Share this


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • नरेंद्र मोदी केपी शर्मा ओली | नरेंद्र मोदी नेपाल के प्रधान मंत्री केपी शर्मा ओली से नेपाल और भारत के बीच सहयोग के बारे में बात करते हैं।

काठमांडू15 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के साथ मोदी। ओली ने शनिवार रात मोदी को फोन किया। दोनों के बीच यह 10 अप्रैल के बाद पहली बातचीत थी। ओली सरकार ने पिछले कुछ महीनों में भारत विरोधी रुख दिखाया है। (फाइल)

  • नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने कुर्सी बचाने की खातिर बीते महीनों में भारत विरोधी बयानबाजी की
  • ओली के बयानों पर मोदी ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी थी, अब चार महीने बाद ओली ने खुद प्रधानमंत्री मोदी को फोन किया

कुछ महीनों से भारत विरोधी बयानबाजी कर रहे नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने शनिवार रात नरेंद्र मोदी को फोन किया। दोनों पक्षों के बीच 10 अप्रैल के बाद पहली बार बातचीत हुई। ओली ने मोदी और भारत की जनता को 74 वें स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी। दोनों प्रमुखों के बीच आपसी सहयोग के मुद्दों पर भी बातचीत हुई।

भारत और नेपाल के बीच कुछ महीनों से सीमा विवाद को लेकर तनाव है। नेपाल ने पिछले महीने अपना नया नक्शा जारी किया था। इसमें भारत के हिस्से वाले कालेपन और लिम्पियाधुरा को अपना बताया गया। ओली ने असली अयोध्या नेपाल में होने का भी दावा किया था।

ओली के एडवाइजर ने दी जानकारी
ओली के फॉरेन रिलेशन एडिवजर रंजन भट्टुराई ने शनिवार रात मीडिया को दोनों पक्षों के बीच बातचीत की जानकारी दी। रंजन ने कहा- हम हमेशा से बातचीत की पक्ष में रहे हैं। प्रधानमंत्री ओली ने इसलिए भारत के प्रधानमंत्री को फोन किया था। अब देखना यह है कि दोनों देशों के बीच बातचीत का सिलसिला किस तरह आगे बढ़ता है। खास बात यह है कि भारत की तरफ से इस बारे में कोई बयान जारी नहीं किया गया।

ओली में
भारत और नेपाल के बीच सोमवार यानी 17 अगस्त को एक महत्वपूर्ण बातचीत हो रही है। इसमें भारत द्वारा नेपाल में गए जा रहे विकास परियोजनाओं पर चर्चा होगी। ज्यादातर प्रोजेक्ट्स सीधे तौर पर जनता के हित से जुड़े हैं। ओली चीन के दबाव में हैं। लेकिन, वह चाहकर भी भारत द्वारा चलाए जा रहे प्रोजेक्ट्स की अनदेखी करने की स्थिति में नहीं हैं। भारत विरोधी बयानों के लिए खुद उनकी पार्टी अपने प्रधानमंत्री का विरोध कर रही है। लिहाजा, ओली पर हर तरफ से दबाव है।

बयानबाजी को भारत ने तवज्जो नहीं दी
भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने दो महीने पहले जब कालापानी, लिपुलेख और लिम्पियाधुरा को जोड़ने वाली सड़क का उद्घाटन किया तो नेपाल ने इसका विरोध किया और इसे अपना हिस्सा बताया। पिछले महीने के दावे की पुष्टि के लिए उन्होंने नया नक्शा जारी किया। इसे भारत को भी भेजा गया। भारत ने इसे बहुत तवज्जो नहीं दी। सिर्फ इतना कहा कि समय आने पर इस बारे में नेपाल से बातचीत की जाएगी।

ओली ने फिर धार्मिक कार्ड खेलने का प्रयास किया। राम का जन्म अयोध्या के चितवन जिले में होने का दावा किया। कुछ दिनों पहले अफसरों को आदेश दिया कि इस जिले को अयोध्यापुरी के रूप में विकसित किया जाए। राम मंदिर बनाने के भी आदेश दिए। पांच अग मोदी ने अयोध्या में राम मंदिर का भूमिपूजन किया था। इसमें नेपाल के पुजारी भी शामिल थे। लिहाजा, ओली की यह चाल घर में भी फ्लॉप हो गई थी।

नेपाल से जुड़ी ये खबरें भी आप पढ़ सकते हैं …

1नेपाल की सत्ताधारी पार्टी में टूट का खतरा टला, ओली और प्रचंड समझौते के लिए गांधी, प्रधानमंत्री ओली के इस्तीफे की मांग छोड़ने को भी तैयार प्रचंड।

2। नेपाल में फिर सियासी घमासान, प्रधानमंत्री ओली के विरोधी प्रचंड ने कहा- प्रधानमंत्री जिद पर अड़े हैं, पार्टी में टूट की आशंका अब सबसे ज्यादा

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *