह मुख्य वित्तीय केंद्र नहीं रहेगा। अमेरिका को उम्मीद थी कि हॉन्गकॉन्ग आजादी से काम करके चीन के लिए उदाहरण पेश करेगा। हालाँकि, अब यह स्पष्ट हो गया है कि चीन, हॉन्गकॉन्ग को अपने मॉडल पर ढाल रहा है।

ये भी पढ़ें …

चीन ने विवादित सुरक्षा कानून किया है: एक्टिवचर्स ने कहा- यह कानून हॉन्गकॉन्ग की स्वतंत्रता कमजोर होगा, ब्रिटेन और अमेरिका सहित कई देशों ने इसका विरोध किया था।

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *