Share this


काठमांडू2 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

नेपाल के प्रधान केपी शर्मा ओली के साथ चीन की एम्बेसेडर हो यांगकी। आरोप है कि यांग्की नेपाल के आंतरिक मामलों और सियासत में हस्तक्षेपल हैं। (फाइल)

  • नेपाल में विदेशी डिप्लोमैट्स लगातार यहां अलग-अलग हिस्सों के नेताओं से सीधी मुलाकात कर लेते थे
  • चीन की एम्बेसेडर ने तब सारी हदें पार कर दीं थीं, वे सीधे राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से मिल रहे थे

नेपाल के विदेश मंत्रालय ने विदेशी राजनयिकों के लिए नियमों में बदलाव का फैसला किया। यानी प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की सरकार के डिप्लोमैटिक कोड ऑफ कंडक्ट ’की जा रही है। इसके तहत अब कोई भी फॉरेन डिप्लोमैट किसी भी नेता से सीधी मुलाकात नहीं कर सकेगा। इसके लिए दूसरे देशों की तरह एक तय प्रक्रिया या प्रॉपर डिप्लोमैटिक प्रोटोकॉल और एसएम होगा।

कुछ महीने से नेपाल में सियासी संकट चल रहा है। इस दौरान चीन की राजदूत ने सत्तारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) के कई नेताओं के अलावा राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी से तक की मुलाकात की थी। इसको लेकर नेपाली मीडिया और यहां तक ​​कि आम लोगों ने सवाल उठाए थे।

बदलाव की जरूरत है क्यों
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नेपाल की फॉरेन मिनिस्ट्री चाहती है कि डिप्लोमैटिक प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन किया जाए। लिहाजा, नेपाल में भी समान नियम होने चाहिए जो अन्य देशों में हैं। विदेश मंत्री प्रदीप गवली ने माना है कि कोड ऑफ कंडक्ट में बदलाव किए जा रहे हैं। 2016 के कोड ऑफ कंडक्ट में बदलाव का प्रस्ताव तैयार हुआ था। बाद में इसे ठंडे बस्ते में डाल दिया गया।

तैयारी भी शुरू
फॉरेन मिनिस्ट्री ने सात प्रांतों में अपने सात सेक्शन ऑफिसर भेजे हैं। इनकी तैनाती अब यही रहेगी। इन सेक्शन ऑफिसर की यह ज़िम्मेदारी होगी कि कोई भी फ़ारेन डिप्लोमैट राज्य के किसी भी मंत्री या मुख्यमंत्री से प्रोटोकॉल तोड़कर मुलाकात का कोई फ़ायदा न पाए। इस नियम के दायरे में सभी राजनीतिक दल और नेता आएंगे। कवायद का मकसद है कि फोरेन डिप्लोमैट्स और मिशन नियमों का सख्ती से पालन करें।

चीनी राजदूत की हरकत
अप्रैल और जुलाई की शुरुआत में चीन की एम्बेसेडर हो यांगकी ने राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी से सीधी मुलाकात की। एनपीसीपी के कई प्रमुखों और प्रधानमंत्री ओली से भी उन्होंने प्रोटोकॉल के उलट मुलाकात की। इससे नेपाल में नाराजगी दिखी। भारत के एम्बेसेडर के बारे में भी यही कहा गया है कि वे सही लोगों से मुलाकात करते हैं। इस दौरान लद्दाख में चीन और भारत का तनाव चरम पर था। चीन की शह पर नेपाल ने भी भारत को आंखें दिखाने की कोशिश की थी।

नेपाल से जुड़ी ये खबरें भी आप पढ़ सकते हैं …
1. चीन की एम्बेसेडर यांगकी ने ही मई में ओली की कुर्सी बचाई थी, इस बार वे राष्ट्रपति और ओली के कट्ह्टर विरोधी माधव कुमार से मिलीं
2. नेपाल के पीएमओ से लेकर आर्मी हेडक्वार्टर तक होउ यांगकी की पहुंच, भारत-नेपाल सीमा विवाद के पीछे भी इनका ही अहम रोल

0



Source link

By GAUTAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *